Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजखुद को बताया था 'आशीष ठाकुर', निकला हसीन सैफी: उत्तराखंड को युवती को फाँस...

खुद को बताया था ‘आशीष ठाकुर’, निकला हसीन सैफी: उत्तराखंड को युवती को फाँस कर कई बार बनाए शारीरिक सम्बन्ध, वीडियो से कर रहा था ब्लैकमेल

इस दोस्ती के बाद दोनों में बातचीत होने लगी और फिर प्रेम हो गया। इसके बाद, दोनों एक साथ सूरजपुर में एक किराए के मकान में रहने लगे। दो माह पहले ही...

उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में ‘लव जिहाद’ का मामला सामने आया है। युवती का आरोप है कि हसीन शैफी ने खुद को आशीष ठाकुर बताते हुए दोस्ती की थी। सोमवार (12 दिसंबर, 2022) को वह युवती से कोर्ट मैरिज करने जा रहा था। इससे पहले ही उसकी सच्चाई सामने आ गई। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उत्तराखंड निवासी युवती ग्रेटर नोएडा के दादरी कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत रह रही थी। वह, एक प्राइवेट कंपनी में काम करती है। इसी कंपनी में उसकी मुलाकात हसीन शैफी से हुई। मुलाकात के दौरान, हसीन ने खुद को आशीष ठाकुर बताते हुए युवती से दोस्ती की।

इस दोस्ती के बाद दोनों में बातचीत होने लगी और फिर प्रेम हो गया। इसके बाद, दोनों एक साथ सूरजपुर में एक किराए के मकान में रहने लगे। दो माह पहले ही पीड़ित युवती और आरोपित हसीन शैफी ने दादरी के एक मकान में रहना शुरू किया। इन दोनों का प्रेम आगे बढ़ गया था। आरोपित हसीन पीड़िता के साथ सोमवार (12 दिसंबर, 2022) को कोर्ट मैरिज करने की फिराक में था। लेकिन, इससे पहले ही पीड़िता को हसीन की सच्चाई पता चल गई।

शादी से पहले हुआ खुलासा

शुक्रवार (9 दिसंबर, 2022) को पीड़िता और हसीन शादी के लिए खरीदारी करने गए थे। इस दौरान, आरोपित का अब्बा शकील सैफी उसकी तलाश में दादरी स्थित उसके कमरे में पहुँचा था। वहाँ लोगों ने बताया कि उक्त कमरे में आशीष नहीं बल्कि हसीन रहता है।

खरीदारी करने के बाद युवती कमरे पर आई तो आरोपित हसीन की सच्चाई का खुलासा हो गया। पीड़िता का आरोप है, मजहब और नाम बदलकर प्रेमजाल में फँसाने वाले हसीन शैफी ने उसका शरीरिक शोषण करते हुए कई बार शारीरिक संबंध भी बनाए हैं और अश्लील वीडियो भी बनाया है। इन वीडियो के आधार पर वह शादी करने के लिए दबाव बना रहा था। इस पूरे घटनाक्रम की जानकारी जब हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं को हुई तो वे मौके पर पहुँच गए। इसके बाद, पुलिस को सूचना देकर आरोपित के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -