Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाज'दल्ला पुलिस': पिंजरा तोड़ की देवांगना की गिरफ्तारी से दिल्ली पुलिस पर भड़के प्रशांत...

‘दल्ला पुलिस’: पिंजरा तोड़ की देवांगना की गिरफ्तारी से दिल्ली पुलिस पर भड़के प्रशांत भूषण

पिंजरा तोड़ के सदस्यों ने 22 फरवरी की शाम को नागरिकता संशोधन एक्ट (सीएए) के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन के लिए स्थानीय निवासियों को भड़काया और उन्हें जाफराबाद मेट्रो स्टेशन पर इकट्ठा होने के लिए कहा। पूछताछ में खुलासा हुआ था कि नताशा और देवांगना ने लोगों को भड़काने के लिए पूरी रणनीति तैयार की थी।

सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने दिल्ली पुलिस के लिए आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया है। प्रशांत भूषण ने प्रोपेगेंडा पोर्टल ‘द वायर’ की एक ख़बर पर प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली पुलिस को ‘दल्ला पुलिस’ बताया है। ‘द वायर’ की उस ख़बर में कहा गया था कि दिल्ली पुलिस ने जेएनयू में पढ़ने वाली एमफिल की छात्रा देवांगना कलिता को पिछले 10 दिनों के भीतर तीसरी बार गिरफ़्तार किया है। अबकी क्राइम ब्रांच ने ये कार्रवाई की।

इसी ख़बर से प्रशांत भूषण भड़क गए। बता दें कि देवांगना कुख्यात संगठन ‘पिंजरा तोड़‘ की कार्यकर्ता है, जो दिल्ली में हुए हिन्दू-विरोधी दंगों के दौरान लोगों को भड़काने और महिलाओं को उकसा कर सड़क जाम करवाने में लगी हुई थी। देवांगना को तीन दिनों के लिए पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया है, जिससे प्रशांत भूषण को मिर्ची लग गई। दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने भी लोगों का ध्यान इस तरफ आकृष्ट कराया कि प्रशांत भूषण दिल्ली पुलिस के लिए कैसी भाषा का प्रयोग कर रहे हैं।

देवांगना को इससे पहले उसकी साथी नताशा नरवाल के साथ 23 मई को गिरफ़्तार किया गया था। जमानत मिलने के बाद 28 मई को देवांगना को फिर गिरफ्तार किया गया। इस तरह से गिरफ़्तारी होने के बाद उसे 10 दिनों में तीसरी बार पुलिस ने शिकंजे में लिया है। देवांगना जाफराबाद में हिंसा फैलाने में लगी हुई थी। इससे पहले पुलिस ने 14 दिनों की कस्टडी माँगी थी, लेकिन 2 दिन की ही मिली। देवांगना के खिलाफ हत्या का प्रयास, आपराधिक साज़िश और दंगे फैलाने के आरोप हैं।

पिंजरा तोड़ के सदस्यों ने 22 फरवरी की शाम को नागरिकता संशोधन एक्ट (सीएए) के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन के लिए स्थानीय निवासियों को भड़काया और उन्हें जाफराबाद मेट्रो स्टेशन पर इकट्ठा होने के लिए कहा। पूछताछ में खुलासा हुआ था कि नताशा और देवांगना ने दूसरे समुदाय को भड़काने के लिए पूरी रणनीति तैयार की थी। नताशा और देवांगना ने साजिश रच के 66 फूटा सड़क को ठप्प करवाया था। इन्होंने कई अन्य इलाकों में घूम-घूम कर लोगों को भड़काया और दंगों में भाग लेने को उकसाया।

बता दें कि ‘पिंजरा तोड़’ शुरू किया गया था हॉस्टल की समस्याओं को लेकर। लेकिन अब यह पूरी तरह से डीयू में वामपंथी प्रोपेगेंडा का महिला ब्रिगेड बन कर खड़ा हो चुका है जो हर उस विषय पर भीड़ की शक्ल लेकर पहुँच जाता है, जो वामपंथियों के वृहद एजेंडे का हिस्सा है। आप इनके फेसबुक पोस्ट्स को खँगालेंगे तो ‘पिंजरा तोड़’ की नेत्रियाँ दिल्ली के हिन्दू विरोधी दंगों की पूरी आधारशिला रखती प्रतीत होती हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसी बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,029FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe