Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजकेरल: यौन उत्पीड़न के आरोप में इमाम शफीक गिरफ्तार, 15 वर्ष की थी लड़की

केरल: यौन उत्पीड़न के आरोप में इमाम शफीक गिरफ्तार, 15 वर्ष की थी लड़की

पुलिस ने यह जानकारी देते हुए बताया कि वीथुरा के थलीकोड की एक ग्रामीण मस्जिद में सेवा दे रहे मौलवी शफीक अल कासिमी को इस घटना के प्रकाश में आने के बाद पद से हटा दिया गया था।

केरल पुलिस ने एक 15 वर्षीय लड़की के यौन उत्पीड़न के आरोप में, थोलिकोड (तिरुवनंतपुरम) के पूर्व इमाम शफीक अल कासिमी को गिरफ्तार कर लिया है। उसे कल (मार्च 07, 2019) तमिलनाडु के मदुरै से हिरासत में लिया गया।

केरल में 12 फरवरी को एक मौलवी पर 15 साल की एक लड़की का उत्पीड़न करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया था। पुलिस ने यह जानकारी देते हुए बताया कि वीथुरा के थलीकोड की एक ग्रामीण मस्जिद में सेवा दे रहे मौलवी शफीक अल कासिमी को इस घटना के प्रकाश में आने के बाद पद से हटा दिया गया था।

मस्जिद समिति की ओर से दर्ज शिकायत के आधार पर मौलवी के खिलाफ POCSO (पोक्सो) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया था। बयान के अनुसार वह 15 वर्षीय लड़की को इस क्षेत्र में एक सुनसान स्थान पर ले गया और उसका यौन उत्पीड़न किया। यह घटना उस समय प्रकाश में आई, जब स्थानीय महिलाओं के एक समूह ने मौलवी को लड़की के साथ जंगल में देखा और पूछताछ की।

आरोपित की पहचान शफीक अल कासिमी के रूप में हुई थी जो थोलिकोड मस्जिद का मुख्य इमाम था और साथ ही केरल इमाम काउंसिल का सदस्य भी था।

रिपोर्ट के अनुसार, कई गवाहों द्वारा नाबालिग के यौन उत्पीड़न की पुष्टि की गई है। मस्जिद के अध्यक्ष बदुशा (Badusha) द्वारा इन गवाहों के बयान का एक ऑडियो क्लिप जारी की गई थी। मस्जिद के सदस्यों द्वारा जाँच शुरू करने के बाद इस पूरे मामले का खुलासा हो गया है। रिपोर्ट के अनुसार, जब स्थानीय महिलाओं ने इमाम से सवाल किया, तो उसने झूठ बोला कि बच्ची उसकी पत्नी थी। जब महिलाओं ने बच्ची के यूनिफॉर्म और स्कूल के बैज पर ध्यान दिया, तो उन्हें संदेह हुआ।

जब महिलाओं ने सवाल किया कि 15 साल की लड़की 40 वर्षीय व्यक्ति की पत्नी कैसे हो सकती है, तब इमाम आपा खोने लगा और ख़ुद ही चिल्लाता हुआ वहाँ से भाग निकला।

बता दें कि मदरसों और चर्च में एक के बाद एक यौन उत्पीड़न के मामले सामने आ रहें हैं, कुछ दिन पहले केरल के एक पादरी पर चर्च की ननों के यौन उत्पीड़न का मामला सामने आया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe