‘पाक को भारत में खुशहाल 18 करोड़ मुस्लिम नहीं दिखते, कश्मीर पर झूठ बोलकर वह दुनिया को गुमराह कर रहा’

कश्मीर के 8-9 करोड़ मुसलमानों की बात करते हुए पाकिस्तान को भारत में शांतिपूर्वक और खुशहाल जीवन गुजार रहे 18 करोड़ मुस्लिम नहीं दिखाई देते हैं। वह लगातार झूठ बोलकर दुनिया को गुमराह कर रहा है। पाकिस्‍तान ने खुशहाल भारत की तस्‍वीर की ओर से आँखें बंद कर रखी हैं।

भारतीय मुसलमानों को लेकर वैश्विक मंच पर दुष्प्रचार में लगे पाकिस्तान के वजीर-ए-आजम इमरान खान को फिर एक भारतीय मुसलमान ने ही आईना दिखाया है। विदेशी सरजमीं से अजमेर शरीफ के चिश्ती फाउंडेशन के अध्यक्ष हाजी सैयद सलमान चिश्ती ने पाकिस्तान को ‘औकात’ दिखाते हुए कहा कि वह ‘सही’ को ‘गलत’ साबित करने की कुचेष्टा बंद कर दे। उन्होंने कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बताते हुए आम कश्मीरियों से आह्वान किया है कि बेहतर भविष्य के लिए वह मोदी सरकार के इस फैसले के साथ चलें और कश्मीर के विकास में अपना योगदान दें।

यूनिवर्सिटी ऑफ जेनेवा के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्‍होंने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, इसे लेकर किसी तरह के कोई किंतु, परंतु का सवाल ही नहीं है। सैयद सलमान चिश्ती ने अनुच्‍छेद-370 और 35(ए) को हटाए जाने के बाद बौखलाए पाकिस्‍तान की ओर से लगाए जा रहे कश्‍मीरी मुस्‍ल‍िमों के उत्‍पीड़न के आरोपों को गलत बताया। उन्‍होंने कहा कि पाकिस्‍तान का अपना एक अलग राग और सुर है। कश्मीर के 8-9 करोड़ मुसलमानों की बात करते हुए पाकिस्तान को भारत में शांतिपूर्वक और खुशहाल जीवन गुजार रहे 18 करोड़ मुस्लिम नहीं दिखाई देते हैं। वह लगातार झूठ बोलकर दुनिया को गुमराह कर रहा है। पाकिस्‍तान ने खुशहाल भारत की तस्‍वीर की ओर से आँखें बंद कर रखी हैं।

उन्‍होंने कहा कि जम्‍मू-कश्‍मीर के लोगों के पास सुनहरा भविष्‍य है। कश्‍मीर के लोगों को पता है कि उनके बच्‍चों का भविष्‍य भारत में ही सँवर सकता है। कश्‍मीर सूफी संतों की भूमि है। सैयद सलमान चिश्ती का उक्‍त बयान पाकिस्‍तान के मुँह पर करारा तमाचा है, जो इन दिनों कश्‍मीर के नाम पर लगातार युद्ध की धमकियाँ दे रहा है और दुनिया को डरा रहा है। हालाँकि, विश्‍व का कोई भी मुल्‍क उसके साथ जाने को तैयार नहीं है। यहाँ तक कि मुस्लिम देशों ने भी साफ कर दिया है कि पाकिस्‍तान संयम से काम ले और भारत के खिलाफ तनाव बढ़ाने वाले बयानों से परहेज करे। बता दें कि, हाजी सैयद सलमान चिश्ती, चिश्ती परिवार से 26वीं पीढ़ी के गद्दी-नशीं हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,042फैंसलाइक करें
19,440फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: