Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजमौक़ा गणतंत्र दिवस का, नारे इस्लामी: AMU में झंडा फहराने के दौरान गूँजा 'अल्लाहु...

मौक़ा गणतंत्र दिवस का, नारे इस्लामी: AMU में झंडा फहराने के दौरान गूँजा ‘अल्लाहु अकबर’ और ‘नारा-ए-तकबीर’, चिल्लाने वालों में NCC कैडेट्स भी

AMU के प्रॉक्टर वसीम अली ने जानकारी दी है कि वीडियो के आधार पर छात्रों की पहचान की जा रही है, जिसके बाद कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

उत्तर प्रदेश स्थित ‘अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU)’ में गणतंत्र दिवस के अवसर पर झंडा फहराने के दौरान गुरुवार (26 जनवरी, 2023) को कट्टर मजहबी नारे लगाने के अमला सामने आया है। ख़ास बात ये है कि AMU कैम्पस में ये नारेबाजी ‘NCC (राष्ट्रीय कैडेट कोर)’ के सदस्यों ने लगाया। छात्रों ने इस दौरान ‘अल्लाहु अकबर’ और ‘नारा-ए-तकबीर’ चिल्लाया। सोशल मीडिया में इसका वीडियो भी वायरल हो रहा है।

ट्विटर पर विश्वविद्यालय के के पूर्व छात्र और भाजपा नेता डॉ निशित शर्मा ने अलीगढ़ पुलिस और एसएसपी कलानिधि नैथानी को टैग करते हुए शिकायत की है। उन्होंने पूछा कि गणतंत्र दिवस के पावन अवसर पर जंग के नारे लगाने का क्या तुक है? उन्होंने पुलिस से आग्रह किया कि इस मामले में संज्ञान लेकर आवश्यक कार्रवाई की जाए। उन्होंने जानकारी दी कि इस संबंध में पुलिस से भी बातचीत चल रही है। वीडियो पर अब यूनिवर्सिटी प्रशासन का भी बयान आया है।

AMU के प्रॉक्टर वसीम अली ने जानकारी दी है कि वीडियो के आधार पर छात्रों की पहचान की जा रही है, जिसके बाद कानूनी कार्रवाई की जाएगी। अलीगढ़ पुलिस ने भी बताया है कि इस घटना के संबंध में उसने विश्वविद्यालय से संपर्क किया है। बता दें कि वायरल वीडियो में इक्का-दुक्का नहीं, बल्कि दर्जनों छात्रों को मजहबी नारेबाजी करते हुए देखा जा सकता है। यूनिवर्सिटी के कुलपति (VC) तारिक मंसूर भी घटना के वक्त उससे कुछ ही दूरी पर मौजूद थे।

डॉ निशित वर्मा ने इस बारे में काह है, “यह मजहबी नारा उनकी सोच को दर्शाता है। इस तरीके के नारे लगवा कर क्या संदेश देना चाह रहे हैं? एक और पूरा देश भारत के संविधान को नमन कर रहा है, ऐसे में इस तरीके के नारे लगाकर भारत में विभिन्न पैदा करना चाह रहे हैं। ये नारे किस प्रकार से लगाए गए हैं और इसके पीछे कौन सी सोच काम कर रही है – इसकी जाँच होनी चाहिए।” उन्होंने इसे देश-विरोधी नारा करार दिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -