Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजनाम हिंदुओं का, मिड डे मील खा गया मदरसा: माँ-बाप को पता नहीं-बच्चे कभी...

नाम हिंदुओं का, मिड डे मील खा गया मदरसा: माँ-बाप को पता नहीं-बच्चे कभी आए नहीं, फिर भी एडमिशन दिखा सरकारी पैसा उठाया

मदरसे में कुल 41 छात्र हैं। इनमें 27 हिंदू बताए जा रहे। जनजातीय समाज के करीब 11 बच्चे ऐसे मिले हैं जो इस मदरसे में कभी पढ़ने भी नहीं आए, लेकिन उनका नाम यहाँ दर्ज है। इन बच्चों के माता-पिता को भी एडमिशन की जानकारी नहीं है।

मध्य प्रदेश के विदिशा जिले के एक मदरसे से फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है। आरोपों के घेरे में विदिशा शहर के बैस दरवाजा स्थित बरकतुल्लाह मदरसा है। आरोप है कि मदरसे में हिंदू बच्चों का एडमिशन दिखाकर सरकारी लाभ उठाया गया है। प्रशासन ने मामले की जाँच के आदेश दिए हैं।

इस मदरसे में कुल 41 छात्र हैं। इनमें 27 हिंदू बताए जा रहे। जनजातीय समाज के करीब 11 बच्चे ऐसे मिले हैं जो इस मदरसे में कभी पढ़ने भी नहीं आए, लेकिन उनका नाम यहाँ दर्ज है। इन बच्चों के माता-पिता को भी एडमिशन की जानकारी नहीं है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मदरसा रजिस्टर में अजय नाम के एक छात्र को कक्षा 8 में दर्ज दिखाया गया है, जबकि वो सरकारी स्कूल में क्लास 7 का छात्र है। अजय के पिता शंकर ने आरोप लगाया है कि मदरसे में उनके बेटे के नाम से वजीफा मँगा कर खुद रख लिया गया। उन्हें एक भी पैसा कभी नहीं मिला। अजय की माँ भी कैमरे के सामने आईं। उन्होंने कहा कि उन्हें तो बरकतुल्लाह मदरसे का पता ही नहीं है।

कृष्णा का भी कहना है कि वो कभी इस मदरसे में नहीं गई। लेकिन उसका भी एडमिशन है। उसकी बहन का नाम भी दर्ज है। इस फर्जीवाड़े की शिकायत करने वाले मनोज कौशल ने सिर्फ छात्रवृत्ति ही नहीं, बल्कि मिड डे मील और स्कूल ड्रेस में भी गोलमाल का आरोप लगाया है। मनोज का कहना है कि साल 2016 से 2022 तक इस मदरसे में 11 बच्चों का फर्जी एडमिशन हुआ है। उन्होंने बताया कि इन बच्चों ने न तो कभी यहाँ क्लास ली और न ही कोई परीक्षा दी।

मदरसा संचालक मंजीत कपूर के मुताबिक उन्होंने 2017 से 2021 के बीच मदरसे चलाने का जिम्मा सुरेश आर्य नाम के टीचर को दिया था। 21 साल से मदरसा चला रहे कपूर ने गड़बड़ी का आरोप आर्य पर लगाया है। उनका कहना है कि एडमिशन में गड़बड़ी की जानकारी मिलने के बाद 2022 में उन्होंने फिर से संचालन की जिम्मेदारी अपने हाथों में ले ली। विदिशा के जिला शिक्षा अधिकारी जी पी राठी ने मामले का संज्ञान ले कर जाँच करवाने के आदेश दिए हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -