Saturday, May 25, 2024
Homeदेश-समाजछात्राओं को पकड़ उनके कपड़ों में हाथ डालता था, नर्सिंग इंस्टिट्यूट का डायरेक्टर परवेज...

छात्राओं को पकड़ उनके कपड़ों में हाथ डालता था, नर्सिंग इंस्टिट्यूट का डायरेक्टर परवेज आलम गिरफ्तार

नर्सिंग इंस्टिट्यूट में डायरेक्टर परवेज आलम छात्राओं के सब्र का इम्तिहान लेने के नाम पर उनका यौन शोषण करता था। वह पकड़ उनके कपड़ों में हाथ डालता था और...

झारखंड के खूँटी जिले में एक नर्सिंग इंस्टिट्यूट में छात्राओं के यौन शोषण का मामला सामने आया है। एक गैर सरकारी संगठन (NGO) द्वारा संचालित इस इंस्टिट्यूट के निदेशक पर आरोप लगा है कि उसने संस्थान में पढ़ने वाली कई छात्राओं का यौन शोषण किया।

पीड़ित छात्राओं के मुताबिक, इंस्टिट्यूट का डायरेक्टर परवेज आलम छात्राओं को पकड़ कर उनके कपड़ों में हाथ डालता था और यह काम वह पिछले काफी समय से कर रहा था। खबरों के अनुसार, आलम की घटिया हरकत का खुलासा उस समय हुआ, जब कुछ छात्राओं ने अपनी पीड़ा एक सामाजिक कार्यकर्ता से शेयर की।

छात्राओं की शिकायत पर सामाजिक कार्यकर्ता लक्ष्मी बखलों ने इस संबंध में राज्यपाल को चिट्ठी लिखी। बाद में ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर (BDO) के अधीन जाँच शुरू की गई और स्थानीय महिला थाने से एक टीम को इंस्टिट्यूट में भेजा गया। 

मामले की पुष्टि होने पर रिपोर्ट, खूँटी एसपी आशुतोष शेखर को भेज दी गई है। वहीं एनजीओ के डायरेक्टर को गिरफ्तार कर लिया गया है। पड़ताल में पता चला कि नर्सिंग इंस्टिट्यूट में परवेज छात्राओं के सब्र का इम्तिहान लेने के नाम पर उनका यौन शोषण करता था।

गौरतलब है कि कुछ साल पहले ऐसा ही आरोप लखनऊ के वजीरगंज इलाके स्थित मशहूर केके नर्सिंग संस्थान में डिप्लोमा का कोर्स कर रहीं लड़कियों ने संस्थान के प्रबंधन पर लगाया था। यौन शोषण के उस मामले का खुलासा करने के लिए एक लड़की ने स्टिंग ऑपरेशन किया था, जिसमें प्रबंधन से जुड़े एक अधिकारी की करतूतें सामने आईं थी।

लड़कियों ने बताया था कि उनके साथ डिग्री हासिल करने के लिए जोर-जबरदस्ती की जाती थी। मजबूरी के चलते कुछ लड़कियाँ प्रबंधन के दबाव में आ जाती थीं, लेकिन जिसे ये शर्त मंजूर नहीं होती, उसे इस हद तक परेशान किया जाता कि उसके पास समर्पण करने के अलावा कोई विकल्प नहीं होता था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

18 साल से ईसाई मजहब का प्रचार कर रहा था पादरी, अब हिन्दू धर्म में की घर-वापसी: सतानंद महाराज ने नक्सल बेल्ट रहे इलाके...

सतानंद महाराज ने साजिश का खुलासा करते हुए बताया, "हनुमान जी की मोम की मूर्ति बनाई जाती है, उन्हें धूप में रख कर पिघला दिया जाता है और बच्चों को कहा जाता है कि जब ये खुद को नहीं बचा सके तो तुम्हें क्या बचाएँगे।""

‘घेरलू खान मार्केट की बिक्री कम हो गई है, इसीलिए अंतरराष्ट्रीय खान मार्केट मदद करने आया है’: विदेश मंत्री S जयशंकर का भारत विरोधी...

केंद्रीय विदेश मंत्री S जयशंकर ने कहा है कि ये 'खान मार्केट' बहुत बड़ा है, इसका एक वैश्विक वर्जन भी है जिसे अब 'इंटरनेशनल खान मार्केट' कह सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -