Wednesday, May 18, 2022
Homeदेश-समाज'किसान' आंदोलन में गैंगरेप, बात दबाने के लिए शव यात्रा: 2 महिलाओं ने भी...

‘किसान’ आंदोलन में गैंगरेप, बात दबाने के लिए शव यात्रा: 2 महिलाओं ने भी नहीं की पीड़िता की मदद

गैंगरेप पीड़िता की जब मौत हो गई तो 'किसानों' ने उसे शहीद बताकर उसकी शव यात्रा निकाली। जिन महिलाओं के साथ पीड़िता ने अपनी आपबीती साझा की, उन्होंने भी धोखा देते हुए सिर्फ वीडियो बनाया और...

केंद्र सरकार के कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर ‘किसानों’ का प्रदर्शन चल रहा है। इसी में शामिल होने के लिए बंगाल से आई 25 वर्षीय युवती के साथ टीकरी बॉर्डर पर गैंगरेप के मामले में नया एँगल सामने आया है। इस मामले में पुलिस ने पीड़िता के पिता की शिकायत पर 2 महिला आरोपितों समेत 6 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

सभी आरोपित खुद को ‘किसान’ और ‘सोशल आर्मी’ का नेता बताते हैं। सभी के खिलाफ पुलिस ने गैंगरेप के अलावा अपहरण, ब्लैकमेलिंग और बंदी बनाने की धमकी देने के मामले में केस दर्ज किया है। जिन आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है, उनमें अनूप सिंह चानौत, अनिल मलिक, अंकुर सांगवान, जगदीश सिंह बराड़ के अलावा दो महिला आरोपित कविता आर्य और योगिता सुहाग शामिल हैं। दोनों ही महिला आरोपितों पर युवती की आपबीती को दबाने का आरोप है।

योगिता से पूछताछ में पुलिस को यह मालूम हुआ है कि पीड़िता के साथ हुई घटना के बारे में आंदोलन से जुड़े बहुत से लोगों को पता चल चुका था, मगर इस मामले में कार्रवाई की पहल नहीं की गई। उसने पीड़िता की आपबीती का वीडियो भी बनाया था। 16 मई 2021 की दैनिक जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक, कविता और योगिता से दो-दो बार पुलिस पूछताछ कर चुकी है।

इस मामले की जाँच के लिए डीएसपी के नेतृत्व में एसआईटी गठित की गई है। एसएचओ सिटी, सीआईए-2 इंचार्ज और महिला थाने की एसएचओ एसआईटी इसमें शामिल हैं। युवती के पिता का आरोप है कि योगेंद्र यादव को युवती के साथ किसान नेताओं द्वारा ‘गलत काम’ किए जाने की जानकारी थी। योगेंद्र यादव ने स्वीकार किया है कि वो घटना के बारे में पहले से जानते थे।

युवती से रेप मामले में AAP नेता गिरफ्तार

25 वर्षीय युवती से गैंगरेप की वारदात में शामिल आरोपित अनिल मलिक को हाल ही में पुलिस ने हरियाणा के भिवानी से गिरफ्तार कर लिया है। उस पर 25 हजार रुपए का इनाम भी है। पूछताछ में मलिक ने कबूल किया था कि उसने रेप का वीडियो बना लिया था और उसी के सहारे पीड़िता को ब्लैकमेल करता था। युवती से ट्रेन में और फिर ‘किसान आंदोलन’ के तम्बू में भी बलात्कार हुआ था।

गैंगरेप के मामले को दबाने के लिए ‘शव यात्रा’

युवती की कोरोना से बीते 30 अप्रैल 2021 को मौत के बाद ‘किसानों’ ने उसे शहीद बताकर उसकी शव यात्रा निकाली थी। उस दौरान कोविड प्रोटोकॉल तक को फॉलो नहीं किया गया था। रिपोर्ट के मुताबिक संयुक्त किसान मोर्चा ने युवती के साथ हुए गैंगरेप के मामले को दबाने के लिए उसकी शव यात्रा निकाली थी।

दैनिक जागरण की 13 मई 2021 की रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस को पीड़िता का मोबाइल मिल चुका है। बताया जा रहा है कि मोबाइल में जो चैट, फोटो, वीडियो और दूसरी चीजें हैं, वे इस मामले में पुलिस के लिए एक पुख्ता सुबूत हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सबा नकवी ने एटॉमिक रिएक्टर को बता दिया शिवलिंग, विरोध होने पर डिलीट कर माँगी माफ़ी: लोग बोल रहे – FIR करो

सबा नकवी ने मजाक उड़ाते हुए कहा कि भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर में सबसे बड़े शिवलिंग की खोज हुई। व्हाट्सएप्प फॉरवर्ड बता कर किया शेयर।

गुजरात में बुरी तरह फेल हुई AAP की ‘परिवर्तन यात्रा’, पंजाब से बुलाई गाड़ियाँ और लोग: खाली जगह की ओर हाथ हिलाते रहे नेता

AAP नेता और पूर्व पत्रकार इसुदान गढ़वी रैली में हाथ दिखाकर थक चुके थे लेकिन सामने कोई उनकी बात का जवाब नहीं दे रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,677FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe