Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजदक्षिण भारत में PM मोदी: साउथ को दिया पहला वंदे भारत ट्रेन, ₹500 करोड़...

दक्षिण भारत में PM मोदी: साउथ को दिया पहला वंदे भारत ट्रेन, ₹500 करोड़ वाला एयरपोर्ट टर्मिनल और ‘स्टैच्यू ऑफ प्रोस्परिटी’ भी सौंपा

प्रधानमंत्री ने प्रतिमा की तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा, "बेंगलुरु के निर्माण में श्री नादप्रभु केम्पेगौड़ा की भूमिका अद्वितीय है। उन्हें एक दूरदर्शी के रूप में याद किया जाता है, जो हमेशा लोगों के कल्याण को हर चीज से ऊपर रखते हैं। बेंगलुरू में 'स्टैच्यू ऑफ प्रोस्परिटी' का उद्घाटन कर सम्मानित हुआ।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Pm Narendra Modi) शुक्रवार (11 नवंबर 2022) को कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के दौरे पर हैं। दक्षिण भारत के दो दिवसीय इस दौरे के दौरान प्रधानमंत्री कई परियोजनाओं का उद्धाटन किया। पीएम ने तमिलनाडु में एक संस्थान के दीक्षांत समारोह को भी संबोधित किया।

अपने दौरे के पहले पहले दिन पीएम मोदी ने बेंगलुरु के कैम्पागौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के टर्मिनल का उद्घाटन किया और 25,000 करोड़ रुपए से अधिक की विकास परियोजनाओं को लॉन्च किया। इस दौरान उन्होंने बेंगुलरु में ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ को भी हरी झंडी दिखाई। यह दक्षिण भारत की पहली वंदे भारत एक्सप्रेस है।

प्रधानमंत्री के दौरे का पहला पड़ाव कर्नाटक रहा। उन्होंने शुक्रवार की सुबह बेंगलुरु में राज्य सचिवालय विधान सौध में संत-कवि कनक दास और महर्षि वाल्मीकि की प्रतिमाओं पर पुष्पांजलि अर्पित कर अपने कार्यक्रम की शुरुआत की। इसके बाद वे क्रांतिवीर संगोली रायन्ना (KCR) रेलवे स्टेशन गए और वहाँ मैसूर-चेन्नई वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई। यह देश की पाँचवीं वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन है और दक्षिण भारत में पहली ट्रेन है।

इस दौरान प्रधानमंत्री ने ‘भारत गौरव काशी दर्शन’ ट्रेन को भी हरी झंडी दिखाकर शुभारंभ किया। इस तरह भारत गौरव योजना के तहत इस ट्रेन को चलाने वाला कर्नाटक पहला राज्य बन गया है। इस योजना के तहत तीर्थ यात्रियों को काशी का दर्शन कराने के लिए कर्नाटक सरकार और रेल मंत्रालय मिलकर काम कर रहे हैं।

इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने बेंगलुरु शहर के संस्थापक कहे जाने वाले नादप्रभु कैम्पेगौड़ा की 108 फीट ऊँची कांस्य प्रतिमा का अनावरण किया। इस प्रतिमा को ‘स्टैच्यू ऑफ प्रोस्परिटी’ का नाम दिया गया है। प्रधानमंत्री ने प्रतिमा की तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा, “बेंगलुरु के निर्माण में श्री नादप्रभु केम्पेगौड़ा की भूमिका अद्वितीय है। उन्हें एक दूरदर्शी के रूप में याद किया जाता है, जो हमेशा लोगों के कल्याण को हर चीज से ऊपर रखते हैं। बेंगलुरू में ‘स्टैच्यू ऑफ प्रोस्परिटी’ का उद्घाटन कर सम्मानित हुआ।”

इसके बाद प्रधानमंत्री ने बेंगलुरु के कैम्पागौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर 5000 करोड़ रुपए की लागत से बने टर्मिनल-2 का उद्घाटन किया। टर्मिनल-2 को बेंगलुरु के गार्डन सिटी के लिए एक श्रद्धांजलि के रूप में डिज़ाइन किया गया है। यहाँ से होकर गुजरने वाले यात्रियों को ‘बगीचे में चलना’ अनुभव मिलेगा। यात्री 10,000 वर्ग मीटर से अधिक की हरी दीवारों, लटकते बगीचों और बाहरी गार्डन से होकर गुजरेंगे। इस गार्डन को बनाने में स्वदेशी तकनीक का उपयोग किया गया है।

इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तमिलनाडु पहुँचे, जहाँ मुख्यमंत्री एमके स्टालिन उनका स्वागत किया। पीएम मोदी ने गाँधीग्राम ग्रामीण संस्थान के 36वें दीक्षांत समारोह को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि गाँधीग्राम का उद्घाटन खुद महात्मा गाँधी ने किया था। ग्रामीण विकास के उनके विचारों की भावना को यहाँ देखा जा सकता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

रेड सिग्नल पार करने वाली ट्रेनों को भी रोक देता है कवच, फिर क्यों कंचनजंगा एक्सप्रेस से भिड़ गई मालगाड़ी: जानिए सब कुछ

न्यू जलपाई गुड़ी में हुए रेल हादसे के बाद कवच पर चर्चा चालू हो गई है। जिस रूट पर हादसा हुआ है, वहाँ अभी कवच सिस्टम नहीं लगा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -