Friday, April 19, 2024
Homeदेश-समाज'नहीं कहूँगा पाकिस्तान मुर्दाबाद': ताँगे वाला नूर आलम, 20-22 साल से घूम रहा लखनऊ...

‘नहीं कहूँगा पाकिस्तान मुर्दाबाद’: ताँगे वाला नूर आलम, 20-22 साल से घूम रहा लखनऊ में, Video वायरल

तांगा चालक नूर आलम का दूसरा साथी रशीद बीच में आकर मामला जानता है और फिर युवक से बहस करने लगता है। दोनों पाकिस्तान मुर्दाबाद कहने से मना कर देते हैं। वह कहते हैं कि यदि कहेंगे तो हिंदुस्तान-पाकिस्तान जिंदाबाद कहेंगे।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आतंकी गिरोह की धमकियों के कारण सारे शहर में हाई अलर्ट है। ऐसे में बुधवार (अगस्त 25, 2021) को एक वीडियो वायरल हुई है। इस वीडियो में एक तांगा वाला रायबरेली रोड तेलीबाग में स्थित लोहे की दुकान के बाहर अपना तांगा लेकर खड़ा है जिसमें एक ऐसा झंडा बना हुआ है, जिसे वायरल वीडियो में पाकिस्तान का बताया जा रहा है। वहीं एक यूट्यूब वीडियो के मुताबिक बताया जा रहा है कि ये निशान पाकिस्तानी झंडे का नहीं है बल्कि ये कर्बला का निशान है

कथित तौर पर वीडियो 3-4 दिन पुराना है। इसमें देख सकते हैं कि वीडियो में तांगा चालक अपना नाम नूर आलम बताता है और खुद को राजीव नगर घुसियाना का निवासी कहता है। उसके मुताबिक उसके तांगे पर बना झंडा 20-22 साल से बना हुआ है। लेकिन उसने कभी इन पर ध्यान नहीं दिया। आलम के अनुसार, उसे लगा कि उसके तांगे पर पेंट है।

वीडियो में सुन सकते हैं कि हिंदुस्तान की सड़कों पर ‘पाकिस्तानी झंडे’ (वायरल वीडियो में नूर आलम से बहस करने वाला शख्स यही बताता है) वाला तांगा देख युवक भड़क जाता है और तांगे वाले से हिंदुस्तान जिंदाबाद कहने की बात करता है। इस पर नूर आलम ‘हिंदुस्तान जिंदाबाद’, ‘जय हिंद’ और ‘भारत माता की जय’ कहता है। बाद में युवक उसे ‘पाकिस्तान मुर्दाबाद’ का नारा लगाने को कहता है। लेकिन नूर ऐसा कहने से मना कर देता है। इस बीच तांगा चालक का दूसरा साथी रशीद आता है और युवक से बहस करता है।

दोनों पाकिस्तान मुर्दाबाद कहने से मना कर देते हैं। वह कहते हैं कि यदि कहेंगे तो हिंदुस्तान-पाकिस्तान जिंदाबाद कहेंगे। वायरल वीडियो के संबंध में अधिकारियों के आदेश पर इंस्पेक्टर पीजीआइ आनंद शुक्ला ने तांगा चालक को थाने बुलवाया। जब तांगा चालक से पूछताछ की गई तो वह माफी माँगने लगा। माफी माँगने और दोबारा ऐसी गलती न करने की हिदायत देकर उसके तांगे पर बने झंडों को पेंट करके उसे छोड़ दिया गया।

थाने से निकलने के बाद नूर आलम ने रास्ते में तिरंगा झंडा खरीदा। तिरंगे को सलाम कर तांगे में लगाया और फिर हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हुए घर चला गया। इस वाकये की वीडियो भी दैनिक जागरण के डिप्टी न्यूज एडिटर पवन तिवारी ने शेयर की है।

तस्वीर साभार: NewsBook24
Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोकसभा चुनाव 2024: पहले चरण में 60+ प्रतिशत मतदान, हिंसा के बीच सबसे अधिक 77.57% बंगाल में वोटिंग, 1625 प्रत्याशियों की किस्मत EVM में...

पहले चरण के मतदान में राज्यों के हिसाब से 102 सीटों पर शाम 7 बजे तक कुल 60.03% मतदान हुआ। इसमें उत्तर प्रदेश में 57.61 प्रतिशत, उत्तराखंड में 53.64 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।

कौन थी वो राष्ट्रभक्त तिकड़ी, जो अंग्रेज कलक्टर ‘पंडित जैक्सन’ का वध कर फाँसी पर झूल गई: नासिक का वो केस, जिसने सावरकर भाइयों...

अनंत लक्ष्मण कन्हेरे, कृष्णाजी गोपाल कर्वे और विनायक नारायण देशपांडे को आज ही की तारीख यानी 19 अप्रैल 1910 को फाँसी पर लटका दिया गया था। इन तीनों ही क्रांतिकारियों की उम्र उस समय 18 से 20 वर्ष के बीच थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe