Tuesday, June 18, 2024
Homeदेश-समाजअंसार के करीबी जफर और बाबुद्दीन गिरफ्तार: जहाँगीरपुरी में शोभा यात्रा पर फेंके थे...

अंसार के करीबी जफर और बाबुद्दीन गिरफ्तार: जहाँगीरपुरी में शोभा यात्रा पर फेंके थे बोतल, लहराए थे तलवार

जाँच एजेंसियों ने ऐसे 22 संदिग्ध मोबाइल नम्बरों की पहचान की है जो हिंसा से पहले उस क्षेत्र में सक्रिय थे। इन नंबरों में कुछ दिल्ली में फरवरी 2020 में हुए हिन्दू विरोधी दंगों के समय भी एक्टिव थे।

हनुमान जन्मोत्सव पर निकाली गई शोभायात्रा पर जहाँगीरपुरी में हुए हमले के सिलसिले में दिल्ली पुलिस ने दो और गिरफ्तारी की है। इनकी पहचान जफर और बाबुद्दीन के तौर पर हुई है। दोनों हिंसा के मुख्य आरोपित अंसार के करीबी बताए जा रहे हैं। पुलिस के अनुसार 16 अप्रैल 2022 को हुई हिंसा के दौरान जफर और बाबुद्दीन पर काँच की बोतलों से हमला करने और तलवारें लहराने का आरोप है।

आज तक की रिपोर्ट के मुताबिक गिरफ्तार दोनों आरोपित सगे भाई हैं। इन दोनों की हिंसा के मुख्य आरोपित अंसार से जान-पहचान है। दोनों को पुलिस ने CCTV फुटेज में देखा था। दोनों पत्थरबाजी में भी शामिल थे। अंसार ने भी पूछताछ में दोनों के बारे में बताया था।गिरफ्तारी के बाद क्राइम ब्रांच इनसे पूछताछ कर रही है।

हिंसा के बाद जफर और बाबुद्दीन फरार हो गए थे। इन्हे टेक्निकल सर्विलांस की मदद से पकड़ा गया है। इस मामले में अब तक कुल 31 गिरफ्तारी हुई है। इसमें से 3 नाबालिग भी हैं, जिन्हें बाल सुधार गृह भेजा गया है। इस मामले में अभी 5 अन्य आरोपित फरार हैं। दिल्ली की रोहिणी कोर्ट ने इन सभी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है। पुलिस के मुताबिक आरोपितों की धरपकड़ के लिए UP, बिहार और पश्चिम बंगाल में दबिश दी जा रही है।

PFI की भूमिका की भी हो रही जाँच

एक रिपोर्ट के मुताबिक जहाँगीरपुरी हिंसा में केंद्रीय एजेंसियाँ PFI (पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया) की भूमिका की जाँच कर रही हैं। हिंसा के दौरान PFI की छात्र शाखा से जुड़े लोग भीड़ में मौजूद बताए जा रहे हैं। जाँच एजेंसियों ने ऐसे 22 संदिग्ध मोबाइल नम्बरों की पहचान की है जो हिंसा से पहले उस क्षेत्र में सक्रिय थे। इन नंबरों में कुछ दिल्ली में फरवरी 2020 में हुए हिन्दू विरोधी दंगों के समय भी एक्टिव थे।

गौरतलब है कि 16 अप्रैल 2022 को हनुमान जन्मोत्सव के मौके पर हिंदुओं ने शोभा यात्रा निकाली थी। इस पर कट्टरपंथी मुस्लिमों ने हमला कर दिया था। शोभा यात्रा पर पथराव किया गया। काँच की बोतलों से हमला किया गया था। हिंसा में कई लोग बुरी तरह घायल हुए थे। दंगाइयों द्वारा चलाई गई गोली में एक पुलिसकर्मी भी घायल हो गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

खालिस्तानी चरमपंथ के खतरे को किया नजरअंदाज, भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंधों को बिगाड़ने की कोशिश, हिंदुस्तान से नफरत: मोदी सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार में जुटी ABC...

एबीसी न्यूज ने भारत पर एक और हमला किया और मोदी सरकार पर ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले खालिस्तानियों की हत्या की योजना बनाने का आरोप लगाया।

न दुख-न पश्चाताप… पवित्रा का यह मुस्कुराता चेहरा बताता है कि पर्दे के सितारों में ‘नायक’ का दर्शन न करें, हर फैन के लिए...

'फैन हत्याकांड' मामले से लोगों को सबक लेने की जरूरत है कि पर्दे पर दिखने वाले लोग जरूरी नहीं जैसा फिल्मों में दिखाए जाते हैं वैसे ही हों।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -