Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजएक हफ्ते के भीतर राम मंदिर को बम से उड़ाना चाहता था आतंकी युसूफ,...

एक हफ्ते के भीतर राम मंदिर को बम से उड़ाना चाहता था आतंकी युसूफ, खुद के तैयार किए बम का कर चुका था टेस्ट

ISIS आतंकी अबू युसूफ खान अयोध्या में राम मंदिर स्थल को बम से उड़ाना चाहता था, जहाँ हाल ही में भूमिपूजन का कार्यक्रम संपन्न हुआ है। बलरामपुर पुलिस की इस बात को लेकर आलोचना हो रही है कि...

दिल्ली में गिरफ्तार किए गए ISIS के आतंकी अबू युसूफ खान के ठिकानों और उससे जुड़े लोगों की तलाश के लिए दिल्ली पुलिस और यूपी एटीएफ बलरामपुर पहुँची हुई है, जहाँ उसका निवास स्थान है। सभी टीमें उतरौला कोतवाली क्षेत्र के बढ़या भैसाही ग्राम में उसके साथी आतंकी युसूफ के घर में तलाशी अभियान चला रही है। आरोपित की निशानदेही पर उसके घर के पास स्थित तालाब से मानव बम में प्रयोग किए जाने वाले दो जैकेट जब्त किए गए हैं।

साथ ही उसके घर से विस्फोटक व आपत्तिजनक साहित्य भी बरामद किए गए हैं, जिनकी जाँच की जा रही है। एक और बड़ा खुलासा हुआ है कि ISIS आतंकी अबू युसूफ खान अयोध्या में राम मंदिर स्थल को बम से उड़ाना चाहता था, जहाँ हाल ही में भूमिपूजन का कार्यक्रम संपन्न हुआ है। बलरामपुर पुलिस की इस बात को लेकर आलोचना हो रही है कि उनके इलाक़े के आतंकी की भनक उसे ही नहीं लगी।

शनिवार (अगस्त 22, 2020) की सुबह 11 बजे पुलिस की टीमें बलरामपुर पहुँची। इसके उतरौला कोतवाली के बढ़या भैसाही ग्राम को चारों ओर से सील कर के स्थानीय पुलिस ने तलाशी अभियान शुरू किया। गाँव में आने-जाने पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया। यहाँ तक कि मीडियाकर्मियों को भी वहाँ प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई। आतंकी मुस्तकीन शुक्रवार की सुबह ही घर से भाग खड़ा हुआ था, ऐसा पता चला है।

लगभग 10 बजे उसने परिजनों को फोन करके बताया कि वह लखनऊ निवासी अपने मामा के यहाँ गया है, जहाँ उसका ममेरा भाई बीमार है। इसके बाद उसका मोबाइल फोन बंद हो गया। साथ ही वह अपने मामा के यहाँ भी नहीं पहुँचा। लखनऊ में उसके पहुँचने के बाद परिजन रात भर उसे फोन करते रहे। इसके बाद थाने में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई। इसके बाद पुलिस सक्रिय हुई।

उसके पिता ने कहा है कि अबु युसुफ की रीढ़ की हड्डी खिसकी हुई है, जिसका 2 साल से लखनऊ में इलाज चल रहा है। वो शुक्रवार को लखनऊ में अपने मामा के बेटे की किडनी के इलाज के लिए गया था। उसने अपनी बहन को बताया कि वो उसके घर पर रुकेगा पर वहाँ पहुँचा नहीं और उसका फोन बंद आने लगा। उसके भाई आकिब ने कहा कि उसे ISIS के झंडे की पहचान नहीं है पर रात को झंडा देखा। काले रंग के झंडे पर सफेद रंग से अरबी में ‘अल्लाह हू अकबर ला इलाहा इल्लल्लाह मुहम्मदुन रसूलुल्लाह‘ लिखा था। वो सऊदी और अन्य जगहों पर रहे थे।

वहीं ISIS आतंकी अबू युसूफ खान के घर से दो मानव बम जैकेट, विस्फोटक और भड़काऊ साहित्य के अलावा पत्नी तथा चार बच्चों के पासपोर्ट बरामद करने में पुलिस ने सफलता पाई है। बलरामपुर में तलाशी के बाद देर रात दिल्ली पुलिस आतंकी को लेकर वापस राष्ट्रीय राजधानी के लिए निकल गई। उससे जुड़े 3 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। पूरी यूपी अलर्ट पर है। राम मंदिर को लेकर गुस्से में आतंकी उसे एक हफ्ते के भीतर विस्फोट करना चाहते थे।

उसने अपने आकाओं के आदेश पर खुद बम तैयार किया था, जिसमें बस टाइमर लगाने की देरी थी। उसने दिसंबर 2019 में अपने गाँव के कब्रिस्तान में छोटी डिवाइस के साथ बम का टेस्ट भी किया था। पुलिस उससे पूछताछ कर पता लगा रही है कि वाकई में उसने बम खुद ही तैयार किए थे या फिर उसे किसी और ने ये दिए थे।

ज्ञात हो कि ISIS आतंकी अबू युसूफ खान को दिल्ली के करोलबाग और धौलाकुआँ के बीच रिज रोड इलाके से गिरफ्तार किया गया था। उसने पुलिस पर फायरिंग भी की थी। पुलिस ने उस पिस्टल को भी जब्त कर लिया है, जिसका इस्तेमाल कर उसने गोली चलाई थी। गिरफ्तार करने से पहले पुलिस और आतंकी के बीच कुछ देर तक शूटआउट भी चला। उसे आधी रात 12 बजे के करीब गिरफ्तार किया गया। 

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe