Thursday, June 20, 2024
Homeदेश-समाजजिस अवैध दरगाह से चले थे पत्थर, घायल हुए थे पुलिस वाले… बुलडोजर से...

जिस अवैध दरगाह से चले थे पत्थर, घायल हुए थे पुलिस वाले… बुलडोजर से अब वो जगह समतल: रातों-रात ध्वस्त किए गए दरगाह का मलबा भी साफ

अवैध घोषित दरगाह पर बुलडोजर चला दिया गया। रातों-रात मालवाहक वाहनो में भर कर इस दरगाह का मलबा भी हटवा दिया गया। अवैध दरगाह को ध्वस्त करने का प्रयास जून 2023 में भी किया गया था। लेकिन तब कट्टरपंथी इस्लामी भीड़ ने दंगा कर दिया था।

गुजरात के जूनागढ़ में नगर निगम ने एक बड़ी कार्रवाई की है। यहाँ मजेवाड़ी गेट के पास विवादित अवैध दरगाह को ध्वस्त कर दिया गया है। ध्वस्तीकरण के बाद मलबे को भी रातों-रात हटवा दिया गया। यह कार्रवाई 9-10 मार्च 2024 की रात को की गई है। मौके पर पुलिस प्रशासन मुस्तैद रहा। यह वही दरगाह है, जहाँ पिछले साल एक मुस्लिम भीड़ ने पत्थरबाजी की थी। तब के बवाल को काबू करते हुए पुलिस के कई जवान घायल हो गए थे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक यह दरगाह जूनागढ़ शहर के बीच में मजेवाडी गेट के पास बनी थी। 9-10 मार्च की रात को यहाँ बड़ी तादाद में प्रशासनिक अमला पहुँचा। प्रशासन के इस जत्थे में पुलिस के जवान और नगर निगम के कर्मचारी थे। कुछ ही देर में बुलडोजर बुलवाया गया और उसे अवैध घोषित दरगाह पर चला दिया गया।

रातों-रात मालवाहक वाहनो में भर कर इस दरगाह का मलबा भी हटवा दिया गया। इस दौरान तालाब दरवाजा स्थित जलाराम मंदिर और रेलवे स्टेशन रोड स्थित रामदेवपीर मंदिर पर भी अतिक्रमण विरोधी कार्रवाई की गई। हालाँकि हिन्दू समाज ने प्रशासन का पूरा सहयोग किया।

इस से पहले मजेवाड़ी गेट के पास बनी अवैध दरगाह को ध्वस्त करने का प्रयास जून 2023 में किया गया था। तब इस कार्रवाई से पहले नोटिस जारी की गई थी। नोटिस मिलते ही मुस्लिम समुदाय के लोगों की भीड़ बड़ी तादाद में घरों से निकल कर सड़क पर आ गई थी। ‘अल्लाह हु अकबर’ का नारा लगाती इस भीड़ ने पुलिसकर्मियों की हत्या का प्रयास किया था। इस हमले में कई पुलिसकर्मी घायल हो गए थे, जिसमें महिला स्टाफ भी शामिल थीं। पुलिस वालों को घायल करने के बाद सैकड़ों की यह भीड़ शहर की तरफ बढ़ गई थी।

कट्टरपंथी इस्लामी भीड़ ने तब एक एसटी बस को भी निशाना बनाते हुए भीषण पत्थरबाजी की थी। कई वाहनों में तोड़फोड़ के बाद आग भी लगा दी गई थी। इसी हंगामे के चलते एक बेगुनाह हिन्दू की मौत भी हो गई थी।

इस उपद्रव में बुर्का पहने कई महिलाओं के साथ नाबालिग बच्चों के भी शामिल होने की आशंका जताई गई थी। अतिरिक्त पुलिस बल बुला कर इस हिंसक भीड़ को काबू किया गया था। तब पुलिस ने FIR दर्ज करके कई उपद्रवियों को गिरफ्तार भी किया था। आखिरकार अब इस दरगाह को ध्वस्त कर ही दिया गया।

बताते चलें कि अतिक्रमण के खिलाफ गुजरात सरकार इन दिनों कड़े कदम उठा रही है। कई जगहों से अवैध कब्जेदारी को हटाया जा रहा है। 2 दिन पहले ही कच्छ के खावड़ा इलाके में तीन अवैध मदरसों को बुलडोजर चला कर ध्वस्त किया गया था। इसके अलावा शुक्रवार (8 मार्च) को जामनगर में कुख्यात अपराधी रजाक साइचा और उसके भाई के 2 अवैध बंगलों पर प्रशासन का बुलडोजर चला था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -