Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजमहाकाल क्षेत्र के पास बने तकिया मस्जिद के अवैध हिस्से को किया गया ध्वस्त,...

महाकाल क्षेत्र के पास बने तकिया मस्जिद के अवैध हिस्से को किया गया ध्वस्त, 500 मीटर में तैनात थे 630 पुलिसकर्मी

सीएम के फटकार के बाद ही शांतिपूर्ण और गोपनीयता के साथ तकिया मस्जिद के अवैध हिस्से को ध्वस्त करने की कार्रवाई की गई। मस्जिद का मामला देखते हुए जिला और पुलिस प्रशासन के अधिकारियों ने आपात बैठकों के जरिए पूरे मामले की प्लानिंग की थी।

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा गुंडों और भू-माफियाओं के खिलाफ लगातार कार्रवाई जारी है। इसी के तहत पुलिस और प्रशासन ने नगर निगम के साथ मिलकर आज (10 दिसंबर, 2020) उज्जैन के महाकाल क्षेत्र में रुद्रसागर के समीप तकिया मस्जिद के अवैध हिस्से पर बुलडोजर चलवा दिया। वहीं मस्जिद के ध्वस्त होने के बाद इलाके में हड़कंप मच गया।

मस्जिद के ध्वस्तीकरण करने पहुँचे प्रशासन ने पहले ही क्षेत्र के 500 मीटर दायरे में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया था ताकि किसी भी प्रकार की अनहोनी न हो पाए। इतना ही नहीं बैरिकेड लगाकर रुद्रसागर की ओर आने वाले सभी रास्ते भी रोक दिए गए थे।

रिपोर्ट्स के अनुसार, यह कार्रवाई आज सुबह 11 बजे तक चली। इस दौरान 630 से भी अधिक पुलिसकर्मी 500 मीटर के दायरे के अंदर अलर्ट पर खड़े थे। पुलिस की सख्ती के कारण इस कार्रवाई के ख़िलाफ़ न किसी ने विरोध प्रदर्शन किया और न ही किसी भी प्रकार की तनाव की स्थिति उत्पन्न हुई।

एडीएम नरेंद्र सूर्यवंशी और एएसपी अमरेंद्र सिंह ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर महाकाल क्षेत्र के 500 मीटर दायरे में आने वाले अतिक्रमण को हटाए जाने की कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी।

बता दें दो दिन पहले संभाग स्तर पर अतिक्रमण अभियान को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वयं वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इसकी समीक्षा की थी। यहीं नहीं सीएम ने भूमाफियों के खिलाफ कार्रवाई और अतिक्रमण अभियान को लेकर अधिकारियों की सुस्ती पर नाराजगी भी जाहिर की थी।

सीएम के फटकार के बाद ही शांतिपूर्ण और गोपनीयता के साथ तकिया मस्जिद के अवैध हिस्से को ध्वस्त करने की कार्रवाई की गई। मस्जिद का मामला देखते हुए जिला और पुलिस प्रशासन के अधिकारियों ने आपात बैठकों के जरिए पूरे मामले की प्लानिंग की थी।

रिपोर्ट में यह भी बात सामने आई है कि गोपनीयता का स्तर इस कदर था कि सभी अधिकारियों को भी इसकी जानकारी नहीं दी गई थी। मामले में शामिल पुलिसकर्मियों को सिर्फ बुधवार रात 12 बजे सिर्फ यह आदेश दिया गया कि सुबह चार बजे पुलिस लाइन में हाजिर रहे। वहीं आगे की जानकारी पुलिस लाइन में ही देने की बात बोली गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe