Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजरेप करने के लिए 6 साल की मासूम को छत पर ले गया इरशाद,...

रेप करने के लिए 6 साल की मासूम को छत पर ले गया इरशाद, चिल्लाई तो गला दबाकर नीचे फेंका

बच्ची बेहोश हो गई तो इरशाद को लगा कि वह मर गई है। फिर उसने बच्ची को छत से नीचे फेंक दिया। खून से लथपथ बच्ची को तत्काल अस्पताल ले जाया गया।

कोलकाता से एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। नशे में धुत इरशाद माली रेप के इरादे से 6 साल की मासूम बच्ची को छत पर ले गया। फिर पकड़े जाने के डर से गला दबाकर बच्ची को छत से नीचे फेंक दिया। बच्ची की हालत नाजुक बताई जा रही है। आरोपित इरशाद को पुलिस ने अपनी गिरफ्त में ले लिया है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, घटना कोलकाता के राजा बागान थाना क्षेत्र के कानखुली इलाके की है। बच्ची अपने मामा के घर अपने अन्य दोस्तों के साथ लुका-छुपी खेल रही थी। इसी दौरान बगल की छत पर बैठे इरशाद की नजर उस पर पड़ी। आरोपित इरशाद अपनी छत से नीचे उतर कर 6 साल की बच्ची को बहलाने-फुसलाने में लग गया। उसने मासूम को कहा कि वह छुपने की एक अच्छी जगह जानता है, जहाँ कोई भी उसे ढूँढ़ नहीं सकता। बच्ची उसकी बातों में आ गई।

इरशाद माली उसे लेकर छत पर चला गया और यौन शोषण करने लगा। इसी दौरान बच्ची को ढूँढते हुए उसके मामा ने आवाज लगाई जिसे सुन बच्ची भी चीखने-चिल्लाने लगी। बच्ची के चिल्लाते ही आरोपित सहम गया और चुप कराने के लिए उसका गला दबा दिया। बच्ची बेहोश हो गई तो इरशाद को लगा कि वह मर गई है। फिर उसने बच्ची को छत से नीचे फेंक दिया। खून से लथपथ बच्ची को तत्काल अस्पताल ले जाया गया। पुलिस जाँच में एक महिला ने शराब में धुत इरशाद के बारे में जानकारी दी जिसे उसने छत से जल्दी-जल्दी नीचे उतरते देखा था। पूछताछ के दौरान इरशाद ने बच्ची के साथ दुष्कर्म और जान से मारने की कोशिश करने की बात स्वीकार ली।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe