Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजआउट करने पर गेंदबाज को पिच पर पटका, भाई के साथ मिलकर पीटा, फिर...

आउट करने पर गेंदबाज को पिच पर पटका, भाई के साथ मिलकर पीटा, फिर गला दबाकर मार डाला: 14 साल के सचिन की कानपुर में हत्या

सचिन नाम के गेंदबाज की बॉलिंग पर हरगोविंद नाम का बल्लेबाज क्लीन बोल्ड हो गया। बताया जाता है कि इससे हरगोविंद नाराज हो गया। अपने भाई बृजेश के साथ मिल कर सचिन को पहले पिच पर पटक-पटक कर मारा और बाद में उसका गला दबा दिया।

उत्तर प्रदेश के कानपुर में क्रिकेट मैच के दौरान एक लड़के की हत्या कर दी गई। रिपोर्टों के अनुसार आउट होने पर बैट्समैन ने गेंदबाज को पिच पर ही पटक दिया। फिर भाई के साथ मिलकर उसे पीटा और गला दबाकर उसकी जान ले ली। मृतक 14 वर्षीय सचिन है। आरोपितों की पहचान हरगोविंद और बृजेश के तौर पर बताई गई है। मामला सोमवार (19 जून 2023) का है। हैं। पुलिस आरोपितों की तलाश कर रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामला कानपुर के घाटमपुर थाना क्षेत्र का है। यहाँ के गाँव रहटी डेरा में सोमवार को कुछ बच्चे क्रिकेट खेल रहे थे। इस दौरान सचिन नाम के गेंदबाज की बॉलिंग पर हरगोविंद नाम का बल्लेबाज क्लीन बोल्ड हो गया। बताया जाता है कि इससे हरगोविंद नाराज हो गया। अपने भाई बृजेश के साथ मिल कर सचिन को पहले पिच पर पटक-पटक कर मारा और बाद में उसका गला दबा दिया। सचिन को पिच पर बेसुध छोड़कर हरगोविंद और बृजेश भाग निकले।

सचिन के परिजनों को जैसे ही मामले की जानकारी हुई वे मैदान पर पहुँचे। सचिन के पिता मोहन सिंह के मुताबिक उन्हें फोन पर सचिन के बेहोश होने की सूचना दी गई थी। आनन-फानन में उसे अस्पताल ले जाया गया लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना से नाराज सचिन के परिजनों ने शव को अपने घर के बाहर रख दिया। उनका कहना था कि आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद ही वे शव को सौंपेंगे। पुलिस ने मृतक के परिजनों को समझाया-बुझाया। देर रात लगभग 10 बजे मृतक के परिजनों ने शव को पोस्टमार्टम के लिए सौंपा।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार यह मैच 10 रुपए के लिए हो रहा था। कानपुर पुलिस के मुताबिक मामले में केस दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। आरोपित हरगोविंद और बृजेश को पकड़ने के लिए पुलिस की टीमें गठित कर दी गईं हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -