Tuesday, June 18, 2024
Homeदेश-समाजअपहरण के प्रयास में तौसीफ ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, 1 माह...

अपहरण के प्रयास में तौसीफ ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, 1 माह पहले ही की थी उत्पीड़न की शिकायत

निकिता एग्जाम देने के बाद बाहर निकली तो आई-20 कार में सवार तौसीफ ने उसे गाड़ी में जबरदस्ती बैठाने की कोशिश की। लड़की ने बैठने से इनकार किया तो आरोपित तौसीफ उसे गोली मारकर फरार हो गया।

हरियाणा के फरीदाबाद स्थित बल्लभगढ़ थाना क्षेत्र में एक छात्रा की गोली मार कर हत्या कर दी गई। मृतका निकिता ने एक माह पहले ही आरोपित तौसीफ (Tauseef) के खिलाफ छेड़खानी और उत्पीड़न की शिकायत दर्ज की थी। मेवात के रहने वाले तौसीफ (Tauseef) नाम के युवक पर आरोप लगा है कि उसने छात्रा निकिता तोमर (Nikita Tomar) की हत्या की। आरोपित अपने दोस्तों के साथ कार में सवार होकर छात्रा के अपहरण के इरादे से आया था।

नोट – कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में आरोपित तौसीफ (Tauseef) को ही तौफीक (Taufiq)भी बताया जा रहा है

आरोपित तौसीफ (Tauseef) ने निकिता को गाड़ी में खींचने की कोशिश की लेकिन जब वो असफल रहा तो उसने गोली मार दी। यह पूरी घटना CCTV में भी कैद हो गई। मृतका निकिता बीकॉम फाइनल ईयर की छात्रा थी और अग्रवाल कॉलेज में एग्जाम देने आई थी।

छात्रा निकिता तोमर के पिता और उत्तर प्रदेश के हापुड़ निवासी मूलचंद तोमर फरीदाबाद के सेक्टर-23 स्थित एक सोसाइटी में रहते हैं। उन्होंने बताया कि तौसीफ 12वीं क्लास तक निकिता के साथ ही पढ़ता था। उसने कई बार दोस्ती के लिए दबाव भी बनाया था और वो उसका धर्मांतरण भी करना चाहता था। दोस्ती और जबरन निकाह से इनकार किए जाने के कारण तौसीफ ने वर्ष 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था। हालाँकि, तब बदनामी के डर से परिजनों ने किसी तरह समझौता कर लिया था।

NBT की खबर के अनुसार, लड़की के भाई ने बताया कि निकिता सोमवार (अक्टूबर 26, 2020) को परीक्षा देने के ले कॉलेज गई थी। वहाँ परीक्षा सेंटर के बाहर ही माँ और भाई छात्रा का इंतजार कर रहे थे। शाम 4 बजे वो जैसे ही परीक्षा देकर निकली, एक कार वहाँ आकर रुकी। वहाँ तौसीफ ने निकिता को अपनी गाड़ी में खींचने की कोशिश की। लेकिन, जैसे ही उसकी नजर निकिता के भाई पर पड़ी, उसने गोली चला दी।

वारदात के बाद छात्रा को तुरंत अस्पताल ले जाया गया, जहाँ उसे मृत घोषित कर दिया गया। इस घटना के बाद वहाँ अफरातफरी मच गई। एसीपी सिटी जयवीर राठी व क्राइम ब्रांच ने घटनास्थल का दौरा किया। आसपास की सीसीटीवी फुटेज को खँगाला जा रहा है। बल्लभगढ़ के डीसीपी के मुताबिक, आरोपित तौसीफ को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। तौसीफ मेवात का रहने वाला है।

निकिता पढ़ने में काफी अच्छी थी और बीकॉम में प्रत्येक वर्ष में टॉपर रही थी। वो लेफ्टिनेंट बन कर देश की सेवा करना चाहती थी। उसने हाल ही में एयरफोर्स की परीक्षा भी दी थी। साथ ही एनडीए के लिए भी लगातार तैयारी कर रही थी। उसे 12वीं में भी 95% अंक आए थे। भाई ने बताया कि वो बहन को रोज कॉलेज छोड़ने जाते थे। इस बार भी वो टॉप करना चाहती थी। इससे पहले जब तौसीफ ने अपहरण किया था तो उसके परिवार वालों ने पाँव पकड़ के माफ़ी माँगी थी, इसीलिए मामला पुलिस के पास नहीं गया।

हाल ही में मेवात के नगीना थाने के उलेटा गाँव में गत 21 अप्रैल को गाँव की बहुसंख्यक आबादी के कुछ युवकों ने एक दलित परिवार को अपनी दबंगई का निशाना बनाया था। एक मामूली सी बात पर 24 साल के राहुल पर धारदार फरसे से हमला किया गया था और उसके परिवार को जातिसूचक शब्द बोलकर धमकाया गया था कि यदि गाँव में रहना है तो जूती के नीचे रहना होगा। लगातार दो दशकों से ऐसे अत्याचार सहने के बाद दलित परिवार ने पुलिस में मुकदमा दायर करने की ठानी और इंसाफ की गुहार लगाने लगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दलितों का गाँव सूना, भगवा झंडा लगाने पर महिला का घर तोड़ा… पूर्व DGP ने दिखाया ममता बनर्जी के भतीजे के क्षेत्र का हाल,...

दलित महिला की दुकान को तोड़ दिया गया, क्योंकि उसके बेटे ने पंचायत चुनाव में भाजपा की तरफ से चुनाव लड़ा था। पश्चिम बंगाल में भयावह हालात।

खालिस्तानी चरमपंथ के खतरे को किया नजरअंदाज, भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंधों को बिगाड़ने की कोशिश, हिंदुस्तान से नफरत: मोदी सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार में जुटी ABC...

एबीसी न्यूज ने भारत पर एक और हमला किया और मोदी सरकार पर ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले खालिस्तानियों की हत्या की योजना बनाने का आरोप लगाया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -