Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजलटकी थीं 48 जिंदगी, 45 घंटे बाद 2500 फीट की ऊँचाई पर रेस्क्यू ऑपरेशन...

लटकी थीं 48 जिंदगी, 45 घंटे बाद 2500 फीट की ऊँचाई पर रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा: देवघर रोपवे हादसे का हाई कोर्ट ने भी लिया संज्ञान

हादसे पर झारखंड हाई कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया है। मुख्य न्यायधीश रवि रंजन औऱ जस्टिस एसएन प्रसाद की बेंच ने जाँच का आदेश दिया है। कोर्ट ने सरकार से मामले में 25 अप्रैल को रिपोर्ट तलब की है।

झारखंड के देवघर स्थित त्रिकुट पर्वत पर हुए रोपवे हादसे के बाद शुरू किया गया बचाव अभियान पूरा हो गया है। 45 घंटे तक चले अभियान के बाद रोपवे की ट्रॉलियों में फॅंसे 48 लोगों में से 46 को बचा लिया गया है। हालाँकि, मंगलवार (12 अप्रैल 2022) को भी एक महिला पर्यटक की ट्रॉली से नीचे गिरने के कारण मौत हो गई। बचाव अभियान के दौरान ये दूसरी मौत थी। इससे पहले सोमवार को भी एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। वहीं 12 लोग घायल भी हुए हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार को करीब 7 घंटे तक एयरफोर्स और आईटीबीपी की टीम ने करीब 2500 फीट की ऊँचाई पर ज्वाइंट ऑपरेशन चलाया औऱट्रालियों में फँसे 15 लोगों को बचा लिया। इस ऑपरेशन के दौरान एक जवान के पैरों में भी चोट लगी है। हादसे में घायल लोगों में महिलाएँ औऱ बच्चियाँ शामिल हैं। कई लोगों को इंटेसिव केयर यूनिट (ICU) में रखा गया है। उल्लेखनीय है यह ऑपरेशन काफी खतरनाक था, ऐसा इसलिए क्योंकि तेज हवा होने के कारण रोपवे की रस्सियाँ हिलने लगती थीं।

सोमवार को पहले दिन सेना, वायुसेना, NDRF औऱ और ITBP की टीमों ने करीब 12 घंटे तक बचाव अभियान चलाकर 33 पर्यटकों को सफलतापूर्वक बचाया था। लेकिन, एक व्यक्ति की सेफ्टी बेल्ट टूटने के कारण नीचे गिरने से मौत हो गई। अंधेरा और कोहरा होने के कारण बचाव को फिर रोक दिया गया था।

इस हादसे पर झारखंड हाई कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया है। मुख्य न्यायधीश रवि रंजन औऱ जस्टिस एसएन प्रसाद की बेंच ने जाँच का आदेश दिया है। कोर्ट ने सरकार से मामले में 25 अप्रैल को रिपोर्ट तलब की है।

गौरतलब है कि रविवार (10 अप्रैल 2022) को रामनवमी होने के कारण बड़ी संख्या में लोग त्रिकुट पहाड़ पर पहुँचे थे। पहाड़ पर बने मंदिर की तरफ एक साथ 26 ट्रॉलियाँ रवाना की गई थीं, जिससे रोपवे की तारों पर अचानक लोड बढ़ा और रोलर टूट गया। तीन ट्रॉलियाँ पहाड़ से टकरा गईं, वहीं दो नीचे गिर गईं। इनमें सवार 12 लोग जख्मी हो गए और दो लोगों की मौत हो गई। बाकी ट्रॉलियाँ आपस में टकराकर रुक गईं। लोगों को निकालने के लिए जैसे ही सेना ने हेलीकॉप्टर का सहारा लिया, वैसे ही पंखे की तेज हवा से ट्रॉलियाँ हिलने लगीं, इससे लोगों की जान पर बन आई।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -