Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजओडिशा के DM ने बिगाड़ा सोनू सूद का खेल: जिसके लिए बेड अरेंज करने...

ओडिशा के DM ने बिगाड़ा सोनू सूद का खेल: जिसके लिए बेड अरेंज करने का लूटा श्रेय, वो होम आइसोलेशन में

गंजम के कलेक्टर और जिला मजिस्ट्रेट ने सोनू सूद के इस फर्जीवाड़े का खुलासा करते हुए ट्विटर पर प्रशासन के आधिकारिक अकाउंट के जरिए बताया कि जिस मरीज के लिए बेड अरेंज करने का दावा किया गया है वो मरीज स्टेबल कंडीशन में होम आइसोलेशन में है।

अभिनेता सोनू सूद के मददगार अवतार का एक और भांडा फूट गया है। ताजा मामले में अभिनेता सोनू सूद ने ओडिशा के बरहामपुर के गंजम सिटी अस्पताल में एक मरीज के लिए बिस्तर की व्यवस्था करने का दावा किया जिसपर गंजम के कलेक्टर और जिला मजिस्ट्रेट ने सोनू सूद के इस फर्जीवाड़े का खुलासा करते हुए ट्विटर पर प्रशासन के आधिकारिक अकाउंट के जरिए बताया कि जिस मरीज के लिए बेड अरेंज करने का दावा किया गया है वो मरीज स्टेबल कंडीशन में होम आइसोलेशन में है।

यह भी पता चला कि मरीज को दरअसल बिस्तर की जरूरत नहीं थी और इस मामले में बरहामपुर (ब्रह्मपुर) नगर निगम खुद स्थिति की निगरानी कर रहा है। बता दें कि बरहामपुर (Berhampur) को ब्रह्मपुर (Brahmapur) के नाम से भी जाना जाता है।

गौरतलब है कि अभिनेता सोनू सूद ने 15 मई को दावा किया था कि गंजम सिटी अस्पताल में किसी प्रदीप बेहरा के अनुरोध पर, उन्होंने उनके लिए एक बेड की व्यवस्था की गई थी। ट्विटर अकाउंट, जो कथित रूप से प्रदीप बेहरा का बताया जा रहा है, ने अपने पोस्ट में कहा था कि वह अपनी पत्नी के लिए एक बेड की तलाश कर रहे हैं, जिनके हालत लगातार बिगड़ती जा रही है लेकिन ऐसा करने में वह असहाय हैं।

फिलहाल, मदद के लिए अभिनेता सोनू सूद को किया गया ट्वीट तब से गायब है। ऐसा संदेह किया जा रहा है कि सोनू सूद वास्तव में किसी की मदद किए बिना भी कोविड -19 रोगियों के लिए मदद की व्यवस्था करने के लिए क्रेडिट का झूठा दावा कर रहे थे।

उन्होंने हाल ही में एक ट्विटर यूजर को प्लाज्मा की आपूर्ति करने के लिए क्रेडिट खाया था, जिसने एक मरीज के लिए उनसे मदद माँगी थी, लेकिन बाद में, ट्विटर यूजर ने खुद स्पष्ट किया कि उसके परिवार को ऐसी किसी व्यवस्था के बारे में कोई जानकारी नहीं थी।

एक अलग मामले में, अभिनेता सूद ने एक ऐसे मरीज के लिए बेड अरेंज करने का श्रेय लेने का दावा किया था, जो पहले ही बीमारी से मर चुका था। इस बीच यह बात भी सामने आई है कि सोनू सूद सोशल मीडिया पर खुद को कोविड रोगियों के लिए मसीहा के रूप में चित्रित करते हुए अपने आत्म-प्रशंसनीय पोस्ट साझा कर रहे हैं।

ऐसे पोस्टों में किसी में उन्हें भगवान हनुमान के रूप में चित्रित किया गया और किसी में भारत माता को उनकी सेवा के लिए उन्हें नमन करते हुए दिखाया गया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe