Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजराजीव गाँधी की हत्या में शामिल नलिनी ने किया आत्महत्या का प्रयास, 29 साल...

राजीव गाँधी की हत्या में शामिल नलिनी ने किया आत्महत्या का प्रयास, 29 साल से जेल में है बंद

"ऐसा नामुमकिन है कि वो आत्महत्या करने की धमकी देगी। वो 29 साल से जेल में है। आज तक उसने ऐसा कुछ नहीं किया।" - इस मामले में अभी तक स्पष्ट नहीं है कि जेलर शिकायत के बाद रात के 8:30 बजे पूछताछ करने क्यों गए थे।

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी की हत्या मामले में दोषी नलिनी श्रीहरन ने सोमवार (जुलाई 20,2020) को जेल में आत्महत्या करने का प्रयास किया। उसके वकील पुगालेंथी (Pugalenthi) ने इस बारे में जानकारी दी। नलिनी पिछले 29 साल से जेल में बंद है। उसे वेल्लोर की महिला कैदखाने में रखा गया है।

इंडिया टुडे के अनुसार, नलिनी के वकील ने उनसे बातचीत की। पुगालेंथी ने उन्हें बताया कि नलिनी ने ऐसा प्रयास पहली बार किया है। उन्होंने घटना के बारे में बताते हुए कहा कि कहा जा रहा है कि नलिनी और एक अन्य कैदी में आपसी झड़प हो गई थी। इसके बाद दूसरी कैदी ने इस बात को जेलर तक पहुँचा दिया। जिसके कारण नलिनी ने आत्महत्या की धमकी दी और फिर प्रयास भी किया।

पुगालेंथी ने बातचीत के दौरान इस बात पर भी जोर दिया कि नलिनी ने पहले कभी ऐसा कोई कदम नहीं उठाया था। इसलिए उन्हें इस घटना के पीछे का असल कारण जानना है। नलिनी के वकील ने उसके पति मुरुगन का जिक्र भी किया।

मुरुगन भी राजीव गाँधी की हत्या के दोष में जेल में बंद है। लेकिन उसने कॉल के माध्यम से अपने वकील से अपील की है कि नलिनी को वेल्लोर जेल से पुझल जेल में स्थानांतरित कर दिया जाए। वकील की मानें तो अब इस मामले में कानूनी रूप से आग्रह जल्द किया जाएगा।

द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार भी, नलिनी के वकील ने यही कहा है कि ऐसा नामुमकिन है कि वो आत्महत्या करने की धमकी देगी। वो 29 साल से जेल में है। आज तक उसने ऐसा कुछ नहीं किया। ये बात भी अभी तक स्पष्ट नहीं है कि जेलर शिकायत के बाद रात के 8:30 बजे पूछताछ करने क्यों गए थे।

उल्लेखनीय है कि नलिनी और उसके पति मुरुगन समेत कुल 7 लोगों को TADA अदालत ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी की हत्या मामले में संलिप्त पाए जाने के बाद मौत की सजाई सुनाई थी। मगर, बाद में इस सजा को आजीवन कारावास में बदल दिया गया था। नलिनी के अलावा इन 7 लोगों में उसका पति मुरुगन, एजी पेरारीवालां, संथन, जयकुमार, रविचंद्रन और रॉबर्ट प्यास का नाम शामिल था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe