Thursday, October 1, 2020
Home राजनीति 12वीं की NCERT पॉलिटिकल साइंस किताब में जोड़ा गया अनुच्छेद 370 हटाने का अध्याय,...

12वीं की NCERT पॉलिटिकल साइंस किताब में जोड़ा गया अनुच्छेद 370 हटाने का अध्याय, हटाया J&K से ‘अलगाववाद’

"जम्मू कश्मीर और लद्दाख भारत के विविध समाज का असल उदाहरण हैं। वहाँ केवल हर तरह की विविधता (धार्मिक, सांस्कृतिक, भाषिक, सामाजिक आदि) ही नहीं है। बल्कि पिछले कुछ समय में इन्हीं के चलते राज्य में विविधता के आधार पर कई बड़े बदलाव हुए हैं।"

एनसीआरटी ने कक्षा 12 की राजनीति विज्ञान की किताब में जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर एक अध्याय शामिल किया गया है। वहीं दूसरी तरफ ‘Separatism and beyond’ नाम के हिस्से को हटा कर ‘2002 and Beyond’ जोड़ दिया गया है। किताब का नाम ‘Politics in India since Independence’ है और उस अध्याय का नाम ‘Regional Aspirations’ है।

5 अगस्त साल 2019 के दिन केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर को अनुच्छेद 370 के तहत मिला विशेष राज्य का दर्जा वापस ले लिया था। राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बाँट दिया गया था, जम्मू -कश्मीर और लद्दाख। ‘2002 and Beyond’ नाम के हिस्से में ऐसा लिखा है “महबूबा मुफ़्ती के शासन में सबसे ज़्यादा आतंकवाद और आतंरिक – बाहरी स्तर पर तनाव भी देखा गया। जून 2018 में जैसे ही भारतीय जनता पार्टी ने अपना समर्थन वापस लिया वैसे ही राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया। इसके बाद जम्मू कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम तैयार किया गया और उसके अंतर्गत उसे दो केंद्र शासित राज्यों में बाँट दिया गया, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख।

कुल मिला कर ‘2002 and Beyond’ नाम का अध्याय जम्मू कश्मीर की गठबंधन सरकार और राज्य से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बारे में बात करता है। अध्याय के मुताबिक़ जुलाई साल 2008 के दौरान राज्य में राष्ट्रपति शासन लग जाने के बाद कॉन्ग्रेस के ग़ुलाम नबी की सरकार अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाई थी। समझौते के तहत मुफ़्ती मोहम्मद सईद ने गठबंधन में हुए समझौते के तहत शुरू के तीन साल सरकार चलाई थी।

इसके बाद साल 2008 के नवंबर दिसंबर महीने में चुनाव हुए। अध्याय के मुताबिक़ “एक बार फिर गठबंधन की सरकार सत्ता में आई। जिसके मुखिया थे उमर अब्दुल्ला लेकिन राज्य के भीतर हुर्रियत कॉन्फ्रेंस की तरफ से तनाव जारी था। साल 2014 में एक बार फिर विधानसभा चुनाव हुए। इस चुनाव में बीते 25 सालों की तुलना में सबसे ज़्यादा मतदान हुए।” 

इस बार पीडीपी और भाजपा की गठबंधन सरकार सत्ता में आई। इस अध्याय के मुताबिक “साल 2016 के अप्रैल महीने में मुफ़्ती मोहम्मद सईद की मृत्यु के बाद उनकी बेटी महबूबा मुफ़्ती सईद जम्मू कश्मीर की पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं।” अध्याय में इस कार्यकाल को हिंसक भी बताया गया है।

जम्मू कश्मीर और यहाँ होने वाली हिंसा का ज़िक्र करने वाला अध्याय कुछ ऐसे शुरू होता है। “जैसा कि आपने पिछले हिस्से में पढ़ा होगा, अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा मिला हुआ है। जम्मू कश्मीर में हुई हिंसा, सीमा पार से होने वाला आतंकवाद और राजनीतिक अस्थिरता ने राज्य को भीतर और बाहर दोनों तरफ से प्रभावित किया।” 

इसके अलावा अध्याय में यह भी लिखा हुआ है, “इसकी वजह से राज्य के निर्दोष नागरिक और सुरक्षाकर्मी समेत बहुत से लोगों की जान गई। इतना ही नहीं, बहुत बड़े पैमाने पर कश्मीरी पंडितों का विस्थापन भी हुआ।” इसके अलावा अध्याय में राज्य का इतिहास, अनुच्छेद 370 की वजह से हुई हिंसा को हटा कर बताया गया है। अध्याय में लिखा है, “अपने जम्मू कश्मीर में हुई हिंसा के बारे में ज़रूर सुना होगा। इसकी वजह से बहुत से मासूम जानें गईं और तमाम परिवारों को अपना घर तक छोड़ना पड़ा। कश्मीर विवाद भारत और पाकिस्तान के बीच हमेशा से ही एक बड़ा विवाद रहा है। लेकिन राज्य की राजनीति के कई पहलू हैं।”

एक और बदलाव, इस बात का ज़िक्र करता है जब कश्मीर विवाद संयुक्त राष्ट्र में रखा गया था। अध्याय में लिखी हुई जानकारी के मुताबिक, “यह विवाद संयुक्त राष्ट्र संघ में पेश किया गया था। फिर संयुक्त राष्ट्र ने इस मुद्दे का हल निकालने के लिए 21 अप्रैल 1948 के प्रस्ताव के आधार पर 3 चरणों की प्रक्रिया का सुझाव दिया। सबसे पहले पाकिस्तान को कश्मीर में मौजूद अपने सारे नागरिक वापस बुलाने होंगे। दूसरा, भारत को वहाँ सुरक्षाबलों की संख्या घटानी चाहिए, जिससे वहाँ शांति स्थापित हो। तीसरा, इतना कुछ होने के बाद राज्य में निष्पक्ष होकर एक जनमत संग्रह कराया जाए। लेकिन अफ़सोस इसमें से किसी भी सुझाव पर काम नहीं हो पाया।”

इसके बाद नई और पुरानी किताबों को पढ़ने और तुलना करने के बाद एक और बात पता चलती है। नई किताब में जम्मू कश्मीर के तीन नए सामाजिक/राजनीतिक हिस्सों (जम्मू, कश्मीर और लद्दाख) को परिभाषित करने के दौरान “Heart of kashmir region is the kashmir valley” जैसी पंक्ति हटा दी गई है। “जम्मू का इलाका तलहटी और मैदानों का मिश्रण है। यहाँ मूल रूप से हिन्दू, मुस्लिम, सिख समेत कुछ अलग समुदाय के लोग भी रहते हैं।”

किताब के नए संस्करण में यह भी लिखा है, “कश्मीर इलाके में महज़ कश्मीर घाटी ही है। इसमें मुख्य रूप से कश्मीरी मुस्लिम रहते हैं और कुछ हिन्दू, सिख, बौद्ध समुदाय के लोग रहते हैं। लद्दाख ज़्यादातर पहाड़ों से घिरा हुआ है, यहाँ की आबादी बहुत कम है। जिसमें लगभग आधे मुस्लिम और आधे बौद्ध हैं।” 

कुल मिला कर किताब के नए और संशोधित संस्करण में कश्मीरियत को बहुत अच्छे से परिभाषित किया गया है। लेकिन ‘कश्मीरियत’ का ज़िक्र नहीं किया गया है। जिसका उल्लेख किताब के पुराने संस्करण में था। पुराने संस्करण के मुताबिक, ‘कश्मीर मुद्दा’ सिर्फ भारत और पाकिस्तान के बीच का विवाद नहीं है। इस मुद्दे के भीतर और बाहर भी कई आयाम हैं। विवाद की एक बड़ी वजह ‘कश्मीरियत’ और यहाँ के राजनेताओं की राजनीतिक आकांक्षाएँ हैं। 

वहीं नए बदलावों के मुताबिक कश्मीर की व्याख्या ही विवादों की असल जड़ रहा है। पाकिस्तान के नेताओं का ऐसा मानना था कि कश्मीर उनका हिस्सा है क्योंकि वहाँ की ज़्यादातर आबादी मुस्लिम थी। जबकि लोग ऐसा नहीं सोचते थे, लोगों के हिसाब से कश्मीरी सबसे ऊपर थे। इस पूरे विवाद को ‘कश्मीरियत’ नाम दिया गया था। अंत में किताब का नया संस्करण बहुलवाद की बात करता है।

“जम्मू कश्मीर और लद्दाख भारत के विविध समाज का असल उदाहरण हैं। वहाँ केवल हर तरह की विविधता (धार्मिक, सांस्कृतिक, भाषिक, सामाजिक आदि) ही नहीं है। बल्कि पिछले कुछ समय में इन्हीं के चलते राज्य में विविधता के आधार पर कई बड़े बदलाव हुए हैं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जब बलात्कार से ज्यादा जरूरी हिन्दू प्रतीकों पर कार्टून बना कर नीचा दिखाना हो जाता है: अपना इतिहास स्वयं लिखो

अपने पक्ष की कहानियाँ खुद लिखना सीखिए, लेकिन उससे भी जरुरी है कि वो जिस मुद्दे पर उकसाएँ, उस पर चुप रहना सीखिए।

बलरामपुर: दलित लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार, लड़की की मौत, शाहिद और साहिल गिरफ्तार

अनुसूचित जाति की एक युवती के साथ शाहिद और साहिल द्वारा सामूहिक बलात्कार की घटना सामने आई है। युवती की अस्पताल में मौत हो गई।
00:48:35

हाथरस केस में पुलिस पर सवाल उठना लाजमी: अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Hathras Case

भयावहता को दर्शाने के लिए जीभ काटने, रीढ़ की हड्डी तोड़ने, आँख फोड़ने की बात कही गई। ये भी कहा गया कि आरोपित सवर्ण है, इसलिए पुलिस छेड़छाड़ का मामला बताकर रफा-दफा करने की कोशिश कर रही है।

इलाज के लिए अमित शाह के न्यूयॉर्क जाने, उनके बीमार होने के वायरल दावों की क्या है सच्चाई, पढ़ें पूरी डिटेल

सोशल मीडिया पर गृह मंत्री अमित शाह को इलाज के लिए न्यूयॉर्क शिफ्ट करने की बात पूरी तरह से गलत है। इसके इतर, उनका स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक है। उन्होंने आज मंत्रालय और पार्टी दोनों ही कामों में हिस्सा लिया है।

CM योगी ने की हाथरस पीड़िता के परिजनों से बात, परिवार को 25 लाख की आर्थिक मदद, मकान और सरकारी नौकरी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिजनों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की। बुधवार शाम को हुई बातचीत में सीएम योगी ने न्याय का भरोसा दिलाया। मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवार को ढाँढस बँधाया।

लड़कियों को भी चाहिए सेक्स, फिर ‘काटजू’ की जगह हर बार ‘कमला’ का ही क्यों होता है रेप?

बलात्कार आरोपित कटघरे में खड़ा और लोग तरस खा रहे... सबके मन में बस यही चल रहा है कि काश इसके पास नौकरी होती तो यह आराम से सेक्स कर पाता!

प्रचलित ख़बरें

ईशनिंदा में अखिलेश पांडे को 15 साल की सजा, कुरान की ‘झूठी कसम’ खाकर 2 भारतीय मजदूरों ने फँसाया

UAE के कानून के हिसाब से अगर 3 या 3 से अधिक लोग कुरान की कसम खाकर गवाही देते हैं तो आरोप सिद्ध माना जा सकता है। इसी आधार पर...

‘हिन्दू राष्ट्र में आपका स्वागत है, बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गया था’: कोर्ट के फैसले के बाद लिबरलों का जलना जारी

अयोध्या बाबरी विध्वंस मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद यहाँ हम आपके समक्ष लिबरल गैंग के क्रंदन भरे शब्द पेश कर रहे हैं, आनंद लीजिए।

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

शाम तक कोई पोस्ट न आए तो समझना गेम ओवर: सुशांत सिंह पर वीडियो बनाने वाले यूट्यूबर को मुंबई पुलिस ने ‘उठाया’

"साहिल चौधरी को कहीं और ले जाया गया। वह बांद्रा के कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अपने पिता के साथ थे। अभी उनकी लोकेशन किसी परिजन को नहीं मालूम। मदद कीजिए।"

लड़कियों को भी चाहिए सेक्स, फिर ‘काटजू’ की जगह हर बार ‘कमला’ का ही क्यों होता है रेप?

बलात्कार आरोपित कटघरे में खड़ा और लोग तरस खा रहे... सबके मन में बस यही चल रहा है कि काश इसके पास नौकरी होती तो यह आराम से सेक्स कर पाता!

जब बलात्कार से ज्यादा जरूरी हिन्दू प्रतीकों पर कार्टून बना कर नीचा दिखाना हो जाता है: अपना इतिहास स्वयं लिखो

अपने पक्ष की कहानियाँ खुद लिखना सीखिए, लेकिन उससे भी जरुरी है कि वो जिस मुद्दे पर उकसाएँ, उस पर चुप रहना सीखिए।

आजमगढ़ में 8 साल की बच्ची को नहलाने के बहाने घर लेकर जाकर दानिश ने किया रेप, हालत नाजुक

बच्ची की माँ द्वारा शिकायत दर्ज कराने के बाद मामला दर्ज कर लिया गया है। घटना के संबंध में दानिश नाम के आरोपित की गिरफ्तारी भी हो चुकी है।

बुलंदशहर: 14 वर्षीय बच्ची को घर से उठाकर रिजवान उर्फ़ पकौड़ी ने किया रेप, मुँह में कपड़ा ठूँसा..चेहरे पर तेजाब डालने की धमकी, गिरफ्तार

14 वर्षीय लड़की को रुमाल सुँघाकर रेप करने वाले पड़ोसी रिजवान को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पीड़िता का इलाज चल रहा है।

अजमेर में टीपू सुल्तान ने अपने 2 दोस्तों के साथ दलित युवती के मुँह में कपड़ा ठूँसकर किया सामूहिक दुष्कर्म, 8 घंटे तक दी...

राजस्थान के अजमेर में एक युवती के साथ सामूहिक बलात्कार की घटना सामने आई है। आरोपित टीपू सुल्तान पर अपने दो साथियों के साथ इस घटना को अंजाम देने का आरोप है।

बलरामपुर: दलित लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार, लड़की की मौत, शाहिद और साहिल गिरफ्तार

अनुसूचित जाति की एक युवती के साथ शाहिद और साहिल द्वारा सामूहिक बलात्कार की घटना सामने आई है। युवती की अस्पताल में मौत हो गई।

#RebuildBabri: सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए मुस्लिमों को बरगलाने की कोशिश, पोस्टर के जरिए बाबरी ढाँचे के पुनर्निर्माण का आह्वान

अदालत ने बुधवार को बाबरी विध्वंस मामले में सभी 32 आरोपितों को बरी कर दिया। वहीं इस फैसले से बौखलाए मुस्लिमों ने सोशल मीडिया पर लोगों से बाबरी ढाँचे के पुनर्निर्माण का आह्वान किया है।
00:48:35

हाथरस केस में पुलिस पर सवाल उठना लाजमी: अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Hathras Case

भयावहता को दर्शाने के लिए जीभ काटने, रीढ़ की हड्डी तोड़ने, आँख फोड़ने की बात कही गई। ये भी कहा गया कि आरोपित सवर्ण है, इसलिए पुलिस छेड़छाड़ का मामला बताकर रफा-दफा करने की कोशिश कर रही है।

इलाज के लिए अमित शाह के न्यूयॉर्क जाने, उनके बीमार होने के वायरल दावों की क्या है सच्चाई, पढ़ें पूरी डिटेल

सोशल मीडिया पर गृह मंत्री अमित शाह को इलाज के लिए न्यूयॉर्क शिफ्ट करने की बात पूरी तरह से गलत है। इसके इतर, उनका स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक है। उन्होंने आज मंत्रालय और पार्टी दोनों ही कामों में हिस्सा लिया है।

कॉन्ग्रेस के दबाव में झुकी उद्धव सरकार: महाराष्ट्र में नया कृषि कानून लागू करने का आदेश लिया वापस

कॉन्ग्रेस की तरफ से कैबिनेट बैठक के बहिष्कार की धमकी के बाद महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने बुधवार को नए कृषि कानून लागू करने का अगस्त महीने में दिया अपना आदेश वापस ले लिया है।

अतीक अहमद के करीबी राशिद, कम्मो और जाबिर के आलीशान बंगलों पर चला योगी सरकार का बुलडोजर, करोड़ो की संपत्ति खाक

प्रशासन ने अब अतीक गैंग के खास रहे तीन गुर्गों राशिद, कम्मो और जाबिर के अवैध आलीशान मकानों को जमींदोज कर दिया। यह सभी मकान प्रयागराज के बेली इलाके में स्थित थे।

हमसे जुड़ें

267,758FansLike
78,083FollowersFollow
326,000SubscribersSubscribe