Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजराजस्थान में महादेव मंदिर के 75 वर्षीय सेवादार की हत्या: हाथ-पाँव रस्सी से बँधे,...

राजस्थान में महादेव मंदिर के 75 वर्षीय सेवादार की हत्या: हाथ-पाँव रस्सी से बँधे, मुँह में ठूँस डाला था कपड़ा

हाथ-पाँव बाँधने के लिए प्लास्टिक की नई रस्सी का इस्तेमाल किया गया। मुँह में कपड़ा ठूँस डाला गया। जयपुर के मंदिर में सेवादार की निर्मम हत्या के 4 महीने पहले...

राजस्थान के करौली में पुजारी की हत्या के 4 महीने के भीतर अब राजधानी जयपुर के एक मंदिर में सेवादार की निर्मम तरीके से हत्या कर दी गई। ये वारदात सोडाला इलाके में राकड़ी स्थित मेहरा समाज के राकेश्वर महादेव मंदिर की है। सोमवार (जनवरी 25, 2021) की देर रात को मंदिर के 75 वर्षीय वृद्ध सेवादार (केयरटेकर) गिरिराज मेहरा की हत्या कर दी गई। उनके मुँह में कपड़ा ठूँसा हुआ था और हाथ-पाँव रस्सी से बाँध डाले गए थे।

मंगलवार की सुबह 6:30 बजे कुछ महिलाएँ जब पूजा के लिए पहुँची तो उन्होंने देखा कि मंदिर का कपाट बंद था, जबकि उस समय तक उसे खोल दिया जाता था। उक्त मंदिर आजाद नगर कॉलोनी में स्थित है। इसका संचालन ‘महरा समाज सेवा समिति’ करता है। जब महिलाओं के काफी आवाज़ लगाने के बाद भी मंदिर का दरवाजा नहीं खुला तो उन्होंने सेवादार गिरिराज मेहरा के बेटे राजेंद्र को फोन किया।

आधे घंटे बाद सुबह के 7 बजे राजेंद्र मंदिर में पहुँचे। जब वो दीवार फाँद कर मंदिर के भीतर घुसे तो उन्होंने देखा कि उनके पिता की लाश पड़ी हुई थी। उनका शव एक बिस्तर पर पड़ा हुआ था। हाथ-पाँव बाँधने के लिए प्लास्टिक की नई रस्सी का इस्तेमाल किया गया था। न सिर्फ मुँह में कपड़ा ठूँस डाला गया था, बल्कि चेहरा भी कपड़े से ढका हुआ था। पुलिस को वारदात के बारे में सूचित किया गया। घटनास्थल पर 50 पुलिसकर्मियों की टीम पहुँची।

एडिशनल पुलिस कमिश्नर अजयपाल लांबा और डीसीपी साउथ हरेंद्र महावर वहाँ पर डॉग स्क्वायड, एफएसएल टीम और फिंगर प्रिंट टीम को लेकर जाँच के लिए पहुँचे। मृतक गिरिराज मेहरा विगत 10 वर्षों से मंदिर में बतौर सेवादार कार्यरत थे। मंदिर से मात्र आधा किलोमीटर दूर ही उनका घर है, जहाँ वो अपनी पत्नी, दो बेटों व अन्य परिजनों के साथ रहते थे। वो रात्रि को प्रतिदिन 8 बजे मंदिर का कपाट बंद कर दिया करते थे।

अन्य दिनों की भाँति सोमवार को भी उनका बेटा उनके लिए भोजन लेकर आया था और फिर चला गया था। स्थानीय लोगों ने बताया कि सेवादार गिरिराज का सबसे अच्छा व्यवहार व रिश्ते थे, ऐसे में रंजिश की आशंका नहीं है। पुलिस ने इसे सुनियोजित हत्या बताते हुए कहा कि कमरे के नजदीक मंदिर के ऑफिस के ताले टूटे हुए थे। मंदिर के पास स्थित पार्क में कुछ नशाखोर भी बैठते हैं, जिन्हें असामाजिक तत्व बताया जा रहा है।

पुलिस को आशंका है कि मंदिर पार्क में आकर नशा करने वाले किसी व्यक्ति के साथ सेवादार की टोका-टोकी या बहस हुई होगी, जो हत्या का कारण बना। चोरी के एंगल से भी जाँच की जा रही है। पुलिस का मानना है कि वारदात में किसी स्थानीय व्यक्ति का हाथ हो सकता है। या फिर हत्या के कारण को छिपाने के लिए इसे चोरी का रूप दिया गया हो सकता है। फ़िलहाल मामला दर्ज कर लिया गया है।

अक्टूबर 2020 में राजस्थान के करौली जिला स्थित सपोटरा तहसील के बूकना गाँव में पुजारी बाबूलाल वैष्णव की मौत के मामले ने प्रदेश में हलचल मचा दी थी। प्रशासन इस मामले को शुरुआत में ‘आत्मदाह’ बताती रही थी। पुजारी ने मौत से पहले ही आरोपित कैलाश का नाम ले लिया था, बावजूद इसके उसे गिरफ्तार करने में पुलिस ने 24 घंटे का समय लगा दिया था। भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने पीड़ित परिवार की मदद की थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe