Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजआतंकी फंडिंग मामले में पीडीपी की पूर्व विधायक अंजुम फाजिली के घर ED का...

आतंकी फंडिंग मामले में पीडीपी की पूर्व विधायक अंजुम फाजिली के घर ED का छापा: ₹28,00,700 सहित कई दस्तावेज जब्त

ईडी अधिकारियों ने फाजिली के कुरसू राजबाग स्थित घर पर छापा मारा। इससे पहले इलाके में पुलिस और सुरक्षा बल तैनात कर दिए गए थे। सूत्रों ने बताया कि छापे के बाद ईडी अधिकारी अपने साथ कुछ दस्तावेज भी ले गए।

प्रवर्तन निदेशालय ने बुधवार (23 दिसंबर, 2020) को जम्मू-कश्मीर के हवाला आतंकी फंडिंग मामले में श्रीनगर में पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की पूर्व मनोनीत विधायक अंजुम फाजिली के श्रीनगर और दिल्ली स्थित ठिकानों पर छापा मारा। वहीं तलाशी के दौरान ईडी द्वारा कुल 28,00,700 रुपए भी जब्त किए गए है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ईडी द्वारा पूर्व विधायक अंजुम फाज़िली के खिलाफ दर्ज एफआईआर के आधार पर यह छापेमारी की जा रही है। फिलहाल मामले में तफ्तीश अभी भी जारी है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि ईडी अधिकारियों ने फाजिली के कुरसू राजबाग स्थित घर पर छापा मारा। इससे पहले इलाके में पुलिस और सुरक्षा बल तैनात कर दिए गए थे। सूत्रों ने बताया कि छापे के बाद ईडी अधिकारी अपने साथ कुछ दस्तावेज भी ले गए। उन्होंने बताया कि यह अब तक पता नहीं चल सका है कि फाजिली के घर पर छापा क्यों मारा गया।

आतंकियों को फंडिंग के मामले में ईडी और एनआईए इससे पहले कई संगठनों, अलगाववादियों, हुर्रियत नेताओं के आवास पर रेड मार चुकी है। इसमें मोहम्मद यूसुफ सोफी, खुर्रम परवेज और अन्य नेता शामिल हैं। जाँच में पाया गया कि कई एक्टिविस्टों ने आतंकियों को शरण दी थी।

गौरतलब है कि इससे पहले ईडी की टीम ने 8 राज्यों में स्थित कुल 26 ठिकानों पर छापा मारा था। ईडी की टीम ने उत्तर प्रदेश पीएफ़आई अध्यक्ष, नसीम अहमद के इंदिरानगर लखनऊ स्थित आवास पर छापा मारते हुए संदिग्ध दस्तावेज़ भी बरामद किए गए थे। हालाँकि, छापेमारी के दौरान नसीम अहमद अपने घर पर मौजूद नहीं था। नसीम अहमद पर पिछले वर्ष हुए सीएए और एनआरसी के विरोध प्रदर्शन की आड़ में बड़ी साज़िश रचने का आरोप है। फ़िलहाल ईडी की टीम नसीम अहमद की तलाश में जुटी है।

लखनऊ के अलावा ईडी की टीम ने बाराबंकी में भी छापा मारा था। वहाँ ईडी ने बाराबंकी में पीएफ़आई के सदस्य मुदस्सिर के आवास पर छापा मारा। मुदस्सिर पर आरोप है कि उसने सीएए और एनआरसी के विरोध प्रदर्शन के दौरान रुपए लेकर माहौल गड़बड़ करने का प्रयास किया था।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो मुदस्सिर पर कुल 80 हज़ार रुपए लेकर इन षड्यंत्रों को अंजाम देने आरोप है। उत्तर प्रदेश के अलावा केरल के 6, तमिलनाडु के 5, कर्नाटक के 3, दिल्ली के 2, बिहार के 2, महाराष्ट्र और राजस्थान के 1-1 ठिकानों पर ईडी ने छापेमारी का अभियान चलाया था।

वहीं प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया (पीएफ़आई) के नेशनल एग्जीक्यूटिव काउंसिल मेम्बर करमना अशरफ मौलवी के तिरुअनंतपुरम स्थित पूंथुरा आवास पर छापा मारा था। ईडी ने साल 2018 के दौरान पीएफ़आई के कई सदस्यों पर धन शोधन निरोधक अधिनियम (मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट) के तहत मामला दर्ज किया था। इसके अलावा कोज़ीकोड़े, मल्लापुरम और एर्नाकुलम स्थित पीएफ़आई नेताओं के आवासों पर भी छापा मारा गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,576FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe