Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजपकड़ा गया जहाँगीरपुरी में हिंदुओं की शोभा यात्रा पर गोली चलाने वाला फरीद: बंगाल...

पकड़ा गया जहाँगीरपुरी में हिंदुओं की शोभा यात्रा पर गोली चलाने वाला फरीद: बंगाल में मौसी के घर छिपा था, पहले से भी दर्ज हैं कई मामले

इससे पहले पुलिस ने जाफर और बाबुद्दीन को गिरफ्तार किया था। जाफर भीड़ में हथियारों के साथ दिखा था, जबकि बाबुद्दीन शोभा यात्रा में शामिल लोगों पर हमले के लिए उकसा रहा था।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पश्चिम बंगाल से फरीद को पकड़ा है। वह जहाँगीरपुरी में हनुमान जन्मोत्सव पर निकाली गई शोभायात्रा पर हुए हमले के मामले में आरोपित है। उस पर हिंदू जुलूस पर पहली फायरिंग का आरोप है। उसकी गिरफ्तारी 28 अप्रैल 2022 (गुरुवार) को हुई। उस पर पहले से भी चोरी, डकैती जैसे कुल छह आपराधिक मामले दर्ज हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस को 34 साल के फरीद की लोकेशन पश्चिम बंगाल के पूर्व मेदनीपुर जिले के तामलुक में मिली थी। यहीं से उसे पकड़ा गया। तामलुक के पुलिस अधिकार अरुप सरकार ने बताया कि उसने अपनी मौसी के घर पनाह ले रखी थी। उनके अनुसार फरीद का परिवार अब बंगाल में नहीं रहता। वह मूल रूप महिसदल इलाके से ताल्लुक रखता है। 34 साल पहले यहॉं से जाकर उसका परिवार दिल्ली में बस गया था।

दिल्ली पुलिस उसे आज शुक्रवार (29 अप्रैल 2022) कोर्ट में पेश करेगी। जहाँगीरपुरी हिंसा के कुछ वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुए थे। फरीद इनमें दिखा। CCTV फुटेज की जाँच के बाद पुलिस ने भी उसे गोली चलाते पाया था। पुलिस उसे दंगों के मुख्य साजिशकर्ताओं में से एक मान रही है। उस पर लोगों को पत्थरबाजी के लिए भड़काने का भी आरोप है। हिंसा के बाद वह अपने घर से भाग गया था। तब से दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और क्राइम ब्रांच उसकी तलाश कर रही थीं। जानकारी के मुताबिक फरीद साल 2010 से अपराध की दुनिया में सक्रिय है। पुलिस रिकॉर्ड में वह जहाँगीरपुरी क्षेत्र का हिस्ट्रीशीटर बताया जा रहा है।

गौरतलब है कि इससे एक दिन पहले बुधवार (27 अप्रैल 2022) को पुलिस ने हनुमान जयंती शोभायात्रा पर हमले के आरोप में जाफर और बाबुद्दीन को गिरफ्तार किया था। जाफर भीड़ में हथियारों के साथ दिखा था, जबकि बाबुद्दीन शोभा यात्रा में शामिल लोगों पर हमले के लिए उकसा रहा था। दोनों आरोपित जहांगीरपुरी के निवासी हैं और मुख्य आरोपित अंसार के नजदीकी बताए जा रहे हैं।। इन पर हिंसा के ही दिन 16 अप्रैल को केस दर्ज हुआ था।

16 अप्रैल 2022 को हनुमान जन्मोत्सव के मौके पर हिंदुओं ने शोभा यात्रा निकाली थी। इस पर कट्टरपंथी मुस्लिमों ने हमला कर दिया था। शोभा यात्रा पर पथराव किया गया। काँच की बोतलों से हमला किया गया था। हिंसा में कई लोग बुरी तरह घायल हुए थे। दंगाइयों द्वारा चलाई गई गोली में एक पुलिसकर्मी भी घायल हो गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -