Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजजीसस एजुकेशन हॉस्टल में नाबालिग आदिवासी छात्राओं से दुष्‍कर्म की जाँच के लिए केंद्र...

जीसस एजुकेशन हॉस्टल में नाबालिग आदिवासी छात्राओं से दुष्‍कर्म की जाँच के लिए केंद्र ने CM फडणवीस को लिखा पत्र

मेडिकल परीक्षण में भी छात्राओं से दुष्‍कर्म की पुष्टि हुई है। मामले में हॉस्टल के सुपरिटेंडेंट और डेप्युटी सुपरिटेंडेंट को गिरफ्तार किया जा चुका है।

केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री हंसराज अहीर ने महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को पत्र लिखकर चंद्रपुर में ‘इनफैंट जीसस एजुकेशन सोसायटी’ द्वारा संचालित छात्रावास में रहने वाली नाबालिग आदिवासी छात्राओं के साथ दुष्‍कर्म के मामलों में FIR दर्ज करने में हुई देरी के सिलसिले में जाँच कराने को कहा है। इस घटना से स्‍थानीय लोगों में काफी गुस्‍सा है और वे सीबीआई से जाँच कराने की माँग कर रहे हैं। 

बीते दिनों चंद्रपुर के राजुरा तहसील में ‘इनफैंट जीसस एजुकेशन सोसाइटी‘ द्वारा संचालित छात्रावास में रहने वाली नाबालिग आदिवासी छात्राओं के साथ दुष्‍कर्म के मामले सामने आए थे। इन मामलों में FIR दर्ज करने में देरी हुई थी। राज्य के वित्तमंत्री और चंद्रपुर के संरक्षक मंत्री सुधीर मुंगंटीवार के मामले की जाँच के आदेश के बाद पुलिस और आदिवासी विभाग हरकत में आया था और कार्रवाई शुरू हो पाई थी। 

मेडिकल परीक्षण में भी छात्राओं से दुष्‍कर्म की पुष्टि हुई है। मामले में हॉस्टल के सुपरिटेंडेंट और डिप्टी सुपरिटेंडेंट को गिरफ्तार किया जा चुका है। आरोपितों के खिलाफ IPC और पॉक्सो (POCSO) एक्ट की अलग-अलग धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया। आरोपितों पर SC/ ST एक्ट की धाराओं के तहत भी केस दर्ज हुआ। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,145FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe