Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाज'महापंचायत में खलल पड़ी तो पीएम मोदी और सीएम योगी को यूपी में कदम...

‘महापंचायत में खलल पड़ी तो पीएम मोदी और सीएम योगी को यूपी में कदम नहीं रखने देंगे’: राकेश टिकैत ने दी धमकी

टिकैत ने 'एक भूल, कमल का फूल' नारा दिया। इस नारे को विस्तार से समझा जाय तो इसका मतलब यह है कि लोगों को दोबारा से बीजेपी को वोट देने की गलती नहीं करनी चाहिए।

केंद्र सरकार द्वारा पारित किए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन लगातार जारी है और 26 नवंबर 2021 को इसके एक साल भी पूरे हो जाएँगे। इसके अलावा अगले साल यूपी में विधानसभा चुनाव भी होने हैं। जिसके मद्देनजर किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश की है। टिकैत ने धमकी दी है कि 22 नवंबर को लखनऊ में होने वाली किसान महापंचायत में किसी भी तरह का व्यवधान उत्पन्न होता है तो वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश में पैर नहीं रखने देंगे

गढ़ मुक्तेश्वर के कार्तिक मेले में हिस्सा लेने पहुँचे टिकैत बीजेपी पर जोरदार निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि बीजेपी को चुनना एक गलती थी यूपी के लोगों को कमल के फूल को खत्म कर देना चाहिए।

टिकैत ने ‘एक भूल, कमल का फूल’ नारा दिया। इस नारे को विस्तार से समझा जाय तो इसका मतलब यह है कि लोगों को दोबारा से बीजेपी को वोट देने की गलती नहीं करनी चाहिए।

अपने समर्थकों के साथ कार्तिक मेले में पहुँचे टिकैत ने मेले में समारोह के लिए बने मंच का इस्तेमाल अपनी राजनीतिक पिपाशा को शांत करने के लिए किया। उन्होंने मंच से भड़काऊ भाषण दिया। जब इसको लेकर उनसे यह पूछा गया कि अपनी राजनीति चमकाने के लिए वह कार्तिक मेले का इस्तेमाल क्यों कर रहे हैं तो उन्होंने कहा, “मैं राजनीति के बारे में और कहाँ बात करूँगा? यदि मैंने राजनीतिक बयान दिया है तो आप मेरे खिलाफ केस दर्ज करने के लिए स्वतंत्र हैं। अगर कोई राजनीतिक बयान नहीं सुनना चाहता तो वो हमारी बैठकों में क्यों आ रहे हैं?” उल्लेखनीय है कि कार्तिक मेला बहुत ही प्रसिद्ध मेला है, जिसमें बड़ी संख्या में पश्चिमी उत्तर प्रदेश से लोग पहुँचते हैं।

उन्होंने राज्य की योगी सरकार को धमकी भी दी। टिकैत ने कहा, “उन्हें उत्तर प्रदेश में कई और जगहों का दौरा करने की आवश्यकता है। अगर वे लखनऊ में महापंचायत में खलल डालने की कोशिश करेंगे तो न तो प्रधानमंत्री और न ही मुख्यमंत्री यूपी में उतर पाएँगे। विधानसभा चुनाव की तरफ इशारा करते हुए टिकैत ने कहा कि सीएम अपनी रैलियाँ कर रहे हैं और हम अपनी रैलियाँ कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव

अगले साल 2022 की शुरुआत में ही उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होना तय है। इसी के मद्देनजर राजनीतिक पार्टियों ने प्रचार करना शुरू कर दिया है। चूँकि उत्तर प्रदेश जनसंख्या की दृष्टि से देश का सबसे बड़ा राज्य है, इसलिए यह लोकसभा चुनाव में इसकी काफी अहमियत होती है। यूपी चुनाव के रिजल्ट राजनीतिक पार्टियों को 2024 के लिए एजेंडा तय करने में मदद करते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -