Monday, May 20, 2024
Homeदेश-समाज'जय भीम' में जिस याचिका के बारे में बताया, महिला ने गाय-भैंस-मुर्गा को ढूँढने...

‘जय भीम’ में जिस याचिका के बारे में बताया, महिला ने गाय-भैंस-मुर्गा को ढूँढने के लिए वही लगाया: हाईकोर्ट बोला – ये कानून इसके लिए नहीं

पुलिस ने महिला की बेटी और मवेशियों को नहीं ढूँढा तो उसने कोर्ट के सामने बंदी प्रत्यक्षीकरण की याचिका डाली। महिला के वकील ने हाई कोर्ट को बताया कि वह इन मवेशियों के माँ जैसी है, और उन्हें महिला को लौटाया जाना चाहिए ताकि उनकी जान की रक्षा हो सके।

गुजरात हाई कोर्ट में एक महिला ने अपनी बेटी और जानवरों को ढूँढने के लिए बंदी प्रत्यक्षीकरण की याचिका लगा दी। महिला ने कोर्ट के सामने लगाई गई याचिका में कहा कि उसकी बेटी के साथ ही उसके जानवरों का अपहरण हुआ है जिनको ढूढ़ने के लिए वह यह याचिका लगा रही है। गुजरात हाई कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई करते हुए कहा कि वह जानवरों को मानव के तौर पर नहीं मान सकते और ना ही उनके लिए बंदी प्रत्यक्षीकरण के आदेश दे सकते हैं।

जानकारी के अनुसार, गुजरात के सूरत की एक महिला ने गुजरात हाई कोर्ट के सामने लगाई याचिका में बताया कि गुंडों ने दो वर्ष पहले उसके घर में आग लगा दी थी और उसकी बेटी का अपहरण कर लिया था। यह लोग उसकी बेटी के साथ ही उसकी गाय, भैंस और मुर्गियों को भी ले गए थे। महिला ने इस सम्बन्ध में दो बार FIR भी दर्ज करवाई लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। महिला ने आरोप लगाया कि स्थानीय भूमाफिया के शह पर उसकी झोपडी भी बाद में गिरा दी गई।

जब पुलिस ने महिला की बेटी और मवेशियों को नहीं ढूँढा तो उसने कोर्ट के सामने बंदी प्रत्यक्षीकरण की याचिका डाली। महिला के वकील ने हाई कोर्ट को बताया कि वह इन मवेशियों के माँ जैसी है, और उन्हें महिला को लौटाया जाना चाहिए ताकि उनकी जान की रक्षा हो सके।

हाई कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई करते हुए कहा कि वह पक्षियों और जानवरों के लिए बंदी प्रत्यक्षीकरण का कानून उपयोग नहीं कर सकता। गुजरात हाई कोर्ट की एक बेंच ने महिला के वकील से कहा कि वह बंदी प्रत्यक्षीकरण की याचिका से जानवरों को हटा कर आए तब इस पर दोबारा से सुनवाई होगी। हाई कोर्ट ने महिला के वकील से पूछा कि क्या उसने यह कानून है। कोर्ट ने महिला की बेटी की स्थिति के विषय में रिपोर्ट माँगी है।

गौरतलब है कि बंदी प्रत्यक्षीकरण के तहत याचिका विशेषतः ऐसे मामले में लगाई जाती है जब यह शक हो कि किसी व्यक्ति को पुलिस ने बिना वारंट और कोर्ट के आदेश के बंद कर रखा है। बंदी प्रत्यक्षीकरण के तहत कोर्ट ऐसे किसी व्यक्ति को अपने समक्ष प्रस्तुत करने का आदेश देता है। हालाँकि, इस मामले में महिला ने जानवरों के विषय में कोर्ट से सहायता माँगी थी, जो नियम के अनुरूप नहीं था। कोर्ट ने आदेश दिया कि वकील इस याचिका में संशोधन करे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

कनाडा, अमेरिका, अरब… AAP ने करोड़ों का लिया चंदा, लेकिन देने वालों की पहचान छिपा ली: ED का खुलासा, खालिस्तानी आतंकी पन्नू ने भी...

ED की एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि AAP ने ₹7.08 करोड़ की विदेशी फंडिंग में गड़बड़ियाँ की हैं। इस रिपोर्ट को गृह मंत्रालय को भेजा गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -