Tuesday, February 7, 2023
Homeदेश-समाजमंगलुरु के मंदिर में तोड़फोड़, नंदी और नागा की मूर्तियों को पहुँचाया नुकसान: भक्तों...

मंगलुरु के मंदिर में तोड़फोड़, नंदी और नागा की मूर्तियों को पहुँचाया नुकसान: भक्तों ने सुरक्षा को लेकर जताई चिंता

मंदिर में तोड़फोड़ के बाद स्थानीय लोगों ने धार्मिक स्थल की सुरक्षा की माँग की है। पुलिस को आशंका है कि यह लूट के प्रयास का मामला है। हालाँकि यह पहली बार नहीं है जब इस तरह की घटना सामने आई है।

कर्नाटक के मंगलुरु में शनिवार (16 अक्टूबर 2021) की देर रात बदमाशों ने बैकमपाडी करकेरा मूलस्थान जरांडाय दैवस्थान और नागा ब्रह्म पीठ (Baikampady Karkera Moolasthana Jarandaya Daivastana and Naga Brahma Peeta) में तोड़फोड़ की। Daijiworld ने इसकी जानकारी दी।

जानकारी के मुताबिक मामला तब सामने आया जब भक्त मंदिर में पूजा-अर्चना करने पहुँचे। Daijiworld ने बताया कि आरोपितों ने नागा की मूर्ति और नंदी की पत्थर की मूर्ति को नुकसान पहुँचाया था। साथ ही बदमाशों ने अलमारी तोड़ दी और देवस्थान का सारा सामान फेंक दिया। मंदिर के द्वार को भी तोड़ दिया।

भक्तों ने मंदिर के प्रशासनिक समिति को सतर्क किया, जिसके बाद उन्होंने पुलिस को बुलाया। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुँची और मामले की जाँच शुरू की। मंदिर में तोड़फोड़ के बाद स्थानीय लोगों ने धार्मिक स्थल की सुरक्षा की माँग की है। पुलिस को आशंका है कि यह लूट के प्रयास का मामला है। हालाँकि यह पहली बार नहीं है जब इस तरह की घटना सामने आई है।

रहीम और तौफीक ने मंदिर की हुंडी में कंडोम लगाकर पेशाब करने की बात कबूली

इससे पहले, इस साल अप्रैल में, मंगुलुरु में एक मंदिर के हुंडी (दान पेटी) में एक कंडोम मिलने की घटना के सिलसिले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया था। मंदिर स्थानीय मंगुलुरु देवता भगवान कोरागज्जा का था, जिन्हें भगवान शिव का अवतार माना जाता है। गिरफ्तार लोगों की पहचान मैंगलोर के जोकट्टे इलाके से रहीम (32) और तौफीक (35) के रूप में हुई है।

पुलिस आयुक्त एन शशि कुमार ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए बताया था कि इस साल जनवरी से मार्च के बीच, उल्लाल, कादरी और पांडेश्वर पुलिस थानों में पाँच मामले दर्ज किए गए थे, जिसमें बदमाशों ने कोरागज्जा कट्टे मंदिर के प्रसाद बॉक्स में एक कंडोम सहित आपत्तिजनक सामान डाला था। हालाँकि, पुलिस मंदिरों को अपवित्र करने के पीछे के दोषियों का पता नहीं लगा पाई थी।

हालाँकि कुछ समय बाद अचानक रहीम और तौफीक दोनों पुजारियों से माफी माँगने के लिए मंदिर पहुँचे। शुरू में, पुजारियों को लगा कि दोनों मजाक कर रहे हैं, लेकिन आखिरकार, उन्होंने मंदिर में अपना जघन्य अपराध कबूल कर लिया और खुद को वहाँ के लोगों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया, जिन्होंने बाद में उन्हें पुलिस के हवाले कर दिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आफताब ने श्रद्धा की हड्डियों को पीस कर बनाया पाउडर, जला डाला चेहरा, डस्टबिन में डाल दी थी आँतें, ₹2000 की ब्रीफकेस में पैक...

आफताब ने पुलिस को यह भी बताया है कि उसने जिस दिन श्रद्धा की हत्या की थी। उसी दिन श्रद्धा के अकांउट से अपने अकाउंट में 54000 रुपए भेजे थे।

‘मैं रामचरितमानस को नहीं मानती, तुलसीदास कोई संत नहीं’: सपा MLA को तुलसीदास के ग्रन्थ से दिक्कत, कहा – हिम्मत है तो मेरी ताड़ना...

सपा विधायक पल्लवी पटेल ने कहा है कि वह रामचरितमानस को नहीं मानती हैं और इसमें शूद्र शब्द हटाने के लिए आंदोलन करेंगी। उनके लिए तुलसीदास संत नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
244,281FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe