Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजएक से शादी, एक को मार कर जंगल में फेंका, कई को बेचा: ST...

एक से शादी, एक को मार कर जंगल में फेंका, कई को बेचा: ST बन जनजातीय लड़कियों को फँसाता था अरबाज आलम, बीवी भी करती थी मदद

अरबाज आलम जनजातीय लड़कियों को अपने जाल में फँसाने के लिए कई हथकंडे अपनाता था। सोशल मीडिया पर कई फर्जी नाम से प्रोफाइल बना रखे थे। अब तक पुलिस को उसके आर्यन मुर्मू, आर्यन सोरेन और आर्यन हेंब्रम जैसे नाम रखने की जानकारी मिली है।

झारखंड के साहिबगंज में जनजातीय युवती सुशीला हांसदा की हत्या मामले में गिरफ्तार अरबाज आलम को लेकर चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। रिपोर्ट के अनुसार वह कई जनजातीय लड़कियों को अलग-अलग शहरों में बेच चुका है। इन लड़कियों को वह खुद को ST बताकर प्रेमजाल में फँसाता था। उसकी बीवी रेहिना भी जनजातीय वर्ग से ही आती है। निकाह से पहले उसका नाम मिसलता टुडू था। बताया जाता है कि अरबाज के अपराधों में वह भी मददगार रही है।

12 जनवरी 2022 को 26 साल की सुशीला की जली हुई लाश जंगल में मिली थी। करीब 14 महीने बाद इस मामले में अरबाज, उसकी बीवी सहित चार को गिरफ्तार किया गया था। यह बात सामने आई थी कि सुशीला को अरबाज बेचना चाहता था। जब इसकी भनक सुशीला को लग गई तो उसने पहले उसकी हत्या कर दी। फिर जंगल में लाश को ठिकाने लगा दिया।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार अरबाज ने पुलिस के आगे अपना गुनाह कबूल किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक जनजातीय लड़कियों को अपने जाल में फँसाने के लिए अरबाज कई हथकंडे अपनाता था। खुद को लड़कियों के समुदाय का ही बताता था। इसके लिए वह सोशल मीडिया का भी प्रयोग करता था। उसने कई फर्जी नाम से प्रोफाइल बना रखे थे। अब तक पुलिस को उसके आर्यन मुर्मू, आर्यन सोरेन और आर्यन हेंब्रम जैसे नाम रखने की जानकारी मिली है। पुलिस के मुताबिक अरबाज की बीवी रेहिना उर्फ मिसलता अपने शौहर के गलत कामों में पूरा साथ दिया करती थी।

रेहिना उर्फ मिसलता शादीशुदा और बाल-बच्चेदार थी। उसने अपने पति और बच्चों को छोड़ कर अरबाज से शादी की थी। शादी बाद अरबाज ने उसका नाम बदल दिया। धीरे-धीरे वह अरबाज के अपराधों में भी शरीक हो गई। फिलहाल वह भी पुलिस की गिरफ्त में है। सुशीला भी शादीशुदा थी जो अपने पति से अलग रहा करती थी। अरबाज ने सुशीला से भी शादी का वादा किया था।

जाँच के दौरान झारखंड पुलिस ने अरबाज द्वारा पहले से बेची गई 2 जनजातीय लड़कियों को आज़ाद भी करवाया है। दोनों को उत्तर प्रदेश के बरेली में उनसे कहीं अधिक उम्र के लोगों के हाथ बेच दिया गया था। बचाई गई एक लड़की दुमका जिले की है तो दूसरी गोड्डा की। सुशीला का वह 50 हजार रुपए में सौदा करने की फिराक में था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

पापुआ न्यू गिनी में चली गई 2000 लोगों की जान, भारत ने भेजी करोड़ों की राहत (पानी, भोजन, दवा सब कुछ) सामग्री

प्राकृतिक आपदा के कारण संसाधनों की कमी से जूझ रहे पापुआ न्यू गिनी के एंगा प्रांत को भारत ने बुनियादी जरूरतों के सामान भेजे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -