Tuesday, October 26, 2021
Homeदेश-समाज‘शिहाब ने मेरे शौहर को मुझसे दूर किया, अश्लील संदेश भेजे, जान से मारने...

‘शिहाब ने मेरे शौहर को मुझसे दूर किया, अश्लील संदेश भेजे, जान से मारने की धमकी दी’: कर्नाटक में असिया बनी शांति की पीड़ा

यहाँ पर शांति जूबी नाम की हिंदू महिला को इस्लाम में धर्मांतरित किया गया। जिसके बाद उसका नाम असिया इब्राहिम खलील कट्टेकर कर दिया गया। राज्य अध्यक्ष राजेश कोल्हो और दक्षिण कन्नड़ जिला अध्यक्ष शब्बीर उल्लाल के नेतृत्व में ‘आधुनिक मानवाधिकार समिति’ ने आरोप लगाया कि सिया इब्राहिम खलील कट्टेकर को....

कर्नाटक में लव जिहाद का मामला सामने आया है। यहाँ पर शांति जूबी नाम की हिंदू महिला को इस्लाम में धर्मांतरित किया गया। जिसके बाद उसका नाम असिया इब्राहिम खलील कट्टेकर कर दिया गया। राज्य अध्यक्ष राजेश कोल्हो और दक्षिण कन्नड़ जिला अध्यक्ष शब्बीर उल्लाल के नेतृत्व में ‘आधुनिक मानवाधिकार समिति’ ने आरोप लगाया कि सिया इब्राहिम खलील कट्टेकर को उसके पति इब्राहिम खलील कट्टेकर से जबरन दूर रखा जा रहा है। 

‘आधुनिक मानवाधिकार समिति’ ने यह आरोप इब्राहिम खलील के बड़े भाई शिहाब और परिवार के अन्य सदस्यों पर लगाया, जो इब्राहिम खलील कट्टेकर को अपनी पत्नी से दूर रहने के लिए मजबूर कर रहे हैं।

आसिया ने टाइम्स नाउ से बात करते हुए कहा कि उसने सोचा था कि उसकी जिंदगी सुरक्षित है, मगर यहाँ पर उसका साथ देने के लिए कोई नहीं है। इस्लाम में परिवर्तित होने से पहले उससे कहा गया था कि यह बहुत ही रंगीन और सुंदर है।

26 नवंबर को विश्व हिंदू परिषद की टीम आसिया से मिलने के लिए पहुँची और उसे दक्षिणा कन्नड़ जिले के सुलिया पुलिस स्टेशन ले गए और अपने ‘गायब’ पति को लेकर परिवार के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने के लिए कहा। विश्व हिंदू परिषद की इस टीम में शरण पंपवेल, सुरेशा राज, लतीश गुंडया और अन्य लोग शामिल थे। उन्होंने महिला से वापस हिंदू धर्म में आ जाने की गुहार लगाई।

शांति जोबी केरल के कन्नूर की रहने वाली हैं। उसकी फेसबुक के जरिए अब्दुल हाजी कट्टेकर के बेटे इब्राहिम खलील कट्टेकर से दोस्ती हुई। दोनों एक-दूसरे को अच्छी तरह से जानने के बाद 12 जुलाई, 2017 को इस्लाम में परिवर्तित होने के बाद उसके साथ निकाह किया। निकाह के बाद, शांति जूबी ने अपना नाम बदलकर आसिया इब्राहिम खलील कट्टेकर रख लिया। इसके बाद ये दोनों बेंगलुरु, मैसूर आदि के विभिन्न किराए के घरों में रहे।

इब्राहिम की शादी के बारे में पता चलने के बाद, उसके बड़े भाई शिहाब और अन्य लोग आसिया के पति को सुलिया में उनके घर ले गए एवं आसिया को बेंगलुरु में ही छोड़ दिया। इसके बाद दोनों अलग रहने लगे। बताया जा रहा है कि जब आसिया ने अपने पति से संपर्क करने की कोशिश की, तो परिवार के सदस्यों ने उसे मारने की धमकी दी। 

दोनों पक्षों ने पुत्तुर और सुलिया पुलिस स्टेशनों में बैठक की और चर्चा की, लेकिन उनकी समस्याओं का समाधान नहीं निकला। आसिया का कहना है कि उसके पति को कहीं छुपा दिया गया है और उसका मोबाइल बंद कर दिया गया है। वह कहती है कि जब वह अपने पति के परिवार के घर गई, तो उसे शिहाब ने हत्या की धमकी दी थी। कई संगठनों द्वारा उसकी मदद के लिए किए गए प्रयास भी विफल रहे।

आसिया ने आरोप लगाया है कि शिहाब उसे अश्लील मैसेज भेज रहा है। आसिया का कहना है कि उसकी माँग के अनुसार, दो लग्जरी कारों और दो स्कूटरों के अलावा कई बार 25 लाख रुपए से अधिक की धनराशि दी गई। फिर भी परिवार खुश नहीं है और मेंटली टॉर्चर कर रहे हैं। आसिया अपने इस आरोप को दोहराती है कि उसे उसके पति से दूर रखा गया है। आसिया ने अब मीडिया से संपर्क किया है और उनसे मदद माँगी है कि वो उसे उसके पति इब्राहिम खलील कट्टेकर से मिलने में मदद करे, ताकि वह उसके साथ विवाहित जीवन गुजार सके।

वहीं मुस्लिम ग्रुप ने आसिया के लव जिहाद के आरोपों का खंडन किया है। जमात के अध्यक्ष अशरफ मुस्लिम ने कहा कि प्रेम में धर्म की कोई भूमिका नहीं है। इसे ‘लव जिहाद’ कहना गलत है। कॉन्ग्रेस विधायक यूटी खंडेर ने इस पर कर्नाटक सरकार पर टिप्पणी करते हुए कहा कि वे एक विशेष समुदाय को नीचा दिखाना चाहते हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केरल में नॉन-हलाल रेस्तराँ खोलने वाली महिला को बेरहमी से पीटा, दूसरी ब्रांच खोलने के खिलाफ इस्लामवादी दे रहे थे धमकी

ट्विटर यूजर के अनुसार, बदमाशों के खिलाफ आत्मरक्षा में रेस्तराँ कर्मचारियों द्वारा जवाबी कार्रवाई के बाद केरल पुलिस तुशारा की तलाश कर रही है।

असम: CM सरमा ने किनारे किया दीवाली पर पटाखों पर प्रतिबंध का आदेश, कहा – जनभावनाओं के हिसाब से होगा फैसला

असम में दीवाली के मौके पर पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध का ऐलान किया गया था। अब मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा है कि ये आदेश बदलेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
131,815FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe