Saturday, June 22, 2024
Homeदेश-समाजदरगाह के पास फाँसी के फंदे से लटका मिला नूपुर शर्मा का पुतला, संवेदनशील...

दरगाह के पास फाँसी के फंदे से लटका मिला नूपुर शर्मा का पुतला, संवेदनशील है एरिया: बोले स्थानीय कॉर्पोरेटर – ये अफगानिस्तान नहीं

ये भी जानने लायक है कि जहाँ ये पुतला लटका हुआ पाया गया, वहाँ बसहिबान नाम का एक दरगाह भी स्थित है। ये घटना शुक्रवार (10 जून, 2022) की है।

कर्नाटक के बेलगावी में भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा का पुतला बीच सड़क पर फाँसी से फंदे से लटका हुआ मिला। ये घटना बेलगाम के फोर्ट रोड की है, जहाँ नूपुर शर्मा के पुतले को लटकाया गया था। इसके बगल में स्थित एक इमारत में कई माइकें लगी हुई दिख रही हैं और साथ ही हरे रंग का एक झंडा भी दिखाई दे रहा है। पुतले को साड़ी पहनाई गई थी और उस पर नूपुर शर्मा की तस्वीरें भी चस्पाई गई थीं।

ये भी जानने लायक है कि जहाँ ये पुतला लटका हुआ पाया गया, वहाँ बसहिबान नाम का एक दरगाह भी स्थित है। ये घटना शुक्रवार (10 जून, 2022) की है। पुलिस ने बताया कि रात के अंधेरे में पुतला लटकाने का काम किया गया। जैसे ही पुलिस के संज्ञान में ये घटना आई, इसे तुरंत हटाया गया। चूँकि ये सांप्रदायिक रूप से एक संवेदनशील क्षेत्र है, पुलिस ने शांति-व्यवस्था बनाए रखने के लिए बल की तैनाती बढ़ा दी है।

स्थानीय कॉर्पोरेटर शंकर पाटिल ने इस घटना के बारे में पुलिस को सूचना दी। स्थानीय हिन्दुओं एवं हिन्दू संगठनों ने इस मामले में कड़ी कार्रवाई की माँग की है। स्थानीय महानगरपालिका के निर्दलीय सदस्य शंकर पाटिल ने कहा कि ये अफगानिस्तान नहीं है, ऐसे में न्यायपालिका इसका निर्णय लेगी कि नूपुर शर्मा दोषी हैं या नहीं। उन्होंने कहा कि समाज में अशांति फैलाने के लिए बदमाशों ने ये काम किया है। उन्होंने आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई की माँग की।

पैगंबर मुहम्मद पर टिप्पणी का आरोप लगने के बाद नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल को लगातार हत्या की धमकियाँ मिल रही हैं। दोनों को भाजपा ने भी पार्टी से निलंबित कर दिया है। उधर नूपुर शर्मा को समर्थन देने वाले डच सांसद गीर्ट वाइल्डर्स ने कहा कि इस्लाम असहिष्णु है और इसकी विचारधारा दुनिया के लिए खतरा है। वाइल्डर्स ने कहा कि जो मुल्क अपने यहाँ के अल्पसंख्यकों की हत्या कर देते हैं और उन्हें जेल में डाल देते हैं, वे कानून द्वारा शासित एक लोकतांत्रिक देश से माफी की माँग करते हैं तो यह सबसे बड़ा पाखंड है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -