Friday, May 24, 2024
Homeदेश-समाजकेरल: काउंसलिंग के बहाने नाबालिग का यौन शोषण करने वाला पादरी गिरफ्तार

केरल: काउंसलिंग के बहाने नाबालिग का यौन शोषण करने वाला पादरी गिरफ्तार

नाबालिग का पहली बार यौन शोषण उसके ही घर पर हुआ। अगली बार पादरी ने नाबालिग को अपने घर पर बुलाकर फिर से वही हरकत की।

केरल (Kerala) के पठानमथिट्टा जिले में एक चर्च के पादरी ने काउंसलिंग के बहाने नाबालिग का यौन शोषण (Sexual Molestation) किया। 35 वर्षीय आरोपित पादरी (Pastor) पोंडसन जॉन को पुलिस ने गुरुवार (17 मार्च 2022) को गिरफ्तार कर लिया। उसके खिलाफ यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण (POCSO) एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।

रिपोर्ट के मुताबिक घटना पठानमथिट्टा जिले के कूडल की है। पीड़िता की उम्र 17 साल है। उसका पढ़ाई से ध्यान भटक रहा था। इसी को लेकर उसकी माँ ने बेटी की काउंसलिंग के लिए पादरी से संपर्क किया था। रिपोर्ट के अनुसार इसके बहाने पादरी ने दो अलग अलग जगहों पर नाबालिग का यौन शोषण किया।

रिपोर्ट के अनुसार नाबालिग का पहली बार यौन शोषण उसके ही घर पर हुआ। काउंसलिंग के लिए आया पादरी उसे एक कमरे में ले गया और दरवाजे को अंदर से बंद कर इस दुष्कृत्य को अंजाम दिया। इस घटना के बाद भी जब पीड़िता चुप रही तो उसकी हिम्मत बढ़ गई। अगली बार उसने नाबालिग को अपने घर पर बुलाया और फिर से वही हरकत की।

इसके बाद पीड़िता ने यह बात अपनी एक दोस्त को बताई। दोस्त ने स्कूल को घटना की जानकारी दी, जहाँ से चाइल्ड लाइन को खबर दी गई। इसके बाद शिकायत मिलने पर पुलिस ने आरोपित पादरी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार आरोपित ने पीड़िता के साथ 12 और 13 मार्च को यौन दुर्व्यवहार किया था।

बीते साल नवंबर में आंध्र प्रदेश के जिला कुरनूल में चट्टीवेदु ग्राम चगल्लामारी मंडल के पादरी उप्पलपति रवींद्र प्रसन्ना कुमार को चर्च में दो नाबालिग अनुसूचित जाति की लड़कियों का यौन उत्पीड़न करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) के हस्तक्षेप के बाद इस मामले में शिकायत दर्ज की थी। इस मामले में ऑपइंडिया को एससी-एसटी महिला एवं बाल अधिकार कार्यकर्ता और दलित शोधकर्ता प्रेरणा तिरुवैपति ने बताया था कि उन्होंने एनसीपीसीआर से संपर्क किया था, क्योंकि पुलिस मामला दर्ज नहीं कर रही थी और कथित तौर पर मामले को अदालत के बाहर निपटाने की कोशिश कर रही थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘घेरलू खान मार्केट की बिक्री कम हो गई है, इसीलिए अंतरराष्ट्रीय खान मार्केट मदद करने आया है’: विदेश मंत्री S जयशंकर का भारत विरोधी...

केंद्रीय विदेश मंत्री S जयशंकर ने कहा है कि ये 'खान मार्केट' बहुत बड़ा है, इसका एक वैश्विक वर्जन भी है जिसे अब 'इंटरनेशनल खान मार्केट' कह सकते हैं।

राजीव गाँधी की हत्या के बाद चुनाव आगे बढ़ाने से कॉन्ग्रेस को ऐसे हुआ था फायदा, चुनाव आयुक्त रहे TN शेषन को आडवाणी के...

राजीव गाँधी की हत्या के बाद चुनाव स्थगित हुए। कॉन्ग्रेस फायदे में आ गई। TN शेषन मुख्य चुनाव आयुक्त थे, बाद में LK अडवाणी के खिलाफ कॉन्ग्रेस ने उन्हें अपना प्रत्याशी बनाया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -