Friday, October 7, 2022
Homeदेश-समाजकॉन्ग्रेस की कर्जमाफी योजना की खुली पोल: सिंधिया ने सबके सामने किसान को चुप...

कॉन्ग्रेस की कर्जमाफी योजना की खुली पोल: सिंधिया ने सबके सामने किसान को चुप कराया

किसान का विरोध देखकर उसे सिंधिया के पास ले जाया गया। सिंधिया ने उस किसान को शांत रहने की नसीहत दी और पीछे भेज दिया।

मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस सरकार किसानों की कर्ज माफ़ी योजना को अब तक एक उपलब्धि के तौर पर दिखा रही थी लेकिन आज ज्योतिरादित्य सिंधिया के सामने एक किसान ने कर्जमाफ़ी की पोल खोल दी। आज (मई 11, 2019) सिंधिया के सामने एक किसान ने विरोध प्रदर्शन किया लेकिन नेताओं द्वारा उस किसान को चुप करवा दिया गया।

ज्योतिरादित्य सिंधिया आज चुनाव प्रचार के लिए करोद गाँव में पहुँचे थे। यहाँ वह सरकार की किसान योजना को उपलब्धि बताकर पेश कर रहे थे। इसी बीच वहाँ मौजूद एक किसान उठा और उसने इस योजना को झूठा करार दिया। किसान का विरोध देखकर पार्टी कार्यकर्ताओं ने उसे शांत कराने की कोशिश की। साथ ही जनसभा से हटाने का भी प्रयास किया लेकिन नाराज़ किसान ने एक नहीं सुनी।

किसान का विरोध देखकर उसे सिंधिया के पास ले जाया गया। सिंधिया ने उस किसान को शांत रहने की नसीहत दी और पीछे भेज दिया। सिंधिया ने उस किसान को कहा कि जब उसे बोलने का मौक़ा दिया जाएगा, तभी वह बोले, तब तक चुप रहे।

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस सरकार किसानों की कर्जमाफ़ी के बड़े वादे के साथ सत्ता में आई थी। इस दौरान कॉन्ग्रेस पार्टी ने प्रदेश के 34 लाख किसानों के 2 लाख रुपए तक का कर्ज माफ़ करने का वादा किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मंदिर में नमाज गंगा-जमुनी तहजीब, कर्नाटक के बीदर में पारंपरिक दशहरा पूजा मस्जिद-मुस्लिमों पर हमला: इस्लामी प्रलाप कब तक भोगते रहेंगे हिंदू

कर्नाटक के बीदर में दशहरा पूजा की जो परिपाटी निजाम काल से चल रही है, उस पर इस्लामी प्रलाप चल रहा है। इसके दबाव में पुलिस ने 9 हिंदुओं पर एफआईआर की है।

राजस्थान में छाया बिजली संकट: 23 थर्मल स्टेशनों में से 11 बंद, प्रदेश में बचा है सिर्फ 4 दिन का कोयला

राजस्थान में बिजली संकट का खतरा बढ़ता जा रहा है। कोयले की आपूर्ति न होने के कारण प्रदेश में 23 थर्मल स्टेशनों में से 11 ने बिजली उत्पादन करना बंद कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
226,757FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe