Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजस्कूल के बच्चों से करवाई जाती थी मदरसे की 'इस्लामिक' प्रार्थना, शिकायत पर प्रिंसिपल...

स्कूल के बच्चों से करवाई जाती थी मदरसे की ‘इस्लामिक’ प्रार्थना, शिकायत पर प्रिंसिपल फुरकान अली सस्पेंड

स्कूल में कराई जाने वाली मदरसे की प्रार्थना को करने में जब कुछ बच्चों को परेशानी हुई, तब उन्होंने अपने माता-पिता से इसकी शिकायत की। इसके बाद जब अभिभावकों ने स्कूल पहुँचकर इस पर आपत्ति जताई तो अधिकारियों ने उनकी शिकायत को नजरअंदाज कर दिया।

उत्तरप्रदेश के पीलीभीत में हिन्दू बच्चों को जबरदस्ती इस्लामिक प्रार्थना करवाने का मामला उजागर हुआ है। हैरानी की बात ये है कि इसका इल्जाम ग्यासपुर प्राथमिक विद्यालय द्वितीय के प्रिंसिपल पर ही लगा है। प्रिंसिपल का नाम फुरकान अली है। बताया जा रहा है कुछ दिन पहले इस स्कूल में मदरसे की प्रार्थना करवाते हुए एक वीडियो वायरल हुई थी। जिसके बाद विश्व हिन्दू परिषद और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने इसकी शिकायत तहसील के एसडीएम से की। हिन्दू संगठनों की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए प्रिंसिपल को निलंबित कर दिया गया। अब एसडीएम ने खंड शिक्षाअधिकारी उपेंद्र विश्वकर्मा को पूरे मामले की जाँच सौंपी हैं।

हालाँकि, फुरकान अली के अनुसार उनके ऊपर लगे सभी आरोप फर्जी हैं। उनका मत है कि उनके स्कूल में सरस्वती वंदना भी करवाई जाती है, मगर स्कूल में 90 फीसद बच्चे मुस्लिम होने की वजह से उनके आग्रह पर इस्लाम की प्रार्थना करवाई जाती है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार फुरकान अली ने अपने निलंबन पर कहा, “विद्यालय में हिन्दू और मुस्लिम दोनों समुदाय के बच्चे पढ़ते हैं। इसी लिहाज से यह दुआ वर्ष 2011 से करवा रहा हूँ। परिषदीय विद्यालय की पुस्तक में भी यह दुआ छपी हुई है। मेरी बात न सुनकर एकतरफा कार्रवाई की गई है।”

उल्लेखनीय है कि फुरकान अली के उक्त बयान के बाद विभाग के अधिकारियों की भूमिका संदेह के घेर में आ गई है। सवाल उठ रहे हैं कि जब आए दिन अधिकारी स्कूल का निरीक्षण करते थे, तो फिर ये मामला उजागर क्यों नहीं हुआ?

दैनिक जागरण में प्रकाशित खबर

यहाँ बता दें कि साल 2011 से स्कूल में कराई जाने वाली मदरसे की प्रार्थना को करने में जब कुछ बच्चों को परेशानी हुई, तब उन्होंने अपने माता-पिता से इसकी शिकायत की। इसके बाद जब अभिभावकों ने स्कूल पहुँचकर इस पर आपत्ति जताई तो अधिकारियों ने उनकी शिकायत को नजरअंदाज कर दिया। इसके अलावा पूरे मामले में सबसे अचंभित करने वाली बात ये भी है कि स्कूल के नजदीक ही खंड शिक्षा अधिकारी का कार्यालय है, जहाँ वे अपने विभागीय कार्य करते हैं। फिर भी उन्हें मदरसे की प्रार्थना के संबंध में कुछ नहीं पता था।

अब जब इस पूरे मामले में प्रमाण सहित वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, तो अधिकारी मामले को दबाना चाहते हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार अभी 10 दिन पूर्व ही हिन्दू वाहिनी के कार्यकर्ता तहसील के एसडीएम के पास मामले को लेकर पहुँचे और पूरे प्रकरण से उन्हें अवगत करवाया। अब इसी शिकायत के आधार पर फुरकान अली का निलंबन हुआ है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe