Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजमणिपुर हिंसा के पीड़ित बच्चों का घर बना गुजरात का 'गोकुलधाम', 50 मैतेई बच्चों...

मणिपुर हिंसा के पीड़ित बच्चों का घर बना गुजरात का ‘गोकुलधाम’, 50 मैतेई बच्चों की ली जिम्मेदारी: पढ़ाने के लिए विदेश से बुलाई फैकल्टी

"पिछले करीब एक महीने से हम इन बच्चों को यहाँ लाने और उनकी सारी जिम्मेदारियाँ उठाने की कोशिश कर रहे थे। बच्चों को यहाँ तक ​​लाने में काफी मेहनत करनी पड़ी। महीनों तक कागजी कार्रवाई चलती रही। लेकिन अंत में हम सफल हुए।"

पिछले साल मई में मणिपुर में भड़की हिंसा की गूँज अभी भी कम नहीं हुई है। दोनों पक्षों के बीच हुई हिंसा में कई लोगों के घर जला दिए गए, कई परिवारों ने अपने रिश्तेदारों को खो दिया, कई बच्चों ने अपनी माँ, पिता या दोनों को खो दिया। हिंसा को लेकर देश में काफी हंगामा हुआ था। राजनीति हुई, खूब आरोप-प्रत्यारोप लगाए गए। मणिपुर की राज्य सरकार और केंद्र सरकार ने मिलकर हिंसा को रोकने और हिंसा के बाद गंभीर स्थिति से निपटने के लिए कई कदम उठाए। लेकिन गुजरात की ‘गोकुलधाम’ एक ऐसी संस्था है जिसने असल में कुछ ऐसा किया जिससे हिंसाग्रस्त बच्चों की अंधेरी जिंदगी में उम्मीद की किरण जगमगा उठी

हम जिस संस्था की बात कर रहे हैं वह आनंद जिले के पेटलाद तालुका के नार गाँव में स्थित ‘गोकुलधाम’ संस्था है। स्वामीनारायण धाम वडताल द्वारा संचालित यह संस्थान कई वर्षों से शिक्षा के क्षेत्र में बच्चों में संस्कार और वैदिक शिक्षा का विकास कर रहा है। यह संस्था अब मणिपुर हिंसा के शिकार 50 मैतेई बच्चों का घर बन गई है। गोकुलधाम संस्था ने ऐसे 50 बच्चों को गोद लिया है, जिन्होंने मणिपुर हिंसा में अपने रिश्तेदारों को खो दिया है या किसी अन्य तरह से पीड़ित हुए हैं। गुजरात की यह संस्था उन बच्चों के लिए उम्मीद की किरण बन गई है जिनका भविष्य हिंसा के बाद बेहद अंधकारमय दिख रहा था। 

हिंसा के शिकार बच्चों ने सुनाई आपबीती 

स्वामीनारायण संप्रदाय द्वारा संचालित इस गोकुलधाम संस्था में वर्तमान में मणिपुर राज्य के 50 मैतेई बच्चे रहते हैं। संस्था इन बच्चों की शिक्षा, आवास और अन्य सभी खर्च वहन कर रही है। दिव्य भास्कर से बात करते हुए पीड़ित बच्चों ने अपनी कहानी बताई।

मणिपुर के थोबल के पास एक गाँव से यहाँ आए मैतेई बच्चे ने कहा, “हिंसा के दौरान मेरे पिता और उनके दोस्त चर्च में छिपे हुए थे। जैसे ही कुकियों को इस बात का पता चला, उन्होंने चर्च को घेर लिया और मेरे पिता पर बम फेंक दिया। इस बम विस्फोट से उनके पेट का पूरा हिस्सा फट गया और एक उंगली भी कट गई। बम फेंकने के बाद कुकियों ने मेरे पिता के सिर के पिछले हिस्से में गोली मारकर हत्या कर दी।”

इसके अलावा एक अन्य बच्चे ने भी अपना दुख व्यक्त करते हुए कहा, ”हर जगह हमले हो रहे थे। वहाँ अब भी शांति थी। एक दिन मैं नहाने गया, तभी कुकी लोगों ने हमारे घर के बगल की एक इमारत में आग लगा दी और फिर मैतेई लोगों को मार डाला। जब मैं बाहर आया तो मेरी माँ सब्जियाँ काट रही थी। जैसे ही उन्हें इस बारे में पता चला, उन्होंने तुरंत जितने संभव हो सके उतने कपड़े लिए और मुझे पहाड़ी इलाके में ले गईं।

इस तरह की हिंसा के शिकार मैतेई समुदाय के 50 बच्चे गोकुलधाम संस्था में शरण ले रहे हैं। अलग राज्य, अलग जलवायु, अलग बोली के बावजूद ये बच्चे संस्थान में खुद को ढाल रहे हैं। इस बारे में अधिक जानकारी लेने के लिए जब ऑपइंडिया ने संस्था से संपर्क किया तो हमारी बातचीत गोकुलधाम के स्वामी सुखदेवप्रसाद दास से हुई। उन्होंने विस्तार से बताया कि यह विचार कहाँ से आया और संगठन इन पीड़ित बच्चों का पालन-पोषण कैसे कर रहा है।

मणिपुर हिंसा के शिकार बच्चों के लिए गोकुलधाम संस्थान

ऑपइंडिया से बातचीत में स्वामी सुखदेवप्रसाद दास ने कहा, ”हमने देश में कठिन हालात देखे हैं, खबरें पढ़कर या देखकर कई लोगों के मन में आया होगा कि ऐसी स्थिति में हम कैसे मदद कर सकते हैं। मणिपुर में इतनी हिंसा हुई, लोग मारे गए, कई लोग बेघर हो गए, कई बच्चों ने अपने परिवार खो दिए। इससे मन विचलित हुआ और ऐसे पीड़ित बच्चों की मदद करने की प्रेरणा मिली। ऐसे कई बच्चे हैं जिनमें से कईयों ने अपने माता-पिता को खो दिया है। कई बच्चे ऐसे भी हैं जिनके माता-पिता दोनों ही नहीं रहे। संस्था में गुरुकुल है और इसमें पहले से ही कई बच्चे पढ़ रहे थे, तो विचार आया कि हम ऐसे पीड़ित बच्चों को यहाँ ला सकते हैं और उनकी मदद कर सकते हैं।”

स्वामी ने आगे कहा, “पिछले करीब एक महीने से हम इन बच्चों को यहाँ लाने और उनकी सारी जिम्मेदारियाँ उठाने की कोशिश कर रहे थे। बच्चों को यहाँ तक ​​लाने में काफी मेहनत करनी पड़ी। महीनों तक कागजी कार्रवाई और अन्य कार्रवाई चलती रही। लेकिन अंत में हम सफल हुए और मैतेई समुदाय के 50 बच्चों को अब संस्थान में ला चुके हैं और संस्थान ने उन्हें उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान करने सहित सभी जिम्मेदारियाँ उठाई हैं। स्वामी ने यह भी कहा कि यहाँ आने वाले सभी बच्चों ने छोटी उम्र में हिंसा देखी है, कुछ हद तक संस्थान हिंसा के कारण उनके मस्तिष्क पर पड़ने वाले प्रभाव को दूर करने का प्रयास कर रहा है।

अलग राज्य, जलवायु और भाषा की छत्रछाया में फल-फूल रहे बच्चे

इस बारे में अधिक जानकारी देने के लिए संस्थान के हरिकृष्ण स्वामी ने भी ऑपइंडिया से बात की। बच्चे अलग-अलग पृष्ठभूमि से यहाँ आए हैं और वे संस्थान में कैसे रह रहे हैं, इस पर हरिकृष्ण स्वामी कहते हैं, “यह बच्चों को स्थानांतरित करने जितना चुनौतीपूर्ण नहीं था, लेकिन इससे भी बड़ी चुनौती बच्चों को यहाँ बसाना था। सबसे पहले जलवायु, मणिपुर एक पहाड़ी क्षेत्र है और अधिकांश बच्चे उन स्थानों से आते हैं जो पहाड़ों में रहते हैं। इसलिए माहौल ठीक करने की चिंता थी। शुरुआत में बच्चों को बीमार होने से बचाने के लिए विशेष ध्यान रखा गया।”

स्वामी ने आगे कहा, ”जलवायु के बाद दूसरी चुनौती थी बच्चों की भाषा. कई बच्चे तो ऐसे हैं जो सिर्फ मणिपुरी भाषा ही समझते हैं। हालाँकि, कुछ बच्चों की हिंदी और अंग्रेजी पर बहुत अच्छी पकड़ है। लेकिन देखभाल और प्यार की भाषा हर प्राणी समझता है, इसलिए यहाँ बच्चों का तांता लगा हुआ है। चूँकि हम गुजरात में रहते हैं और वे मणिपुर से हैं, भोजन भी एक अलग विषय था। लेकिन हम बच्चों को अच्छा खाना और उनके पसंदीदा व्यंजन भी देते हैं ताकि वे खुश रहें और उनके दिमाग से पिछली हिंसा की यादें मिट जाएँ।”

बच्चों के लिए विदेश से बुलाई गई फैकल्टी

बच्चों की शिक्षा के बारे में बात करते हुए, स्वामी ने कहा, “वे वर्तमान में परामर्श और प्रशिक्षण से गुजर रहे हैं, जो उनके दिमाग पर हिंसा के नकारात्मक प्रभाव को कम करेगा। उसके लिए अमेरिका, फ्रांस, लंदन जैसे देशों से 6 लोगों को बुलाया गया है। जो उन्हें हर दिन सेशन वाइज क्लास देते हैं। ये बच्चे इतने होशियार हैं कि अगर इन्हें ठीक से पाला जाए तो ये भविष्य में आईएएस, आईपीएस या किसी भी बड़े पद पर जा सकते हैं। हमारा गुजरात में एकमात्र संगठन है जो मणिपुर हिंसा पीड़ित बच्चों को तैयार करता है। इसके अलावा, मणिपुर के कुछ अन्य बच्चों को भी महाराष्ट्र के नासिक में हमारे एक संस्थान में लाया जाएगा, जिसके लिए तैयारी चल रही है।

स्वामी ने ऑपइंडिया को यह भी बताया कि हिंसा के कारण बच्चों के दिमाग पर पड़ने वाले प्रभाव को दूर करने के लिए संस्थान में बच्चों से विभिन्न गतिविधियाँ कराई जाती हैं। जिसमें संस्था ध्यान, खेल, संगीत के साथ-साथ यथासंभव आसान तरीके से शिक्षण भी करा रही है। बातचीत के अंत में उन्होंने कहा, ”ऐसी कठिन परिस्थिति में अगर हम साथ आएँ तो देश किसी भी स्थिति से लड़ने में सक्षम है। आज भारत विश्व में अग्रणी स्थान पर है और सही दिशा में आगे बढ़ रहा है और ऐसे में हमारा कर्तव्य है कि हम देश को मजबूती से आगे बढ़ाएँ।”

मणिपुर में भड़क उठी थी हिंसा की आग 

बता दें कि इसी साल मई में मणिपुर राज्य में हिंसा भड़क उठी थी। हिंसा में कई लोगों की मौत हो गई, जबकि हजारों लोग घायल हो गए। करीब 50 हजार लोगों को अपना घर छोड़कर राहत शिविरों में रहने को मजबूर होना पड़ा। मणिपुर में दो गुटों कुकी और मैतेई के बीच हिंसक झड़प हो गई। 

3 मई को ऑल ट्राइबल स्टूडेंट्स यूनियन, मणिपुर द्वारा आयोजित आदिवासी एकता मार्च हिंसा में बदल गया। यह मार्च मैतेई समुदाय की अनुसूचित जनजाति का दर्जा देने की माँग के खिलाफ आयोजित किया गया था, जिसके कारण दोनों समुदायों के बीच हिंसा हुई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Krunalsinh Rajput
Krunalsinh Rajput
Journalist, Poet, And Budding Writer, Who Always Looking Forward To The Spirit Of Nation First And The Glorious History Of The Country And a Bright Future.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -