Friday, June 21, 2024
Homeदेश-समाजइमामुद्दीन ने दिल्ली पुलिस के जवान को इतना मारा था कि 12 साल से...

इमामुद्दीन ने दिल्ली पुलिस के जवान को इतना मारा था कि 12 साल से कोमा में… अब दोनों पैर में गोली लगी तो धराया

इमामुद्दीन के कारण दिल्ली पुलिस के जवान ओंकार 12 साल से कोमा में ही हैं। सराय काले खाँ के पास इमामुद्दीन ने पुलिस पर फिर गोली चलाई। हालाँकि मुठभेड़ में उसके दोनों पैरों में गोली लगी और...

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मुठभेड़ के बाद कुख्यात अपराधी इमाम उर्फ इमामुद्दीन को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी इमाम नंदनगरी का कुख्यात अपराधी है। इमाम के विरुद्ध डकैती, दंगे और अवैध हथियारों से संबंधित गंभीर धाराओं में 18 से अधिक मामले दर्ज हैं।

इमाम उर्फ इमामुद्दीन फिलहाल एम्स के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती है और खतरे से बाहर है। पुलिस अब इमाम पर मकोका लगाने की तैयारी में है। इमाम कई बार विभिन्न अपराधों के चलते जेल जा चुका था किन्तु वह जमानत पर बाहर आ जाता है और पुनः अपराध में संलिप्त हो जाता है।

पुलिस पर हमले करने के लिए जाना जाता है इमाम

इमाम का इतिहास खतरनाक रहा है। उसने कई बार पुलिस पर जानलेवा हमले किए। 2009 में जब इमाम अपराध करने के पश्चात अपने साथियों के साथ भाग रहा था, तब पीसीआर में तैनात ओंकार ने उन्हें धर-दबोचा किन्तु इमाम ने अपने साथियों के साथ मिल कर ओंकार की बेरहमी से पिटाई कर दी। उसी घटना के पश्चात ओंकार आज तक कोमा में ही हैं। ओंकार वर्तमान में गुरु तेग बहादुर अस्पताल में भर्ती हैं।

2015 में भी नन्दनगरी में एक बदमाश की हत्या के मामले में जब पुलिस घटनास्थल पर पहुँची, तब इमाम ने स्थानीय लोगों के साथ पुलिस पर लोहे की रॉड जैसे हथियारों से हमला कर दिया और वहाँ से फरार हो गया। इस मामले में इमाम गिरफ्तार हुआ किन्तु जमानत पर बाहर आ गया।

इसी वर्ष जनवरी में चोरी के कई मामलों की जाँच के लिए पुलिसकर्मी जब इमाम के घर पहुँचे, तब भी इमाम ने परिजनों के साथ मिल कर पुलिसकर्मियों पर जानलेवा हमला कर दिया। इस मामले के बाद से ही इमाम पुलिस की पहुँच से दूर था।

स्पेशल सेल डीसीपी प्रमोद कुशवाहा ने बताया कि 20 मार्च को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को इनपुट मिले कि इमाम, सराय काले खाँ के पास एक बार फिर किसी अपराध की फिराक में घूम रहा है, तब यूनिट के कुछ पुलिस अधिकारियों ने उसे आत्मसमर्पण के लिए कहा किन्तु उसने अपनी अपराधिक प्रवृत्ति के अनुसार पुलिस पर गोली चलाई। हालाँकि इस बार वह सफल नहीं हुआ और मुठभेड़ में उसके दोनों पैरों में गोली लग गई। पुलिस को इमाम के पास से चोरी का वाहन, 32 बोर की पिस्टल एवं तीन जिंदा कारतूस बरामद हुए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -