Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजNDTV ने फैलाया झूठ, कहा पुलिस के पास पर्याप्त लोग नहीं; कमिश्नर ने कहा-...

NDTV ने फैलाया झूठ, कहा पुलिस के पास पर्याप्त लोग नहीं; कमिश्नर ने कहा- झूठ मत फैलाओ

186 घायल, 11 मौतें... दिल्ली में फिर भड़की हिंसा, 4 क्षेत्रों में धारा-144, अतिरिक्त पुलिस बल तैनात। NDTV समेत कुछ समाचार एजेंसियों ने ख़बर चलाई थी कि दिल्ली पुलिस को गृह मंत्रालय से पर्याप्त बल नहीं मिला है, जो कि ग़लत है।

दिल्ली में दंगाई लगातार अपनी ख़तरनाक गतिविधियाँ बढ़ाते जा रहे हैं। पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने बताया है कि राज्य में पर्याप्त पुलिस बलों की तैनाती की है। उन्होंने कहा कि कुछ समाचार एजेंसियों ने ख़बर चलाई थी कि दिल्ली पुलिस को गृह मंत्रालय से पर्याप्त बल नहीं मिला है, जो कि ग़लत है। इनमें से NDTV का नाम प्रमुख है। उन्होंने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय लगातार दिल्ली पुलिस की सहायता कर रहा है और उनके पास पर्याप्त बल उपलब्ध कराए गए हैं। पटनायक ने आश्वासन दिया कि उपद्रवियों को बख्शा नहीं जाएगा। दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता एमएस रंधावा ने कहा कि पुलिस की पहली प्राथमिकता स्थिति को नियंत्रित करने की थी, जो हो गई है।

रंधावा ने बताया कि जितने भी एफआईआर रजिस्टर किए गए हैं, उन सभी के अंतर्गत जाँच होगी और इस दंगे के मुख्य साज़िशकर्ता को पकड़ा जाएगा। वहीं उधर एमनेस्टी इंडिया ने कहा है कि कुछ नेतागण घृणा फैला रहे हैं, जिन पर रोक लगनी चाहिए। गाज़ियाबाद शहर में भी धारा-144 लगा दिया गया है और साथ ही सारे शराब की दुकानों को बंद कर दिया गया है। मुस्तफाबाद में एक क्षेत्र में आगजनी की गई, जिसके बाद वहाँ से SOS संदेश भेजा गया। वहाँ फायर ब्रिगेड, पुलिस और मीडिया से मदद माँगी गई है।

करावल नगर, मौजपुर, चाँदपुर और बाबरपुर- दिल्ली के इन चार थाना क्षेत्रों में धारा-144 लगा दिया गया है। उधर लखनऊ में भी सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। साथ ही अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती की गई है। अलीगढ़ में क़ानून-व्यवस्था पहले से ही तगड़ी रखी गई है। उधर सीएए दंगाइयों की हिंसा के दौरान वीरगति को प्राप्त हुए पुलिस कॉन्स्टेबल रतन लाल के पार्थिव शरीर को उनके बुरारी स्थित निवास पर लाया गया। दिल्ली के चाँदबाग़ इलाक़े में भी फिर से हिंसा भड़कने की ख़बर है। वहाँ पुलिस को स्थिति नियंत्रित करने के लिए आँसू गैस के गोले दागने पड़े।

सबसे ज्यादा स्थिति नार्थ-ईस्ट दिल्ली में ख़राब है। ड्रोन कैमरों के जरिए निगरानी रखी जा रही है। दिल्ली पुलिस ने बताया है कि अब तक उसके 56 जवान घायल हुए हैं, वहीं 130 नागरिक भी घायलों की सूची में शामिल हैं। स्पेशल सीपी सतीश गोलछा ने कहा कि खजूरी ख़ास इलाक़े में हिंसा भड़काने वालों को जल्द शिकंजे में लिया जाएगा। पुलिस ने दोषियों के ख़िलाफ़ लीगल एक्शन लेने की बात कही है। भजनपुरा क्षेत्र में धारा-144 लगने के बाद से स्थिति नियंत्रण में है।

दिल्ली के खजूरी ख़ास में पुलिस और रैपिड एक्शन फोर्स ने मिल कर फ्लैग मार्च भी किया। कॉन्ग्रेस पार्टी ने हिंसा पर चर्चा के लिए अपनी वर्किंग कमिटी की बैठक बुलाई है। दिल्ली के एलजी अनिल बैजल ने भी शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की है। जीटीबी अस्पताल में एक और व्यक्ति की मौत के बाद अब तक हिंसा में मरने वालों की संख्या 11 हो गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe