Monday, November 28, 2022
Homeदेश-समाजPM मोदी की पहल पर कनाडा से आई माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति, काशी विश्वनाथ...

PM मोदी की पहल पर कनाडा से आई माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति, काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में होगी स्थापित, 100 साल पहले हुई थी चोरी

मंत्रालय ने कहा है कि माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति को पहले 11 नवंबर को अलीगढ़ ले जाया जाएगा, फिर कन्नौज और 14 नवंबर को ये अयोध्या पहुँचेगी। इसके बाद 15 नवंबर को अपने अंतिम गंतव्य वाराणसी पहुँचेगी, जहाँ इसे अनुष्ठानों के बाद काशी विश्वनाथ मंदिर में स्थापित किया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक पहल पर अब करीब 100 साल के बाद एक बार फिर से भक्तों को माँ अन्नपूर्णा देवी के दर्शन संभव हो सकेंगे। करीब 100 साल पहले स्मगल करके कनाडा ले जाई गई देवी की मूर्ति को भारत वापस लाया गया है। जिसे अब मूर्ति के वास्तविक स्थान वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर में स्थापित किया जाएगा।

माँ अन्नपूर्णा देवी की मूर्ति बीते 15 अक्टूबर को देश वापस लाई गई थी। पिछले साल नवंबर में ही पीएम नरेंद्र मोदी ने अन्नपूर्णा देवी की मूर्ति को देश में वापस लाए जाने की घोषणा की थी। पीएम मोदी ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात के दौरान कहा था कि इसे चुरा लिया गया था और 1913 के आसपास देश से बाहर ले जाया गया। इस मामले में मंगलवार (2 अक्टूबर 2021) को केंद्रीय संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी ने कनाडा के ओटावा से प्राप्त माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) को मिली है और इसे वाराणसी ले जाया जाएगा।

वहीं CM योगी ने कहा, “100 साल पहले काशी से माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति चोरी हुई थी। यहाँ से यह मूर्ति अलग-अलग हाथों में पहुँचते-पहुँचते कनाडा के विश्वविद्यालय में पहुँची थी। अब यह मूर्ति उत्तर प्रदेश को 11 नवंबर को दिल्ली में प्राप्त होगी।”

संस्कृति मंत्रालय के अनुसार, 1976 से 55 मूर्तियों को भारत लौटाया गया था, उनमें से लगभग 75 प्रतिशत 2014-2021 के दौरान प्राप्त की गई थीं। इसमें से 2014 के बाद 42 मूर्तियों को वापस देश में लाया गया था। मंत्रालय ने कहा है कि माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति को पहले 11 नवंबर को अलीगढ़ ले जाया जाएगा, फिर कन्नौज और 14 नवंबर को ये अयोध्या पहुँचेगी। इसके बाद 15 नवंबर को अपने अंतिम गंतव्य वाराणसी पहुँचेगी, जहाँ इसे अनुष्ठानों के बाद काशी विश्वनाथ मंदिर में स्थापित किया जाएगा।

मंत्रालय ने कहा, “संस्कृति मंत्रालय उन प्राचीन वस्तुओं को वापस लाने के लिए विदेश मंत्रालय के साथ मिलकर काम कर रहा है, जिनकी विरासत का महत्व है और जिनका स्थानीय महत्व है। जिन लोगों से उनकी पैतृक विरासत छीन ली गई है उन लोगों में विश्वास फिर से स्थापित किया जाएगा।”

मैकेंजी आर्ट गैलरी में रखी गई थी मूर्ति

देवी अन्नपूर्णा की मूर्ति को 100 साल पहले जब स्मगल करके कनाडा ले जाया गया था तो उसके बाद से यह रेजिना विश्वविद्यालय की मैकेंजी आर्ट गैलरी में रखी गई थी।

भारतीय उच्चायोग की एक विज्ञप्ति के अनुसार, विश्वविद्यालय ने मूर्ति को वापस करने का फैसला किया है। यह पता चला है कि मूर्ति को ‘संदिग्ध परिस्थितियों में हासिल किया गया था और नैतिक अधिग्रहण के मौजूदा सिद्धांतों के अनुरूप नहीं था। प्रतिमा को विश्वविद्यालय के कुलपति ने पिछले साल एक वर्चुअल कार्यक्रम के दौरान ओटावा में भारत के उच्चायुक्त अजय बिसारिया को सौंपा था।

इसके बाद तत्कालीन अन्नपूर्णा मंदिर के महंत ब्रह्मलीन महाराज रामेश्वरपुरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर इस प्रतिमा को मंदिर परिसर में भव्य समारोह के साथ प्राण प्रतिष्ठा की बात कही थी, लेकिन ऑपइंडिया के सूत्रों की मानें तो मंदिर और प्रशासन के बीच बात बनी नहीं और अब इस मूर्ति‍ की प्राण प्रतिष्ठ श्री काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर में बनाए जाने वाले मंदिरों में से कि‍सी एक मंदिर में होगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मध्य प्रदेश में ‘मोदी-मोदी’ और ‘जय श्रीराम’ नारे से हुआ राहुल गाँधी की यात्रा का स्वागत, गिर कर जख्मी हुए पार्टी का महासचिव

'मोदी-मोदी' के नारे लगा रहे युवकों को राहुल गाँधी ने अपने पास बुलाया, लेकिन तब तक वे वहाँ से निकल गए। इसके बाद 'भारत जोड़ो यात्रा' आगे बढ़ गई।

उर्फी जावेद के सामने टिकती भी नहीं ऋचा-तापसी-स्वरा, SRK-अल्लू अर्जुन को दे रही टक्कर: Google सर्च में अतरंगी ड्रेस के आगे ‘एजेंडा’ फीका

पिछले 12 महीनों के ट्रेंड की तुलना में तापसी, ऋचा और स्वरा भास्कर के पास PR टीम होने के बावजूद उर्फी इन तीनों से कहीं अधिक ट्रेंड कर रही हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
235,826FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe