Thursday, May 23, 2024
Homeदेश-समाजअदालत को हमेशा रेप पीड़ित बच्चों की बातों पर भरोसा करना चाहिए: मद्रास हाईकोर्ट

अदालत को हमेशा रेप पीड़ित बच्चों की बातों पर भरोसा करना चाहिए: मद्रास हाईकोर्ट

"इसमें कोई संदेह नहीं है कि एक बच्ची के साथ हुआ बलात्कार किसी व्यस्क महिला के साथ हुए बलात्कार से अधिक गंभीर है। इसलिए..."

मद्रास हाईकोर्ट ने चाइल्ड रेप के मामले में एक बड़ा फैसला सुनाते हुए कहा है कि इस तरह के केस में अदालत को हमेशा बलात्कार पीड़ित बच्चों की गवाही पर ही भरोसा करना चाहिए। कोर्ट को इस तरह की गलतफहमी को नजरअंदाज करना चाहिए कि पीड़ित बच्चे किसी तरह के दबाव या कसम की वजह से झूठ बोलते हैं। 

जस्टिस एस वैद्यनाथन ने कहा, “बलात्कार पीड़ितों के मामलों में न्यायालय को बच्चे द्वारा कही गई बातों पर विश्वास करना होगा। ये गलत धारणाएँ हैं कि बच्चे झूठ बोलते हैं या फिर माता-पिता उन्हें दूसरों के खिलाफ छेड़छाड़ की झूठी शिकायतें करना सिखाते हैं। न्यायालय द्वारा बाल शोषण के मामलों पर प्रतिक्रिया देते समय इस तरह की मिथकों का प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए।”

उच्च न्यायालय ने इसका अवलोकन 2011 में हुए एक मामले की सुनवाई करते हुए किया, जिसमें एक व्यक्ति ने पाँच वर्षीय लड़की का यौन उत्पीड़न किया था। बार और बेंच में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक एक ट्रायल कोर्ट ने गणपति को दस साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई और उस पर 2,000 रुपए का जुर्माना लगाया। गणपति ने विभिन्न मामलों में ट्रायल कोर्ट की सजा को चुनौती दी, जिसमें दो दिन देरी से पुलिस शिकायत और दुश्मनी निकालने के लिए गवाही देना आदि शामिल था।

हालाँकि, न्यायमूर्ति वैद्यनाथन ने बचाव पक्ष के वकील द्वारा दी की गई कई दलीलों को खारिज करते हुए कहा कि कोई भी पीड़ित व्यक्ति से शिकायत करने के लिए पुलिस स्टेशन जाने की उम्मीद नहीं कर सकता है, क्योंकि किसी लड़की के साथ बलात्कार का न केवल पीड़िता के शरीर पर बल्कि उसकी विनम्रता/ शालीनता पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

अदालत ने मेडिकल परीक्षक की गवाही पर ध्यान देते हुए कहा कि इससे उबरने के लिए पीड़िता को जिस दर्द का सामना करना पड़ता है, उसका अनुकरण नहीं किया जा सकता है। इसके साथ ही न्यायालय ने ये भी पाया कि आरोपित ने जो पीड़िता के माता-पिता पर दुश्मनी की वजह से रेप लगाने की बात कही थी, वह भी निराधार निकली। 

जिसके बाद अदालत ने आरोपित के अपील को खारिज कर दिया था और बलात्कार के लिए ट्रायल कोर्ट की सजा को बरकरार रखा था। साथ ही कोर्ट ने यह भी ध्यान दिलाया कि आंशिक पेनेट्रेशन भी बलात्कार है। कोर्ट ने यह भी कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि एक बच्ची के साथ हुआ बलात्कार किसी व्यस्क महिला के साथ हुए बलात्कार से अधिक गंभीर है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SRH और KKR के मैच को दहलाने की थी साजिश… आतंकियों ने 38 बार की थी भारत की यात्रा, श्रीलंका में खाई फिदायीन हमले...

चेन्नई से ये चारों आतंकी इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट से आए थे। इन चारों के टिकट एक ही PNR पर थे। यात्रियों की लिस्ट चेक की गई तो...

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -