Monday, May 25, 2020
होम देश-समाज IIT-AIIMS के पूर्व छात्रों ने तैयार किया Covid-19 वायरस को केमिकल की जगह पानी...

IIT-AIIMS के पूर्व छात्रों ने तैयार किया Covid-19 वायरस को केमिकल की जगह पानी की बूँदों को आवेशित कर निष्क्रिय करने वाला डिवाइस

"इसमें पानी की बूँदों को सूक्ष्म बूंदों में बदलने पर हमने काम किया और फिर इन बूँदों को आवेशित करना लक्ष्य था। जहाँ भी इनका छिड़काव किया जाएगा, उन जगहों पर कोरोना वायरस के प्रसार को रोका जा सकेगा। जिस तकनीक को इस्तेमाल किया जा रहा है वह केमिकल बेस्ड है, जिसकी कि अधिक इस्तेमाल होने के कारण समय के साथ आपूर्ति कम हो सकती है।"

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

कोरोना वायरस (COVID-19) से लड़ाई में पूरा देश एकजुट होकर अपने हिस्से का योगदान कर रहा है। ऐसे में स्टैन्फोर्ड यूनिवर्सिटी, आईआईटी और एम्स के कुछ पूर्व शोधकर्ताओं ने ‘एयरलेंस माइनस कोरोना’ (Airlens Minus Corona) नाम से एक डिवाइस तैयार किया है, जिसमें कोरोना वायरस के संक्रमण पर व्यापक रोक लगाने में आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया गया है।

स्टैन्फोर्ड यूनिवर्सिटी के पूर्व शोधकर्ता डॉक्टर शशि रंजन ने ऑपइंडिया से बातचीत में बताया कि, उन्होंने और आईआईटी खड़गपुर के पूर्व छात्र देबायन शाह की स्टार्टअप कंपनी PerSapien ने एक ऐसा उपकरण विकसित किया है, जो रिमोट कंट्रोल से संचालित होता है। इसमें एक कैमरा भी जुड़ा है जो चालक की सीट से दूर तक डिजिटल स्क्रीन पर चित्र देता है। उन्होंने कहा कि फिलहाल जरूरत यह है कि देशभर में और भी इंजीनियर्स और शोधकर्ता ऐसे उपकरण तैयार करें जो कोरोना वायरस के संक्रमण पर रोक लगा सकें।

डॉक्टर शशि रंजन ने ऑपइंडिया से बातचीत में बताया कि इस तकनीक की खास बात यह है कि इसमें सेनिटाइज़र्स के रूप में कैमिकल की जगह पानी के ही सूक्ष्म बूँदों को ही चार्ज (आवेशित) कर के वायरस को नष्ट किया जाता है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि वर्तमान में देश में केमिकल की बढ़ी हुई खपत के कारण कोरोना वायरस से सुरक्षा के लिए केमिकल पर निर्भरता समाप्त हो जाएगी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

PerSapien ने कोरोना वायरस के खिलाफ तैयार किया गया यह डिवाइस सड़कों पर चलते हुए शहर को संक्रमण मुक्त करने के साथ ही अस्पताल, स्कूल, बस स्टॉप, रेलवे स्टेशन, शॉपिंग मॉल और अन्य सार्वजनिक स्थलों पर आवेशित बूंदों के जरिए सतह को संक्रमण मुक्त करता है। जिससे कि कोरोना वायरस के प्रसार पर रोक लगती है।

शशि रंजन के अनुसार, “कोरोना वायरस को मारने के लिए पानी की बूँदों को चार्ज किया जाता है, जो कि इस काम का सबसे बड़ा चैलेंज भी है।” ऐसे आयनित पानी की बूँदे प्रोटीन के ऑक्सीकरण के जरिए गैर हानिकारक अणु बनने में मदद कर सकती हैं। उन्होंने बताया कि ऑक्सीकरण सबसे शक्तिशाली रोगाणुरोधी उपायों में से एक है और यह तकनीक पूरे शहर को संक्रमण मुक्त कर सकती है।

वर्तमान में जिस तेजी से देशभर में इस वायरस के संक्रमण को आगे बढ़ने और फैलने से रोकने की आवश्यकता है, उसमें यह बहुत मददगार साबित हो सकता है। बहुत सूक्ष्म नम बूँदों के छिड़काव से कोरोना वायरस को आसानी से निष्‍क्र‍िय किया जा सकता है।

डॉक्टर शशि रंजन के अनुसार – “यह वाटर बेस्ड तकनीक है, जिसमें पानी और बिजली इस्तेमाल हो रही हैं। हम पानी की बूँदों को वोल्टेज के जरिए चार्ज करते हैं, हाइड्रॉक्सिल OH- जैसे जिससे इसमें आयन्स (अणु) जेनरेट हो जाते हैं। ये आयन्स (अणु) वायरस की बाह्य त्वचा, जो कि प्रोटीन और वसा से बनी होती है उसका ऑक्सीकरण कर के वायरस को निष्क्रीय करते हैं।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

“इसमें पानी की बूँदों को सूक्ष्म बूंदों में बदलने पर हमने काम किया और फिर इन बूँदों को आवेशित करना लक्ष्य था। जहाँ भी इनका छिड़काव किया जाएगा, उन जगहों पर कोरोना वायरस के प्रसार को रोका जा सकेगा। जिस तकनीक को इस्तेमाल किया जा रहा है वह केमिकल बेस्ड है, जिसकी कि अधिक इस्तेमाल होने के कारण समय के साथ आपूर्ति कम हो सकती है।”

उन्होंने बताया कि वह इस पर पहले से भी काम कर रहे थे, लेकिन कोरोना वायरस की महामारी के कारण उन्होंने इस पर तत्परता से अपना योगदान देने का निर्णय लिया। यदि इस तकनीक को पूरे भारत में इस्तेमाल करने के लिए बड़े स्तर पर तैयार करना हो तो इस आपूर्ति को वह महज एक से दो सप्ताह के भीतर पूरी करने में सक्षम हैं।

इस उपकरण के बारे में बात करते हुए डॉक्टर शशि रंजन ने कहा कि हमारा प्रमुख प्रयास इस आपातकाल में देश की मदद करना है। कोलकाता में एक मैन्युफैक्चरिंग पार्टनर्स के साथ मिलकर इसे तैयार कर रहे हैं।

डॉक्टर शशि रंजन PerSapien स्टार्ट अप के को-फाउंडर हैं। इससे पहले वो एम्स अस्पताल में रिसर्च प्रोजेक्ट से जुड़े थे, साथ ही स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में भी कार्यरत थे। वर्तमान में इस टीम में आईआईटी से पास-आउट छात्र काम कर रहे हैं। यह उपकरण तैयार करने से पहले भी डॉक्टर शशि रंजन वायु प्रदूषण जैसे मुद्दों पर कार्य कर रहे थे। उन्होंने बताया कि यह उपकरण अभी तक बिक्री के रूप से तैयार नहीं किया गया है और पहला मकसद सिर्फ कोरोना वायरस के तेजी से हो रहे संक्रमण को रोकने के लिए कुछ आधुनिक और प्रभावी यंत्र तैयार करना ही था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

अब नहीं ढकी जाएगी ‘भारत माता’, हिन्दुओं के विरोध से झुका प्रशासन: मिशनरियों ने किया था प्रतिमा का विरोध

कन्याकुमारी में मिशनरियों के दबाव में आकर भारत माता की प्रतिमा को ढक दिया गया था। अब हिन्दुओं के विरोध के बाद प्रशासन को ये फ़ैसला...

‘दोबारा कहूँगा, राजीव गाँधी हत्यारा था’ – छत्तीसगढ़ में दर्ज FIR के बाद भी तजिंदर बग्गा ने झुकने से किया इनकार

तजिंदर पाल सिंह बग्गा के खिलाफ FIR हुई है। इसके बाद बग्गा ने राजीव गाँधी को दोबारा हत्यारा बताया और कॉन्ग्रेस के सामने झुकने से इनकार...

महाराष्ट्र के पूर्व CM और ठाकरे सरकार के मंत्री अशोक चव्हाण कोरोना पॉजिटिव, राज्य के दूसरे मंत्री वायरस के शिकार

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और उद्धव ठाकरे के मंत्रिमंडल में पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर, अशोक चव्हाण कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्हें तुरंत...

पिंजरा तोड़ की दोनों सदस्य जमानत पर बाहर आईं, दिल्ली पुलिस ने फिर कर लिया गिरफ्तार: इस बार हत्या का है मामला

हिंदू विरोधी दंगों को भड़काने के आरोप में पिंजरा तोड़ की देवांगना कालिता और नताशा नरवाल को दिल्ली पुलिस ने फिर गिरफ्तार कर...

जिन लोगों ने राम को भुलाया, आज वे न घर के हैं और न घाट के: मीडिया संग वेबिनार में CM योगी

"हमारे लिए राम और रोटी दोनों महत्वपूर्ण हैं। राज्य सरकार ने इस कार्य को बखूबी निभाया है। जिन लोगों ने राम को भुलाया है, वे घर के हैं न घाट के।"

Covid-19: 24 घंटों में 6767 संक्रमित, 147 की मौत, देश में लगातार दूसरे दिन कोरोना के रिकॉर्ड मामले सामने आए

इस समय देश में संक्रमितों की संख्या 1,31,868 हो चुकी है। अब तक 3867 लोगों की मौत हुई है। 54,440 लोग ठीक हो चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

गोरखपुर में चौथी के बच्चों ने पढ़ा- पाकिस्तान हमारी प्रिय मातृभूमि है, पढ़ाने वाली हैं शादाब खानम

गोरखपुर के एक स्कूल के बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बने व्हाट्सएप ग्रुप में शादाब खानम ने संज्ञा समझाते-समझाते पाकिस्तान प्रेम का पाठ पढ़ा डाला।

‘न्यूजलॉन्ड्री! तुम पत्रकारिता का सबसे गिरा स्वरुप हो’ कोरोना संक्रमित को फ़ोन कर सुधीर चौधरी के विरोध में कहने को विवश कर रहा NL

जी न्यूज़ के स्टाफ ने खुलासा किया है कि फर्जी ख़बरें चलाने वाले 'न्यूजलॉन्ड्री' के लोग उन्हें लगातार फ़ोन और व्हाट्सऐप पर सुधीर चौधरी के खिलाफ बयान देने के लिए विवश कर रहे हैं।

रवीश ने 2 दिन में शेयर किए 2 फेक न्यूज! एक के लिए कहा: इसे हिन्दी के लाखों पाठकों तक पहुँचा दें

NDTV के पत्रकार रवीश कुमार ने 2 दिन में फेसबुक पर दो बार फेक न्यूज़ शेयर किया। दोनों ही बार फैक्ट-चेक होने के कारण उनकी पोल खुल गई। फिर भी...

राजस्थान के ‘सबसे जाँबाज’ SHO विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या: एथलीट से कॉन्ग्रेस MLA बनी कृष्णा पूनिया पर उठी उँगली

विष्णुदत्त विश्नोई दबंग अफसर माने जाते थे। उनके वायरल चैट और सुसाइड नोट के बाद कॉन्ग्रेस विधायक कृष्णा पूनिया पर सवाल उठ रहे हैं।

तब भंवरी बनी थी मुसीबत का फंदा, अब विष्णुदत्त विश्नोई सुसाइड केस में उलझी राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार

जिस अफसर की पोस्टिंग ही पब्लिक डिमांड पर होती रही हो उसकी आत्महत्या पर सवाल उठने लाजिमी हैं। इन सवालों की छाया सीधे गहलोत सरकार पर है।

हमसे जुड़ें

206,772FansLike
60,088FollowersFollow
241,000SubscribersSubscribe
Advertisements