Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाज₹50 लाख के लिए मोइन ने नाबालिग भाई को किया अगवा, मददगार अयाज और...

₹50 लाख के लिए मोइन ने नाबालिग भाई को किया अगवा, मददगार अयाज और मुबारक भी गिरफ्तार

पारिवारिक रेस्तरां चलाने की अनुमति नहीं मिलने के बाद मोइन ने भाई को अगवा करने की साजिश रची। तीन लाख रुपए देने का वादा कर उसने दो ऑटो ड्राइवर को इसके लिए राजी किया। फिरौती की रकम से उसने खुद का रेस्तरां शुरू करने की योजना बनाई थी।

बेंगलुरु पुलिस ने रविवार को एक 32 वर्षीय शख़्स को अपने 13 वर्षीय भाई का अपहरण करने और 50 लाख रुपए की फ़िरौती माँगने के आरोप में गिरफ़्तार किया। पुलिस ने फ़िरौती की कॉल के 12 घंटे के भीतर ही नाबालिग लड़के को अपहरणकर्ता के चंगुल से बचाकर मोइन ख़ान को गिरफ़्तार कर लिया।

ख़बर के अनुसार, मोइन ख़ान कथित रूप से अपने पिता और चाचा से परेशान था, क्योंकि वो उसे अपने पारिवारिक रेस्तरां को चलाने की अनुमति नहीं दे रहे थे। इसके बाद उसने फ़िरौती की रक़म से अपना ख़ुद का रेस्तरां खोलने के बारे में विचार किया।  

पुलिस ने मोइन ख़ान के अलावा अपहरण में उसकी मदद करने वाले दो ऑटोरिक्शा चालकों, अयाज़ (35 वर्षीय) और मुबारक (30 वर्षीय) को भी गिरफ़्तार किया है। बचाया गया लड़का मोइन के चाचा जावेद अली का बेटा है।

शनिवार (30 नवंबर) को दोपहर करीब 2.30 बजे मोइन के कहने पर अयाज़ और मुबारक कार लेकर उस गली में पहुँचे जहाँ जावेद अली का घर था। घर के बाहर खेल रहे उनके बेटे से दोनों ने उसके रेस्तरां का रास्ता पूछा। रेस्तरां ले जाने के लिए जावेद का बेटा उनकी गाड़ी में बैठ गया और उसे अयाज़ और मुबारक अगवा कर ले गए।

इसके बाद अयाज़ और मुबारक ने जावेद अली को फोन कर बताया कि उनके बेटे का अपहरण कर लिया गया है और उसे छोड़ने के एवज़ में उनसे 50 लाख रुपए की फ़िरौती माँगी। पुलिस का कहना है कि जावेद अली ने शुरू में फोन कॉल को गंभीरता से नहीं लिया। लेकिन, फोन कॉल के कुछ मिनट बाद जावेद को व्हाट्सएप पर एक संदेश मिला, जिसमें उनके बेटे की तस्वीर और फ़िरौती की माँग की गई थी। संदेश में जावेद को 12 घंटे के भीतर फ़िरौती की रकम देने को कहा गया।

बेबस जावेद मदद के लिए मोइन खान के पास पहुँचा और दोनों ने बनासवाड़ी पुलिस स्टेशन में जाकर शिक़ायत दर्ज कराई। बनासवाड़ी पुलिस ने बताया, “आरोपित जाँच को गुमराह करने की कोशिश कर रहा था। हमें उस पर संदेह न हो जाए इसलिए वो हमें गुमराह करता रहा।”

बनासवाड़ी पुलिस ने एसीपी रवि प्रसाद के नेतृत्व में तीन टीमों का गठन किया और जावेद का कॉल रिकॉर्ड खँगाला। जिस नंबर से फिरौती की रकम माँगी गई थी उसका भी रिकॉर्ड निकाला गया। इससे पता चला कि वे
मोइन के संपर्क में थे।

बनासवाड़ी पुलिस ने तुरंत मोइन ख़ान को हिरासत में ले लिया और संदेह के आधार पर उससे पूछताछ शुरू कर दी। पूछताछ के दौरान उसने क़बूल कर लिया कि उसी ने अपहरण की साज़िश रची थी। इसके बाद शाम 5.30 बजे तक मोइन ने पुलिस को लड़के की लोकेशन बता दी। बनासवाड़ी पुलिस केजी हल्ली में घटनास्थल पर पहुँची, जहाँ लड़के को रखा गया था। मुबारक ने पुलिसकर्मियों पर हमला करने की कोशिश की। लेकिन पुलिस की गोली लगने से वह जख्मी हो गया।

मोइन ने तीन लाख रुपए देने का वादा अयाज और मुबारक से किया था। फिरौती के पैसे से मोइन ने खुद का रेस्तरां शुरू करने की योजना बनाई थी। मोइन, अयाज़ और मुबारक पर आईपीसी की धारा-359 (अपहरण), 186 (एक लोक सेवक को ड्यूटी करने से रोकना) और 34 (आम इरादे) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe