Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजटोल टैक्स विवाद में ट्रक ड्राइवर विमल की हत्या: सिराजुद्दीन सहित सभी 7 आरोपित...

टोल टैक्स विवाद में ट्रक ड्राइवर विमल की हत्या: सिराजुद्दीन सहित सभी 7 आरोपित गिरफ़्तार

मृतक के भाई राम सिंह तिवारी ने इस सभी आरोपितों के ख़िलाफ़ हत्या का मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने बताया कि आरोपितों ने विवाद के बाद विमल की पिटाई की और उसे फेंक दिया।

नोएडा में टोल टैक्स को लेकर हुए विवाद ने इतना बड़ा रूप धारण कर लिया कि एक कैंटर चालक की हत्या कर दी गई। पुलिस के अनुसार, मृतक का नाम विमल तिवारी है जो खोड़ा का रहने वाला है। विमल तिवारी कैंटर (ट्रक) चलाया करता था। यह घटना शनिवार (अगस्त 10, 2019) की सुबह में हुई जब विमल कैंटर लेकर दिल्ली जा रहा था। कालिंदी कुञ्ज के पास उनकी नोंक-झोंक टोल टैक्स वसूलने वाले बाउंसरों से हो गई।

बाउंसरों ने न सिर्फ़ विमल के साथ मारपीट की बल्कि 14,600 रुपए भी माँगे। इस घटना में बड़ा मोड़ तब आया जब शनिवार की सुबह वह यमुना पुल पर बेहोशी की हालत में मिला। पुलिस ने आनन-फानन में उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। विमल तिवारी की मौत के बाद परिजन आक्रोशित है।

आज सोमवार को पुलिस ने इस मामले में सभी सात आरोपितों को शिंकजे में ले लिया है। गिरफ़्तार किए गए आरोपितों के नाम हैं- सिराजुद्दीन, धर्मपाल, अमित कुमार, चेतन प्रकाश, मनरूप, मनोज कुमार और कृष्ण कुमार। मृतक के भाई राम सिंह तिवारी ने इस सभी आरोपितों के ख़िलाफ़ हत्या का मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने बताया कि आरोपितों ने विवाद के बाद विमल की पिटाई की और उसे फेंक दिया।

सातों आरोपितों को गिरफ़्तार करने के बाद उन्हें आज अदालत में पेश किया गया। अदालत ने सभी आरोपितों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योनि, मूत्रमार्ग, गुदा, मुँह में लिंग प्रवेश से ही रेप नहीं… जाँघों के बीच रगड़ भी बलात्कार ही: केरल हाई कोर्ट

केरल हाई कोर्ट ने कहा कि महिला के शरीर का कोई भी हिस्सा, चाहे वह जाँघों के बीच की गई यौन क्रिया हो, बलात्कार की तरह है।

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसे बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,048FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe