Friday, September 17, 2021
Homeदेश-समाजनकली डॉलर बेचकर कारोबारी को ठगने वाले रोहिंग्या अलामिन, मासूम शेख, आलिया, तरीकुलमुल्ला गिरफ्तार

नकली डॉलर बेचकर कारोबारी को ठगने वाले रोहिंग्या अलामिन, मासूम शेख, आलिया, तरीकुलमुल्ला गिरफ्तार

गैंग का सरगना अलामिन बंगलादेश से आने वाले घुसपैठियों को कानपुर में ठिकाना दिलाता था। अलामिन ने बताया कि वह बांग्लादेशी व रोहिंग्याओं को पश्चिम बंगाल के रास्ते कानपुर लाता था और उन्हें अलग-अलग इलाकों की बस्तियों में किराए पर कमरा दिलाकर या झोपड़ियों में रुकवाता था।

कानपुर में रुपयों के बदले नकली डॉलर देकर व्यापारी को ठगने वाले बांग्लादेश से आए रोहिंग्या गिरोह के सरगना अलामीन को कल्याणपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के दौरान शातिरों ने वारदात को अंजाम देने की बात कबूली। सीएए के विरोध में शहर में हुई हिंसा में इनके शामिल होने की आशंका जताई जा रही है। फिलहाल पुलिस इस बारे में पड़ताल कर रही है।

कल्याणपुर के सीओ अजय कुमार ने बताया कि सीसामऊ के व्यापारी विजय बजाज को रुपयों के बदले डॉलर देने का झाँसा देकर रोहिंग्या गिरोह ने ठगा था। उन्होंने बताया कि तरीकुल मुल्ला, राजू खाँ और आलिया बेगम को गिरफ्तार किया गया था। मगर अलामिन और मासूम शेख और फरार हो गए थे। पुलिस ने दोनों को रविवार को बारासिरोही कल्याणपुर से धर दबोचा। अलामिन गैंग का सरगना है और आलिया इनकी मौसी बनकर व्यापारियों को झाँसा देती थी। इन शातिरों के पास से नकली डॉलर, फर्जी आधार कार्ड बरामद हुए हैं। सीओ ने बताया कि आरोपितों से पूछताछ में पता चला कि पश्चिम बंगाल के रास्ते बांग्लादेश से आए रोहिंग्या बड़ी संख्या में कानपुर में किराए के घरों मे रह रहे हैं।

बारासिरोही में इनकी बड़ी आबादी झोपड़ियाँ बनाकर रह रही है। पकड़े गए आरोपितों का आधार कार्ड बारासिरोही निवासी परवीन बेगम के पते पर बना हुआ है। परवीन बेगम की भूमिका संदिग्ध लगने की वजह से उनके बारे में पड़ताल की जा रही है। सीओ का कहना है कि बिना किसी मूल पहचान के आसानी से इनका आधार कार्ड कैसे बना, इसका पता लगाया जा रहा है। आशंका है कि सीएए के विरोध में हुई हिंसा में ये लोग भी शामिल थे। पड़ताल की जा रही है।  

कल्याणपुर के इंस्पेक्टर अजय सेठ ने बताया कि तरीकुलमुल्ला, राजू खाँ और आलिया बेगम को बुधवार (फरवरी 26, 2020) को गिरफ्तार किया गया था। राजू खाँ खुद को बांग्लादेश के खुलना जिले के गाँव छीरमुनी का बता रहा है तो तरीकुल पश्चिम बंगाल के नॉर्थ 24 परगना के गाँव खड़ीघानी का। वहीं आलिया खुद को राजस्थान के धौलपुर छावनी का बता रही है। हालाँकि बातचीत से तीनों रोहिंग्या लग रहे हैं। तीनों बारा सिरोही में परवीन बेगम के यहाँ रहते थे और दिखावे के लिए कूड़ा बीनने का काम करते थे। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने परवीन बेगम के घर पर छापा मारकर तीनों को दबोच लिया।

शातिरों की गिरफ्तारी के बाद कई सारी बातें सामने आई है। गैंग का सरगना अलामिन बंगलादेश से आने वाले घुसपैठियों को कानपुर में ठिकाना दिलाता था। अलामिन ने बताया कि वह बांग्लादेशी व रोहिंग्याओं को पश्चिम बंगाल के रास्ते कानपुर लाता था और उन्हें अलग-अलग इलाकों की बस्तियों में किराए पर कमरा दिलाकर या झोपड़ियों में रुकवाता था। उन्हीं की मदद से गैंग बनाकर टप्पेबाजी का जाल फैलाकर रकम बटोर रहा था। अलामिन ने ही गैंग के प्रत्येक सदस्य को ठगी के लिए डॉलर, पहचान पत्र, मोबाइल और नगदी की व्यवस्था कराई थी।

इसके साथ ही पूछताछ में खुलासा हुआ कि इस गैंग का मुख्य ऑपरेटर मुंबई में है। लोगों को शिकार बनाने के बाद ठगी की रकम को मुंबई के ही एक खाते में ट्रांसफर किया जाता था। पुलिस ने बताया कि इनके पास से 20 डॉलर का एक और 100 व 50 रुपए के 96 जाली नोट (कुल 20 हजार रुपए), तीन बांग्लादेशी सिम, दर्जन भर सिम कवर, पाँच मोबाइल फोन, चोरी की मोटरसाइकिल, 1250 ग्राम चरस बरामद हुई है।

पूछताछ में पता चला कि ये शातिर सामान लेने के दौरान दुकानदार को रुपए के बदले डॉलर देते थे। झाँसा देते थे कि डॉलर उन्हें कूड़े में पड़े मिले हैं। सस्ते के लालच में लोग ठगे जाते थे। ये लोग नकली नोट भी खपाते थे। इनसे बरामद नोट भी एक ही नंबर के हैं। सीसामऊ निवासी विजय बजाज के कल्याणपुर थाने में 16 फरवरी को मुकदमा लिखाने के बाद यह मामला खुला। ठगों ने उन्हें इंदिरा नगर बुलाकर नकली डॉलर थमाकर तीन लाख रुपए ठग लिए थे। विजय को जब इसके नकली होने के बात पता चली तो उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दी। जिसके बाद पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए इन्हें धर दबोचा।


  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘फर्जी प्रेम विवाह, 100 से अधिक ईसाई लड़कियों का यौन शोषण व उत्पीड़न’: केरल के चर्च ने कहा – ‘योजना बना कर हो रहा...

केरल के थमारसेरी सूबा के कैटेसिस विभाग ने आरोप लगाया है कि 100 से अधिक ईसाई लड़कियों का फर्जी प्रेम विवाह के नाम पर यौन शोषण किया गया।

डॉ जुमाना ने किया 9 बच्चियों का खतना, सभी 7 साल की: चीखती-रोती बच्चियों का हाथ पकड़ लेते थे डॉ फखरुद्दीन व बीवी फरीदा

अमेरिका में मुस्लिम डॉक्टर ने 9 नाबालिग बच्चियों का खतना किया। सभी की उम्र 7 साल थी। 30 से अधिक देशों में है गैरकानूनी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,922FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe