Sunday, September 26, 2021
Homeदेश-समाज'गुंडे' काँवड़िए को पकड़ने को खँगाले 100 CCTV, पत्थरबाज नमाज़ियों पर अभी तक FIR...

‘गुंडे’ काँवड़िए को पकड़ने को खँगाले 100 CCTV, पत्थरबाज नमाज़ियों पर अभी तक FIR भी नहीं

आश्चर्य इस बात का है कि जिस व्यक्ति के कारण इतना हंगामा हुआ और समुदाय विशेष के लोगों द्वारा सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुँचाया गया उसके खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज नहीं की गई है।

ईद के मौके पर पूर्वी दिल्ली के खुरैझी इलाके में तेज रफ़्तार कार द्वारा 17 नमाजियों को टक्कर मारने की झूठी खबर अंग्रेजी मीडिया ने फैलाई थी। इस मामले में दिल्ली पुलिस की DCP मेघा यादव ने नमाजियों को टक्कर मारने जैसे किसी भी दावे से इनकार किया था। ऑपइंडिया ने मेघा यादव से इस सम्बन्ध में बात की थी तो उन्होंने किसी भी न्यूज़ एजेंसी को ऐसी कोई भी सूचना देने की बात से भी इनकार किया था।

डीसीपी यादव के अनुसार कार चुराकर तेज़ रफ्तार से चलाने वाले व्यक्ति का नाम नहीं पता चल पाया है। हालाँकि अन्य स्रोतों से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार कार चालक का नाम शाहरुख़ बताया जा रहा है। ऑपइंडिया ने मेघा यादव से आज सुबह 11:20 पर फिर बात की जिससे पता चला कि अभी तक कार चलाने वाले व्यक्ति के ऊपर एफआईआर तक दर्ज नहीं की गई है। हमें यह बताया गया था कि पुलिस मुख्य रूप से कार चालक की खोज कर रही थी।

लेकिन आश्चर्य इस बात का है कि जिस व्यक्ति के कारण इतना हंगामा हुआ और समुदाय विशेष के लोगों द्वारा सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुँचाया गया उसके खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज नहीं की गई है। गौरतलब है कि डीसीपी यादव ने ऑपइंडिया से हुई बातचीत में कहा था कि जहाँ पर यह घटना घटी अक्सर वहाँ पर भीड़ रहती है लेकिन जिस समय कार वहाँ से गुज़री, उस समय वहाँ कोई नमाज़ अदा नहीं हो रही थी।

बल्कि नमाज़ बहुत पहले ही ख़त्म हो चुकी थी और लोग वहाँ से जा चुके थे। फिर भी समुदाय विशेष के लोगों ने सार्वजनिक वाहन पर तोड़फोड़ की और हंगामा किया। कमाल की बात यह है कि जहाँ ज़्यादातर इंग्लिश मीडिया ने 17 नमाजियों के घायल होने की झूठी ख़बर चलाई वहीं ऑपइंडिया समेत कुछ हिंदी मीडिया ने ऐसा लिखा कि वहाँ कोई घायल नहीं हुआ और इस खबर की सच्चाई बताने की कोशिश की।

इस घटना से लगभग एक साल पीछे जाने पर एक और घटना याद आती है जब अगस्त 2018 में दिल्ली के ही मोतीनगर इलाके में एक कांवड़िये द्वारा किए गए उत्पात पर उसे तीन दिनों के भीतर ही गिरफ्तार कर लिया गया था। पश्चिमी दिल्ली के मोती नगर इलाके में कांवड़ियों की भीड़ द्वारा एक गाड़ी की तोड़फोड़ करने के मामले में दिल्ली पुलिस ने दो आरोपितों को पकड़ा था। मुख्य आरोपित कांवड़िए का नाम राहुल उर्फ़ बिल्ला था जिसे उत्तम नगर से गिरफ्तार किया था।

दूसरे आरोपित का नाम योगेश बताया गया था जिसे जेजे कॉलोनी से पुलिस ने पकड़ा था। गौरतलब है कि इस मामले में पुलिस ने इतनी तेज़ी से काम किया था कि एक-दो नहीं बल्कि 100 सीसीटीवी फुटेज खंगालकर देखे गए थे। लेकिन पूर्वी दिल्ली के खुरैझी इलाके में ईद के दिन सार्वजनिक संपत्ति की हुई क्षति के मामले में पुलिस अभी तक न तो सीसीटीवी फुटेज खोज पाई है, न तेज़ी से कार चलाने वाले व्यक्ति पर एफआईआर ही दर्ज कर सकी है और न उन लोगों के खिलाफ कोई एक्शन लिया गया है जिन्होंने डीटीसी बस समेत चार वाहनों को क्षतिग्रस्त किया। दिल्ली पुलिस का यह शर्मनाक कारनामा है कि जिसे पकड़ लिया गया है उसके खिलाफ भी एफआईआर तक दर्ज नहीं हुई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केरल: CPI(M) यूथ विंग कार्यकर्ता ने किया दलित बच्ची का यौन शोषण, वामपंथी नेताओं ने परिवार को गाँव से बहिष्कृत किया

केरल में DYFI कार्यकर्ता पर एक दलित बच्ची के यौन शोषण का आरोप लगा है। बच्ची की उम्र मात्र 9 वर्ष है। DYFI केरल की सत्ताधारी पार्टी CPI(M) का यूथ विंग है।

कॉन्ग्रेसियों ने BJP सांसद व भाजपा कार्यकर्ताओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा, बरसाए ईंट-पत्थर: 9 बार के कॉन्ग्रेस MLA पर आरोप

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में भाजपा सांसद संगम लाल गुप्ता की पिटाई की गई है। 9 बार के विधायक प्रमोद तिवारी और कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं पर इस घटना को अंजाम देने के आरोप लगे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,375FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe