Thursday, September 23, 2021
Homeदेश-समाज15 हजार फीट की ऊँचाई पर लटके जवान को बचाने में मेजर पंकज पांडे...

15 हजार फीट की ऊँचाई पर लटके जवान को बचाने में मेजर पंकज पांडे बलिदान, साथी खतरे से बाहर

5 साल पहले ही मेजर पंकज का ​विवाह कंचन के साथ हुआ था। उनकी डेढ़ साल की एक बेटी भी है। ​पति के बलिदानी होने के बाद से पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल है।

उत्तर प्रदेश के हरदोई में रहने वाले मेजर पंकज पांडे अपने साथी की जान बचाने में बलिदान हो गए। मेजर पांडे अरुणाचल प्रदेश के तंबौला में तैनात थे। बताया जा रहा है कि उनका एक साथी 15 हजार फीट ऊँचाई से गहरी खाई में गिरने वाला था। उसे इस हालत में देखकर वह परेशान हो गए और साथी की जान बचाने में वह भी खाई में गिर गए। इससे मेजर गंभीर रूप से घायल हो गए।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, गुरुवार (2 जुलाई 2021) देर रात गुवाहाटी के हॉस्पिटल में उन्होंने दम तोड़ दिया। वहीं, उनका साथी खतरे से बाहर बताया जा रहा है। मेजर की मौत की खबर से उनके परिवार और जिले में शोक की लहर दौड़ गई। शनिवार (24 जुलाई 2021) को पूरे सैन्य सम्मान के साथ असम के लेखापानी में उनका अंतिम संस्कार किया गया।

पंकज की रेजीमेंट बी सिख के अधिकारियों ने बताया कि 19 जुलाई की सुबह करीब 15 हजार फीट पर ड्यूटी के दौरान उनका एक साथी खाई में गिर रहा था। साथी की जान बचाने में पंकज और उनका साथी नीचे खाई में गिर गए। कड़ी मशक्कत के बाद दोनों को किसी तरह खाई से बाहर निकाला गया। खाई में गिरने से दोनों गंभीर रूप से जख्मी हो गए थे। दोनों को गुवाहाटी के हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। यहाँ साथी तो खतरे से बाहर है, लेकिन पंकज ने दम तोड़ दिया।

हरदोई जिले के महोलिया शिवपार इलाके में रहने वाले व्यवसायी अवधेश पांडे ने बताया कि उनके दो बेटे हैं। बड़ा बेटा पंकज पांडे सेना में मेजर था और छोटा बेटा आशीष पांडे है। उन्होंने बताया कि 19 जुलाई की दोपहर उनके पास फोन आया कि एक हादसा में उनका बेटा पंकज बुरी तरह से घायल हो गया है। इसके बाद वे फौरन अपने छोटे बेटे आशीष को लेकर गुवाहाटी के अस्पताल पहुँचे, जहाँ पंकज को भर्ती कराया गया था। हालाँकि, इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया।

बता दें कि 5 साल पहले ही मेजर पंकज का ​विवाह कंचन के साथ हुआ था। उनकी डेढ़ साल की एक बेटी भी है। ​पति के बलिदानी होने के बाद से पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल है। वह भी बाकी परिजनों के साथ गुवाहाटी पहुँच गई हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,782FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe