Saturday, September 18, 2021
Homeदेश-समाजVideo: जामिया-राजघाट मार्च के दौरान एक युवक ने लहराई पिस्तौल, फायरिंग में एक घायल

Video: जामिया-राजघाट मार्च के दौरान एक युवक ने लहराई पिस्तौल, फायरिंग में एक घायल

कुछ लोगों का कहना है कि ये सब पहले से सुनियोजित था क्योंकि जहाँ ये सब हुआ वहाँ पहले से सब कैमरे तैयार थे, जैसे उनका फोकस उसपर ही हो। किसी में कोई हड़बड़ाहट नहीं है, जैसे उन्हें मालूम हो, सामने बंदूक लेकर खड़ा युवक उन्हें गोली नहीं मारेगा।

नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के विरोध में गुरुवार (जनवरी 30,2020) को जामिया से लेकर राजघाट तक हुए मार्च के दौरान एक युवक ने बीच सड़क पर गोली चला दी। इस घटना में पत्रकारिता का एक छात्र घायल हो गया। घायल छात्र का नाम शादाब है। मौक़े पर मौजूद पुलिस ने गोली चलाने वाले युवक को तुरंत गिरफ्तार कर लिया। आरोपित की पहचान गुलशन (बदला हुआ नाम) के रूप में हुई।

गौरतलब है कि सीएए एनआरसी के विरोध में जामिया मिलिया इस्लामिया के सामने से राजघाट तक मार्च शुरू होने के बाद ये घटना घटी। जिसमें बड़ी संख्या में जामिया नगर, शाहीन बाग, ओखला, नूर नगर आदि इलाकों के लोग शामिल थे।

पहले की घटनाओं को देखते हुए पुलिस को आशंका थी कि इस मार्च के दौरान भी कुछ हो सकता है। इसलिए पहले से ही उन्होंने जगह-जगह भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया हुआ था।

बीच सड़क पर बंदूक चलाने वाले इस युवक को लेकर सोशल मीडिया पर दो तरह के मत आ रहे हैं। कुछ लोग युवक द्वारा लगाए गए नारों से उसकी पहचान कर रहे हैं। उसे संघी आतंकी बता रहे हैं और लगातार इस घटना को लेकर भाजपा को घेरा जा रहा है।

लेकिन, वहीं कुछ लोगों का कहना है कि ये सब पहले से सुनियोजित था क्योंकि जहाँ ये सब हुआ वहाँ पहले से सब कैमरे तैयार थे, जैसे उनका फोकस उसपर ही हो। किसी में कोई हड़बड़ाहट नहीं है, जैसे उन्हें मालूम हो, सामने बंदूक लेकर खड़ा युवक उन्हें गोली नहीं मारेगा।

अपडेट: नई सूचनाओं के आने से हमें पता चला है कि जामिया में गोली चलाने का आरोपित नाबालिग है, अतः सम्बद्ध कानूनों के अनुसार उसका नाम बदल दिया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,067FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe