Tuesday, August 9, 2022
Homeदेश-समाजआस्था हिंदुओं की, धंधा हर मजहब के लिए: बोले आमिर- इसी कमाई से पालता...

आस्था हिंदुओं की, धंधा हर मजहब के लिए: बोले आमिर- इसी कमाई से पालता हूँ परिवार, तहजीब से पेश आते हैं काँवड़िए

"यहाँ किसी भी प्रकार से भेदभाव किसी के साथ भी नहीं होता। काँवड़ बनाने वाले अधिकतर कारीगर मुस्लिम समुदाय से हैं। इस पर्व से उनके भी घर में चूल्हा जलता है।"

चाहे कुंभ हो या काँवड़ यात्रा, इनका केवल धार्मिक और सामाजिक महत्व ही नहीं है। ये अर्थव्यवस्था में भी अपना योगदान देते हैं। पिछली रिपोर्ट में हमने आपको बताया था कि कैसे कारोबारी इससे लाभान्वित होते हैं। 23 जुलाई 2022 को मुजफ्फरनगर होते हुए हरिद्वार तक की यात्रा में हमने पाया कि इसका आर्थिक पक्ष एक ही धर्म के लोगों को फायदा नहीं पहुँचाता। अन्य मजहब के लोगों को भी इससे लाभ होता है। यही कारण है कि वे भी काँवड़ यात्रा का बेसब्री से इंतजार करते रहते हैं।

मुजफ्फरनगर हरिद्वार हाइवे पर थाना नई मंडी से थोड़ा आगे चलने पर हमें सड़क के किनारे शिकंजी वाले गुड्डू मियाँ मिले। वे हरिद्वार के ज्वालापुर के रहने वाले हैं। लम्बे समय से मुजफ्फरनगर में शिकंजी बेच रहे हैं। उन्होंने बताया, “काँवड़ यात्रा के दौरान हमारी कमाई आम दिनों के मुकाबले बेहतर होती है।”

गुड्डू मियाँ शिकंजी वाले

चमक उठी अफ़ज़ल की चश्मे की दुकान

उत्तराखंड की सीमा में घुसने के कुछ देर बाद मंगलौर इलाके में अफ़ज़ल सड़क किनारे चश्मा बेचते दिखे। उनके चश्में कई काँवड़ियों ने भी खरीदे। अफ़ज़ल ने बताया कि काँवड़ यात्रा के चलते काँवड़ियों की खरीदारी से उनके चश्मों की बिक्री बढ़ी है।

चश्मे बेचते अफ़ज़ल

500 रुपए रोज कमा कर आमिर पाल रहे अपने परिवार को

रुड़की के पास चप्पल और मोज़े बेचने वाले आमिर ने हमें बताया, “मेरी लगभग 500 से 600 रुपए रोज की कमाई है। इसी कमाई से मैं अपना परिवार पालता हूँ। काँवड़ यात्री हमसे तहजीब से बात करते हैं।”

आमिर और पीछे उनका बच्चा

चश्मे वाले सरदार संजू सिंह को भी काँवड़ में फायदा

हर की पौड़ी से पहले लोहा पुल के पास चश्मे बेच रहे सरदार संजू सिंह ने हमें बताया, “मेरा देहरादून में बैलून डेकोरेशन का काम है लेकिन पूरे काँवड़ भर हरिद्वार में चश्मे बेचता हूँ। यहाँ हमारी अच्छी-खासी कमाई हो जाती है।”

सरदार संजू सिंह

काँवड़ बनाने वाले अधिकतर कारीगर मुस्लिम

अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री महंत रवींद्र पुरी ने ऑपइंडिया से कहा, “यहाँ किसी भी प्रकार से भेदभाव किसी के साथ भी नहीं होता। काँवड़ बनाने वाले अधिकतर कारीगर मुस्लिम समुदाय से हैं। इस पर्व से उनके भी घर में चूल्हा जलता है।”

अखाड़ा परिषद राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री महंत रविंद्र पुरी

ट्रांसपोर्ट और कपड़े के कारोबार से भी अच्छी कमाई

हरिद्वार के समाजसेवी अधीर कौशिक ने ऑपइंडिया को बताया, “न सिर्फ काँवड़ बनाने वाले, बल्कि यहाँ काँवड़ियों को लाने वाली गाड़ियों के ट्रांसपोर्ट मालिक भी अलग-अलग धर्म से हैं। इसी के साथ काँवड़ियों के कपड़े भी सिर्फ हिन्दू समाज के लोग नहीं बनाते। ये धर्म की नगरी है जो सभी को समान रूप से देखती है।”

समाजसेवी अधीर कौशिक

स्थानीय लोगों ने बताया कि प्रसाद, गंगाजल के डिब्बे और सिन्दूर आदि बेचने वालों में सभी धर्मों के लोग शामिल हैं। हर कोई बिना भेदभाव के अपना व्यापार करता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डोनाल्ड ट्रंप के ‘खूबसूरत घर’ पर FBI की रेड: पूर्व राष्ट्रपति बोले- मेरी तिजोरी में भी सेंध मारी, दावा- व्हाइट हाउस से लेकर चले...

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप को लेकर कहा जा रहा है कि उन्होंने राष्ट्रपति भवन छोड़ते समय कुछ दस्तावेज अपने पास रख लिए थे। एफबीआई रेड में उन्हें ही ढूँढ रही थी।

मंदिर से लौट रहे हिन्दू परिवार पर हमला, महिलाओं से छेड़छाड़: Pak में जहाँ हुई थी हिन्दू कारोबारी की हत्या, वहाँ अब भी नहीं...

पाकिस्तान के सिंध के संघर में एक हिंदू परिवार पर रविवार शाम को मीरपुर मथेलो पुलिस थाने के भीतर लगभग एक दर्जन लोगों ने हमला बोल दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
212,424FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe