Thursday, February 22, 2024
Homeदेश-समाजशिवसैनिकों की गुंडई के शिकार पूर्व नेवी अफसर मदन शर्मा BJP-RSS में शामिल, कहा-...

शिवसैनिकों की गुंडई के शिकार पूर्व नेवी अफसर मदन शर्मा BJP-RSS में शामिल, कहा- अब महाराष्ट्र में कोई गुंडागर्दी नहीं होने देंगे

"अभी से मैं बीजेपी-आरएसएस के साथ हूँ। जब मुझे पीटा गया, तो उन्होंने आरोप लगाया कि मैं भाजपा-आरएसएस से जुड़ा हूँ। इसलिए अब मैं घोषणा करता हूँ कि मैं आज से बीजेपी-आरएसएस के साथ हूँ।"

मुंबई में रिटायर नेवी अफसर मदन शर्मा की शिवसैनिकों ने बेरहमी से पिटाई की थी। जिसके बाद शिवसैनिकों की गिरफ़्तारी भी हुई लेकिन उन्हें जल्द ही छोड़ दिया गया और उनपर शिवसेना द्वारा लगातार तंज किया जाता रहा। मदन शर्मा ने आज महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात कर महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की माँग की है। साथ ही लगातार लग रहे आरोपों के कारण आज उन्होंने कहा कि मैं अब बीजेपी, आरएसएस से जुड़ गया हूँ। अब हम महाराष्ट्र में कोई गुंडागर्दी नहीं होने देंगे।

सेवानिवृत नौसेना ऑफिसर मदन शर्मा ने राज्यपाल के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा, “अभी से मैं बीजेपी-आरएसएस के साथ हूँ। जब मुझे पीटा गया, तो उन्होंने आरोप लगाया कि मैं भाजपा-आरएसएस से जुड़ा हूँ। इसलिए अब मैं घोषणा करता हूँ कि मैं आज से बीजेपी-आरएसएस के साथ हूँ।”

मदन शर्मा की पिटाई से आहत राष्ट्रीय सैनिक संस्थान भी उनके समर्थन में आ गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, वयोवृद्ध संगठन राष्ट्रीय सैनिक संस्थान की मुंबई इकाई के अध्यक्ष पंजाबराव लक्ष्मण मुधाने ने कहा, “अगर उद्धव ठाकरे माफी नहीं माँगते हैं, तो 3 दिन में सभी रिटायर आर्मी अफसर आजाद मैदान में इकट्ठा होंगे और विरोध प्रदर्शन शुरू कर देंगे।”

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का कार्टून सोशल मीडिया में फॉरवर्ड करने पर मुंबई में शिवसेना कार्यकर्ताओं ने सेवानिवृत्त नेवी ऑफिसर मदन शर्मा पर हमला बोला था। शिवसेना के 6-7 ‘गुंडों’ ने पूर्व नेवी अधिकारी मदन शर्मा पर हमला किया था जिसके बाद सोशल मीडिया पर उद्धव सरकार को व्यापक प्रतिक्रिया झेलनी पड़ी।

बता दें कि कांदिवली से भाजपा विधायक ने टाइम्स नाऊ से बात करते हुए कहा था कि स्थानीय ‘शाखा प्रमुख’ ने पूर्व नेवी अधिकारी को संपर्क किया और उन्हें उनकी बिल्डिंग से नीचे आने को बोला। जैसे ही वो अपनी बिल्डिंग से नीचे उतरे, करीब 8 लोगों ने उन्हें सिर्फ़ इसलिए मारना शुरू कर दिया क्योंकि उन्होंने कथित तौर पर उद्धव ठाकरे का कार्टून व्हॉट्सएप पर फॉरवर्ड किया था।

कार्टून में भगवा रंग के कपड़े में उद्धव ठाकरे को कॉन्ग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी और एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार सफेद रंग का कपड़ा पहनाते दिखाई दे रहे थे। पिटाई के बाद मदन शर्मा ने पुलिस में शिकायत दर्ज की थी। मदन शर्मा की शिकायत के बाद समता नगर पुलिस ने शुक्रवार ( सितम्बर 11, 2020) देर शाम चार आरोपितों- शिवसेना प्रमुख प्रधान कमलेश कदम और उनके साथी संजय मंजरे, राकेश बेलवेकर और प्रताप सोंड को गिरफ्तार किया था। हालाँकि, बाद में उन्हें 12 घंटे के अंदर ही जमानत मिल गई थी।

जिसके बाद, शर्मा के परिवार ने कहा है कि वे अब खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे। पूर्व नौसेना अधिकारी के बेटे सनी शर्मा ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मॉंग की थी।

वहीं आरोपित शिवसैनिकों को जमानत मिलने पर पूर्व नेवी ऑफिसर की बेटी शीला शर्मा ने कहा, “एक वरिष्ठ नागरिक पर हमला किया गया है। पुलिस को पता होना चाहिए कि आरोपियों को किन धाराओं के तहत गिरफ्तार किया जाना चाहिए। उन्हें हत्या की कोशिश के आरोप के तहत गिरफ्तार किया जाना चाहिए। इसमें किसी भी प्रकार की जमानत नहीं मिलनी चाहिए थी।”

महज एक कार्टून शेयर करने को लेकर शिवसेना कार्यकर्ताओं के हमले का शिकार बने पूर्व नौसेना अधिकारी मदन शर्मा ने भी महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से इस्तीफे की माँग की थी। इसी को लेकर शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में मदन शर्मा पर निशाना साधा गया था। बता दें कि सामना के संस्थापक संपादक बाल ठाकरे और संपादक रश्मि उद्धव ठाकरे हैं। रश्मि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की पत्नी हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘108 अवैध मजारें जमींदोज, बाकी के लिए बुलडोजर तैयार’: गुजरात के गृह मंत्री ने याद दिलाया- कॉन्ग्रेस ने कैसे मंदिर से हटवाई थी मूर्तियाँ

गुजरात के गृह राज्य मंत्री हर्ष सांघवी ने कहा है कि उनके राज्य में अब तक 108 अवैध मजार जमींदोज कर गई हैं, बाकी अवैध इमारतों को गिराने के लिए भी बुलडोजर तैयार है।

आक्रांताओं की हिंसा से बचाने के लिए देवी-देवताओं, महिलाओं को घर में लाया गया… राम मंदिर से महिलाएँ फिर होंगी स्वतंत्र-सुरक्षित

श्री राम और राम राज्य इस बात पर प्रकाश डालते हैं कि हिंसा सनातन संस्कृति का हिस्सा नहीं थी। राम मंदिर से समाज में यह बात फिर से घर करेगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe