मुहर्रम के कारण ममता की पुलिस ने नहीं दर्ज किया बलात्कार का मामला, SP से लगानी पड़ी गुहार

गाँव वालों के सुझाव पर ही दोनो पति-पत्नी खेजुरी पुलिस थाने शिकायत कराने पहुँचे, जहाँ पुलिस ने मुहर्रम का हवाला देकर मामले में एफआईआर दर्ज करने से ही मना कर दिया। दोनों गुहार लगाते रहे, लेकिन उनकी एक नहीं सुनी गई।

पश्चिम बंगाल में मंगलवार (सितंबर 10, 2019) को एक महिला का उसके पड़ोसी ने बलात्कार किया। लेकिन, महिला जब अपने पति के साथ पुलिस के पास शिकायत करने पहुँची, तो पुलिस ने उसे ये कहकर वापस भेज दिया कि अभी मुहर्रम चल रहा है। बाद में दंपत्ति को अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए एसपी के पास जाना पड़ा।

जानकारी के मुताबिक, महिला का पति एक मंदिर का पुजारी है और वे लोग बंगाल के मिदनापुर के खेजुरी इलाके के निवासी हैं। महिला मंगलवार की सुबह अपने घर से थोड़ी दूरी पर स्थित तालाब में स्नान करने गई थी, जब पड़ोस का एक युवक, जिसका नाम सुदीप्तो है वो उसको सीटी मारके छेड़ने लगा। तो उसने विरोध किया और नहाकर अपने घर वापस आ गई। जिस समय महिला घर पर लौटी तब घर पर कोई नहीं था। वो कपड़े बदल ही रही थी कि तभी सुदीप्तो ने उसपर कहीं से छलांग लगाई।

महिला के मुताबिक, सुदीप्तो ने पहले उसके चेहरे और प्राइवेट पार्ट्स पर चाकू रखकर उसे धमकाया और उसके मुँह में रुमाल भर दिया। बाद में उसे उसकी ही साड़ी से बाँध दिया और फिर उसका रेप किया। बलात्कार करने के बाद सुदीप्तो ने घर से निकलने से पहले उसे फिर धमकाया कि अगर उसने किसी को कुछ बताया तो वो उसे बिजली का करंट देकर मार देगा।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

लेकिन, जब महिला का पति घर लौटा, तो उसने अपने साथ हुई सारी घटना के बारे में उसे बताया। पूरा वाकया जानने के बाद पहले तो उन्होंने शर्म से मर जाने की सोची। लेकिन, इस दौरान एक पड़ोस की महिला ने उन्हें बात करते सुन लिया था और जिसने जाकर बाकी गाँव वालों को सब बता दिया। बाद में गाँव वालों के सुझाव पर ही दोनो पति-पत्नी खेजुरी पुलिस थाने शिकायत कराने पहुँचे, जहाँ पुलिस ने मुहर्रम का हवाला देकर मामले में एफआईआर दर्ज करने से ही मना कर दिया। दोनों पति-पत्नी शिकायत दर्ज कराने की गुहार लगाते रहे, लेकिन उनकी एक नहीं सुनी गई।

इस कारण उन्हें एक वकील से संपर्क करना पड़ा और वकील के सुझाव मुताबिक उन्होंने एसपी से मिलकर अपनी शिकायत दर्ज करवाई। जिसके बाद पुलिस ने जाँच शुरू की। हालाँकि आरोपित सुदीप्तों अभी फरार चल रहा है और पुलिस उसकी तलाश में जुटी हैं। लेकिन पुलिस ने दंपत्ति द्वारा केस दर्ज न करने के मामले को खारिज कर दिया है और बताया है कि किसी ने भी कोई शिकायत नहीं की थी। यहाँ दंपत्ति और उनका वकील इस बात पर अड़ा हुआ है कि वो थाने गए थे लेकिन पुलिस ने मुहर्रम के कारण शिकायत को लिखा ही नहीं और उन्हें एसपी के पास जाना पड़ा।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: