Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजश्री नयना देवी में मील के पत्थरों पर लिखे गए खालिस्तान समर्थक नारे, श्रद्धालुओं...

श्री नयना देवी में मील के पत्थरों पर लिखे गए खालिस्तान समर्थक नारे, श्रद्धालुओं में दहशत फैलाने की कोशिश

स्थानीय पुलिस ने बताया कि सड़क के मील के पत्थर पर खालिस्तानी नारे लिखना शरारती तत्वों की करतूत है, जो माहौल खराब करने और लोगों में दहशत पैदा करने पर आमादा हैं।

हिमाचल प्रदेश में श्री नयना देवी-कोलां वाला टोबा सड़क पर खालिस्तानी आतंकवादी संगठन और जरनैल सिंह भिंडरावाले के समर्थन में नारे लिखे गए हैं। असामाजिक तत्वों ने इन पत्थरों पर खालिस्तान की हद शुरू, खालिस्तान बिच तुहाड्डा स्वागत है, खालिस्तान जिंदाबाद लिखा है। वहीं पुलिस और आम लोग इसे शरारती तत्वों का काम बताते हुए इलाके में माहौल खराब करने की साजिश बता रहे हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक स्थानीय पुलिस ने बताया कि सड़क के मील के पत्थर पर खालिस्तानी नारे लिखना शरारती तत्वों की करतूत है, जो माहौल खराब करने और लोगों में दहशत पैदा करने पर आमादा हैं। पुलिस ने कहा कि खालिस्तानी नारों के साथ मील के पत्थर को खराब करने के लिए जिम्मेदार लोगों का पता लगाने के लिए जाँच के आदेश दिए गए हैं। डीएसपी श्री नयना देवी जी पूर्ण चंद ने कहा कि पुलिस जल्द ही तोड़फोड़ के लिए दोषी लोगों का पता लगाकर उन्हें गिरफ्तार करेगी।

बताया जा रहा है कि यह मामला तब प्रकाश में आया जब स्थानीय लोगों ने प्रशासन को इसके बारे में अवगत करवाया। लोगों ने देखा कि जगह-जगह पर पेंट से और मार्कर पेन से खालिस्तान जिंदाबाद, खालिस्तान में शामिल हो और पंजाबी भाषा में जनमत संग्रह 2021 व एसएसजे में शामिल हो लिखा है। कोलां वाला टोबा से गाड़ियों में आने वाले हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं की नजर इन पत्थरों पर पड़ रही है। 

गौरतलब है कि इस साल श्री नयना देवी में श्रावण अष्टमी के मेले आरंभ होने जा रहे हैं। हजारों श्रद्धालु श्री नयना देवी में श्रावण अष्टमी मनाने के लिए कोलां वाला टोबा से यात्रा कर रहे हैं। ऐसे में असामाजिक तत्वों की करतूतों से हड़कंप मच गया है, जिससे लोगों में यह संदेह बढ़ रहा है कि ये लोग उत्सव को बाधित करना चाहते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इधर केरल का नाम बदलने की तैयारी में वामपंथी, उधर मुस्लिम संगठनों को चाहिए अलग राज्य: ‘मालाबार स्टेट’ की डिमांड को BJP ने बताया...

केरल राज्य को इन दिनों जहाँ 'केरलम' बनाने की माँग जोरों पर है तो वहीं इस बीच एक मुस्लिम नेता ने माँग की है कि मालाबार को एक अलग राज्य बनाया जाए।

ब्रिटानिया के लिए बंगाल की फैक्ट्री बनी बोझ, बंद करने का लिया फैसला: नैनो प्लांट पर विवाद के बाद टाटा ने भी छोड़ा था...

ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता स्थित अपनी 77 वर्ष पुरानी फैक्ट्री को बंद करने का निर्णय लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -